Wednesday, April 11, 2012

मौसम तुनक मिज़ाज



कुँवर कुसुमेश 

प्रतिदिन होता जा रहा,मौसम तुनक मिज़ाज.
मानो गिरने जा रही, हम पर कोई गाज.

पर्यावरण असंतुलन,सहन न करती सृष्टि.
इसके कारण ही दिखे,अनावृष्टि-अतिवृष्टि. 

संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.

पर्यावरण उपेक्षा,पहुँचाये नुकसान.
असमय अपने काल को,बुला रहा इन्सान.

नित बढ़ता शहरीकरण, और वनों का ह्रास.
धीरे धीरे कर रहा,प्रकृति संतुलन नाश.

प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.
*****

62 comments:

  1. बिलकुल सही कहा है ... प्रकृति का संतुलन गड़बड़ा रहा है ....कब मौसम पलट जाये कुछ पता नहीं चलता ...

    ReplyDelete
  2. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.

    वाह .. बहुत बढिया !!

    ReplyDelete
  3. एक सच्चाई बयां की है आपने...... अभी भी वक्त है सुधरने का ....

    ReplyDelete
  4. पर्यावरण पर आपका कलाम शानदार है।
    कम ब्लॉगर हैं जो हिंदी ब्लॉगिंग को अच्छे विचार दे पा रहे हैं।
    वर्ना तो ...
    हिंदी ब्लॉगिंग की दुर्दशा के लिए ज़िम्मेदार दिल्ली के ब्लॉगर्स

    ReplyDelete
  5. अभी अभी समाचार मिला कि इण्डोनेशिया या बंगाल की खाडी में भूकम्प आया।

    पर्यावरण पर आपकी रचनाएँ सदैव सार्थक होती है।

    पर्यावरण उपेक्षा,पहुँचाये नुकसान.
    असमय अपने काल को,बुला रहा इन्सान.

    ReplyDelete
  6. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.
    Badi pate kee baat kahee hai aapne! Kaash ispe amal ho!

    ReplyDelete
  7. बहुत सही कहा है आपने ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  8. पर्यावरण जागरूकता का संदेश देती....
    बहुत सुंदर और सार्थक पोस्ट.

    सादर.

    ReplyDelete
  9. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.
    सही कहा है आपने अभी भी वक़्त है कुछ करने का वर्ना तबाही के सिवा कुछ हाथ नहीं आने वाला... जागरूक करती रचना... आभार

    ReplyDelete
  10. संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
    बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.

    sahi kaha aapne .....

    ReplyDelete
  11. संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
    बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.
    बहुत सुन्दर बात कही है कुसुमेश जी आपने.

    ReplyDelete
  12. kavi aur shayer kee samaj ke uthan ke mahtwapurna bhumika ka nirbahan kar rahi hai aapki yah rachna..sadar badhayee aaur apne blog par amantran ke sath

    ReplyDelete
  13. सही बात है |

    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    आभार ||

    ReplyDelete
  14. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.
    जागरूकता का संदेश देती सार्थक पोस्ट.....

    ReplyDelete
  15. आपके पर्यावरण के दोहे इतने सार्गर्भित होते हैं कि न सिर्फ़ मैं पढ़ता हूं, बल्कि इसका प्रिंट आउट लेकर अन्य लोगों में बांटता भी हूं। सरकार को इन दोहों को नारों के रूप में रयोग करना चाहिए।

    ReplyDelete
  16. भाई
    बातें एकदम सही....
    कलम भी चली सही..
    नापसंदगी का सवाल नहीं..
    वक्त के अनुरूप विषय का चयन
    साधुवाद
    सादर
    यशोदा

    ReplyDelete
  17. तो फिर पर्यावरण को करिए नहीं तबाह।
    नाइस पोस्ट बेहतर सीख देती हुई

    ReplyDelete
  18. प्रकृति से खिलवाड होगा तो उसका क्रोध भी सहना होगा …………सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर सृजन, सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. उपयोगी संदेश देते हुए प्रेरक दोहे।

    ReplyDelete
  21. सार्थक रचना .......कल के बदले मौसम पर सही से फिट हैं

    ReplyDelete
  22. सार्थक सन्देश देती सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  23. प्रभावशाली रचना.....

    ReplyDelete
  24. पर्यावरण उपेक्षा,पहुँचाये नुकसान.
    असमय अपने काल को,बुला रहा इन्सान.
    sahi kah rahe hai sir....

    ReplyDelete
  25. पर्यावरण असंतुलन,सहन न करती सृष्टि.
    इसके कारण ही दिखे,अनावृष्टि-अतिवृष्टि.

    बेहतरीन भाव पुर्ण दोहे ,बहुत सुंदर कोमल अभिव्यक्ति,लाजबाब प्रस्तुति,....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  26. bahut hi saarthak dohe hain. prakriti ka prakop badhne ka yahi to karan hai.

    ReplyDelete
  27. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12 -04-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .....चिमनी पर टंगा चाँद .

    ReplyDelete
  28. सार्थक पोस्ट !

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छा लगा कि आपने नीति के उन्हीं उपदेशों से ऊपर उठकर सामयिक समस्या पर्यावरण को अपने दोहों का विषय बनाया ,और इस पुराने लघु छन्द को नवीनता से रंजित किया !

