Sunday, March 9, 2014

कीचड़ रहे उछाल.......



एक दूसरे पर सभी,कीचड़ रहे उछाल। 

ऊपर वाले इस तरफ,एक नज़र तो डाल।।

-कुँवर कुसुमेश 

6 comments:

  1. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति .बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (10-03-2014) को आज की अभिव्यक्ति; चर्चा मंच 1547 पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. होली आने वाली है ..........

    ReplyDelete
  4. ऊपर वाला अभी देख रहा है ... उसकी चाल का जवाब किसी के पास नहीं होगा ...

    ReplyDelete