Monday, March 19, 2012

फूल के नाम पे काँटे ही मिले हैं अब तक......




कुँवर कुसुमेश 

फूल के नाम पे काँटे ही मिले हैं अब तक.
और हम हैं कि उमीदों पे टिके हैं अब तक.

दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.

चाहता हूँ कि कहूँ और भी अशआर 'कुँवर'
पर इसी शेर में लिल्लाह फँसे हैं अब तक.
*****
दौरे-हाज़िर=वर्तमान समय,   क़ाबिले-कुर्सी=कुर्सी के योग्य.
गर्दिशे-अय्याम=संकट के दिन 

67 comments:

  1. सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  2. वाह!!!!!

    बहुत खूब ....बेहतरीन गज़ल..
    सादर.

    ReplyDelete
  3. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    एकदम सटीक

    ReplyDelete
  4. पर इसी शे'र में लिल्लाह फँसे हैं अब तक!!

    ReplyDelete
  5. फूल के नाम पे काँटे ही मिले हैं अब तक.
    और हम हैं कि उमीदों पे टिके हैं अब तक.
    बहुत सुंदर पोस्ट
    my resent post


    काव्यान्जलि ...: अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत रचना। कुछ तो ये भी जालिम है कुछ हमे मरने का शौक भी

    ReplyDelete
  7. रची उत्कृष्ट |
    चर्चा मंच की दृष्ट --
    पलटो पृष्ट ||

    बुधवारीय चर्चामंच
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.
    ....बहुत मर्मस्पर्शी और भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.
    .........सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. कुसुमेश जी आपकी रचना का बहुत दिनों से इंतेज़ार था|

    ###########
    दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.
    ###########
    उत्तर प्रदेश की मौजूदा हालत पर आपके ये शेर बिल्कुल सटीक हैं|
    ###########
    फूल के नाम पे काँटे ही मिले हैं अब तक.
    और हम हैं कि उमीदों पे टिके हैं अब तक.
    ############
    ये शेर एक तरफ मोहब्बत की बात कहता है, दूसरी ओर समाज के प्रति राजनेताओं की जवाबदेही की उम्मीद|

    ##########
    क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.
    ###########
    ये शेर अभी भी उम्मीद बँधे होने की बात कहता है.

    ########
    चाहता हूँ कि कहूँ और भी अशआर 'कुँवर'
    पर इसी शेर में लिल्लाह फँसे हैं अब तक.
    ###########

    इस शेर पर बस इतना कहना है............
    दर्द इतना है की अब सहा नहीं जाता;
    बयाँ करें कैसे,ज़ुबाँ से कहा नहीं जाता.

    ReplyDelete
  11. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.
    Bahut,bahut sundar!

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना... हर शेर जानदार...

    ReplyDelete
  13. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    सुभान अल्लाह...इस खूबसूरत ग़ज़ल के लिए दाद कबूल करें

    नीरज

    ReplyDelete
  14. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    इस शेर से राजा भय्या की याद आ गयी .... अखिलेश जी ने अपने मंत्रिमंडल में रखा हुआ है ...

    कुछ टिमटिमाते दीपक ही हैं जो रोशनी दिखाते रहते हैं ... बहुत खूबसूरत गजल है ...

    ReplyDelete
  15. क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.
    बस एक वो हंसी है जिसके सहारे उमर कट जाती है - हंसते-हंसते!
    मन को छू गई ये पंक्तियां और यह ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  16. खुदा की रहमत है कि आप यूँ ही शेर में फंसा करें और बेहतरीन रचा करें .

    ReplyDelete
  17. अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति
    कल 21/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... मुझे विश्‍वास है ...

    ReplyDelete
  18. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    बहुत खूबसूरत गज़ल हर शेर मुकम्मल्।

    ReplyDelete
  19. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    .....बहुत खूब! बहुत ख़ूबसूरत गज़ल ....

    ReplyDelete
  20. वाह वाह and वाह वाह..
    can never stop saying this :D
    two exactly opposite emotions in a single couplet
    Fantastic read !!

    ReplyDelete
  21. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.
    बहुत ही सुंदर शायरी है ....
    जबरदस्त ...!

    ReplyDelete
  22. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    हर शेर लाज़वाब... आभार

    ReplyDelete
  23. हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.....

    वाह! सर.... शानदार ग़ज़ल...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  24. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.
    मेरी पसंद का शेर !
    आपने अपनी ग़ज़लों में हमेशा सच्चाई को जीया है
    आभार !

    ReplyDelete
  25. वाह जी...क्या बात है...बहुत उम्दा गज़ल!!

    ReplyDelete
  26. Nice poem .
    http://aryabhojan.blogspot.in/2012/03/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  27. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    बहुत सुन्दर रचना... आभार.

    ReplyDelete
  28. दौरे-हाज़िर ने उसे काबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    यही सच्चाई है, इस दौर की।
    ग़ज़लगोई में आपका जवाब नहीं।

    ReplyDelete
  29. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक...

