Friday, July 27, 2012

तुलसी रस का व्याधि में सर्वोत्तम उपयोग




कुँवर कुसुमेश 

ज्वर-जुकाम-कृमि-नासिका,या हो खासी रोग.

तुलसी रस का व्याधि में,सर्वोत्तम उपयोग.

सर्वोत्तम उपयोग,बिना पैसे घर चंगा.

निर्धनता भी डाल न पाए कोई अड़ंगा.

क्यारी या गमले में तुलसी रखें लगाकर.

पास न आने दें जुकाम-हिचकी-खासी-ज्वर.

28 comments:

  1. बहुत बढ़िया.....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. तुलसी मेरे आंगन की..सच है..तुलसी से बढ़ कर और कुछ दवा नहीं है..

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्‍तुति ...

    आभार

    ReplyDelete
  4. उपयोगी संदेश देती महत्वपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत संदेश देती प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. भाई , आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए पहले तो क्षमा चाहता हूँ. कुछ ऐसी व्यस्तताएं रहीं के मुझे ब्लॉग जगत से दूर रहना पड़ा...अब इस हर्जाने की भरपाई आपकी सभी पुरानी रचनाएँ पढ़ कर करूँगा....कमेन्ट भले सब पर न कर पाऊं लेकिन पढूंगा जरूर

    बहुत रोचक और लाभ दायक पोस्ट है आपकी...

    ReplyDelete
  7. वाह! संदेश के साथ क्या खूबसूरत कुण्डलिया सर...
    सादर बधाई स्वीकारें...

    ReplyDelete
  8. संदेशपूर्ण रचना ...
    साभार !!

    ReplyDelete
  9. उपयोगी तुलसी का गुणगान .....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (29-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  11. कुण्डलिया से उपयोगी सन्देश देती तुलसी की व्याख्या .

    ReplyDelete
  12. Tulsi waqayi badee upyukt wanaspati hai.

    ReplyDelete
  13. तुलसी का रस पीजिए, सदा करें उपयोग
    जुकाम-खासी-ज्वर से, हमेशा रखे निरोग,,,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  14. याद रखने योग्य कुंडली।

    बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  15. आज 30/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. भाई साहब रचना तो उत्कृष्ट है ही संस्कृति तत्वों से संसिक्त मौके पे आपने पढवाई जुकाम क्या यहाँ तो स्थिति साइनस से भी ज्यादा बिगड़ी हुई है गले में दुखन है सो अलग याद आया उत्तम का तुलसी पाउडर है घर में इंडियन स्टोर आनंद से लिया गया था फ़ौरन तुलसी की चाय पी फिल वक्त अदरक ,कालीमिर्च ,दाल चीनी (चाय मसाला )युक्त ही ले रहे थे .शुक्रिया मौके पे रचना पढवाई का .

    ReplyDelete
  17. तुलसी रस का व्याधि में सर्वोत्तम उपयोग
    भाई साहब रचना तो उत्कृष्ट है ही संस्कृति तत्वों से संसिक्त मौके पे आपने पढवाई जुकाम क्या यहाँ तो स्थिति साइनस से भी ज्यादा बिगड़ी हुई है गले में दुखन है सो अलग याद आया उत्तम का तुलसी पाउडर है घर में इंडियन स्टोर आनंद से लिया गया था फ़ौरन तुलसी की चाय पी फिल वक्त अदरक ,कालीमिर्च ,दाल चीनी (चाय मसाला )युक्त ही ले रहे थे .शुक्रिया मौके पे रचना पढवाई का .

    ReplyDelete
  18. उपयोगी तुलसी का गुणगान लिये कुण्डलिया.....

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया जानकारी .......

    ReplyDelete
  20. उपयोगी जानकारी से भरी सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  21. सार्थक प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  22. बड़ा उपयोगी औषध है यह, आपकी रचनाओं की तरह!

    ReplyDelete
  23. sir ji useful tree

    http://gorakhnathbalaji.blogspot.com/2012/08/blog-post.html

    ReplyDelete