    ReplyDelete
  30. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    .......सच्चाई बयां की है आपने रचना के लिए बधाई स्वीकारें !!!!

    ReplyDelete
  31. हमारे साँसों की नव्ज़ जिस पर्यावरण और पारितंत्रों से जुडी है उसके संरक्षण और पोषण के प्रति एक बे -चैनी आपकी पर्यावरणी रचनाओं में साफ़ उभर कर आती है .सटीक विश्लेषण और इस सर्व नाश की उत्प्रेरक तत्व भी .

    ReplyDelete
  32. अतिसुन्दर कुसुमेश जी जागरूक करते दोहे हमे पर्यावरण की सुरक्षा की और सबका ध्यान दिलाना चाहिए वर्ना आने वाली मुसीबतों के लिए तैयार रहें

    ReplyDelete
  33. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.

    सार्थक सन्देश देती सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  34. पर्यावरण उपेक्षा,पहुँचाये नुकसान.
    असमय अपने काल को,बुला रहा इन्सान.ye bat kab samjhega insan...

    ReplyDelete
  35. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा - 847:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  36. प्रकृति का संतुलन गड़बड़ा रहा है .हमें सावधान रहना चाहिए..सार्थक संदेश देती.बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  37. करिए नहीं तबाह अगर हो जीना आगे
    मानुस जनम अकारथ कर न बनें अभागे

    ReplyDelete
  38. संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
    बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.
    ...और इसकी सबसे बड़ी वजह हम हैं .....पृथ्वी सबकी ज़रुरत पूरी कर सकती है ....सबका लोभ नहीं ...और लोभी मनुष्य ने हर जगह अतिक्रमण किया .....और कर रहा है .....प्रेरित करती रचना

    ReplyDelete
  39. संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
    बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.

    अनुपम भाव लिए सुंदर दोहे ...बेहतरीन पोस्ट .

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  40. पर्यावरण पर सुंदर प्रस्तुति ...!!
    शुभकामनायें ....!!

    ReplyDelete
  41. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  42. ust perfect..
    your concern for climate is fantastically reflected

    ReplyDelete
  43. चंद लोगों की लोलुपता और लालच के कारण करोड़ों बेगुनाह लोगों को इसका मुआवजा अपनी जान दे कर देना पड़ेगा :(

    ReplyDelete
  44. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.sahi kah rahe hain......

    ReplyDelete
  45. पर्यावरण उपेक्षा,पहुँचाये नुकसान.
    असमय अपने काल को,बुला रहा इन्सान.

    बहुत सही कहा है...

    ReplyDelete
  46. बहुत बढ़िया..उम्दा!

    ReplyDelete
  47. खूबसूरत दोहे...पर्यावरण संरक्षण पर...बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  48. पर्यावरण असंतुलन,सहन न करती सृष्टि.
    इसके कारण ही दिखे,अनावृष्टि-अतिवृष्टि.
    BEAUTIFUL LINES BASED ON ATOMOSPHERE
    AND HUMAN BEING.NICE LINES.

    ReplyDelete
  49. पर्यावरण असंतुलन,सहन न करती सृष्टि.
    इसके कारण ही दिखे,अनावृष्टि-अतिवृष्टि.

    Steek Panktiyan....

    ReplyDelete
  50. सामयिक संदेश लिए बहुत ही सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  51. पर्यावरण को तबाह करके धरती पर नहीं जीया जा सकता. बहुत सुंदर दोहे.

    ReplyDelete
  52. आपकी पोस्ट को ब्लॉगर्स मीट वीकली 39 में देखा जा रहा है।
    सूचनार्थ लिंक प्रेषित है-
    http://hbfint.blogspot.in/2012/04/39-nirmal-baba-ki-tisri-aankh.html

    ReplyDelete
  53. पर्यावरण की चिंता हमेशा ही आपकी गज़लों और दोनों में नज़र आती है ... ये दोहे भी इस क्रम के अंक हैं ... बहुत लाजवाब ...

    ReplyDelete
  54. paryavaran par saarthak sandesh deti sundar rachna....

    ReplyDelete
  55. पर्यावरण असंतुलन,सहन न करती सृष्टि.
    इसके कारण ही दिखे,अनावृष्टि-अतिवृष्टि.

    संघटकों का प्रकृति के,बिगड़ गया अनुपात.
    बिगड़ रहे हैं इसलिए दिन पर दिन हालात.

    Kushmesh ji ap ne to bahut hi sarthak rachana likhi hai bilkul ythrth ki kasuti pr sangrhneey rachana ...sadar badhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कृपया मेरी १५० वीं पोस्ट पर पधारने का कष्ट करें , अपनी राय दें , आभारी होऊंगा .

      Delete
  56. प्राणदायिनी वायु की,अगर आपको चाह.
    तो फिर पर्यावरण को,करिये नहीं तबाह.

    पर्यावरण का संरक्षण आने वाली पीढ़ियों के सुखद भविष्य के लिये अब अनिवार्य है. कोई दूसरा विकल्प है ही नहीं.

    बहुत बधाई इस सार्थक लेखन के लिये.

    ReplyDelete
  57. वाह!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति,..प्रभावी दोहे ..

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: गजल.....

    ReplyDelete