    सच तो यही है की बुराई जितनी भी आ जाये .... अच्छाई पे कम ही पढ़ती है .. कोई दिया तो रह ही जाता है जलता हुवा रौशनी के लिए ...
    लाजवाब गज़ल है ...

    ReplyDelete
  30. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.

    बहुत खूब .इस दौर की राजनीति का प्रक्षेपण है यह ग़ज़ल .
    इस शैर को -


    'लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.'

    पढके अन्ना जी की याद आगई .

    ReplyDelete
  31. चाहता हूँ कि कहूँ और भी अशआर 'कुँवर'
    पर इसी शेर में लिल्लाह फँसे हैं अब तक.

    इस स्तिथि से अक्सर दो चार होना पड़ता है .....रचना उम्दा है !

    ReplyDelete
  32. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.


    बेहद शानदार लाजवाब गज़ल .....

    ReplyDelete
  33. हर शेर मुकम्मल....

    "चाहता हूँ कि कहूँ और भी अशआर 'कुँवर'
    पर इसी शेर में लिल्लाह फँसे हैं अब तक."

    बहुत खूब.....
    अब इसके बाद क्या कहूँ.....!!

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन अशआर हैं सभी!
    आभार..
    "दिये" को सही करके "दीये" कर लें..

    ReplyDelete
  35. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.
    बहुत जानलेवा शेर है ये आपकी ग़ज़ल का। उस्तादी झाँक रही है गज़ल के हर एक शेर से .. कभी तशरीफ लाएँ गरीबखाने में

    ReplyDelete
  36. खूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  37. दौरे-हाज़िर ने उसे क़ाबिले-कुर्सी माना,
    हाथ जिस जिस के गुनाहों में सने हैं अब तक.. इस ग़ज़ल का सबसे सुंदर शेर

    ReplyDelete
  38. bahut hi sundar rachna,bdhaai aap ko

    ReplyDelete
  39. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    hausle ko buland karne wala sher..umda gazal

    ReplyDelete
  40. इस ग़ज़ल का हर एक शेर नगीना है .... इस मक्ते की जितनी दाद दी जाये उतनी ही कम....

    चाहता हूँ कि कहूँ और भी अशआर 'कुँवर'
    पर इसी शेर में लिल्लाह फँसे हैं अब तक.

    ReplyDelete
  41. सर जी बहुत ही सुन्दर !

    ReplyDelete
  42. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.very nice......

    ReplyDelete
  43. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    Khoob Kaha....

    ReplyDelete
  44. हैं आँधियां आईं हर दौर में लाखों
    है आस में जीता,शायर अब तक

    ReplyDelete
  45. बहुत ही सुन्दर रचना....
    सुन्दर भाव अभिव्यक्ति :-)

    ReplyDelete
  46. सार्थक पोस्ट ..!
    नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  47. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,

    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    जिजीविषा थकती नहीं है .....हर अश आर अपनी आंच असर लिए है .

    कृपया यहाँ भी आयें - ram ram bhai

    बुधवार, 21 मार्च 2012
    गेस्ट आइटम : छंदोबद्ध रचना :दिल्ली के दंगल में अब तो कुश्ती अंतिम होनी है .

    ReplyDelete
  48. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  49. सुन्दर प्रस्तुति..बहुत-बहुत बधाई । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  50. क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.
    bahut sundar rachna ....der se aana hua,

    ReplyDelete
  51. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  52. बहुत सुन्दर गज़ल..और आज की स्तिथि पर भी.. वाह कुश्मेश जी..

    ReplyDelete
  53. अपने मन के भावों को प्रकट करने का यह तरीका अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  54. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    लाजवाब...

    ReplyDelete
  55. वाह ! ! ! ! ! बहुत खूब सुंदर रचना,बेहतरीन भाव प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,
    MY RECENT POST ...फुहार....: बस! काम इतना करें....

    ReplyDelete
  56. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    आपकी गज़लगोई का कोई जबाब नहीं.

    बेहतरीन प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  57. क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब तक.
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  58. लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.

    क्या कहूँ गर्दिशे-अय्याम तुझे इसके सिवा,
    तेरी चाहत के हँसी फूल खिले हैं अब त.....sacchai to phir sacchai hoti hai..agar noor sachha hai to aandhiya use bujha nahi sakti hain..kahin jindagi kee hakeekat...kahin roomaniyat..kahin mashwira....har sher dil ko choone wala hai

    ReplyDelete
  59. कुश्मेश जी.. देर से आने के लिये माफी चाहुँगी....आप की गजल पढ़ी बहुत ही सुन्दर लिखा है..........लाख आँधी ने चराग़ों को बुझाना चाहा,
    टिमटिमाते हुए कुछ फिर भी दिये हैं अब तक.....बहुत खूब..

    ReplyDelete