Thursday, September 13, 2012

दिखावा सब करते हैं....................




हिंदी हिंदी चीखता,रहता पूरा देश.

हिंदीमय अब तक मगर,हुआ नहीं परिवेश.

हुआ नहीं परिवेश,दिखावा सब करते हैं.

अंग्रेजी पर लोग ,न जाने क्यों मरते हैं.

निज भाषा सम्मान,करो मत चिंदी चिंदी.

कभी न वरना माफ़,करेगी तुमको हिंदी.
                                  -कुँवर कुसुमेश
*****
हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाये 
---------------------------------
चिंदी चिंदी=टुकड़े टुकड़े 

31 comments:

  1. माफ करने लायक हैं भी नही ये अपमान । पर आशा हैं एक दिन हिन्दी की शरण सारा जगत लेगा ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  2. माफ करने लायक हैं भी नही ये अपमान । पर आशा हैं एक दिन हिन्दी की शरण सारा जगत लेगा ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  3. जो व्यक्ति अपने आँगन में लगे तुलसी के बिरवे को पानी नहीं डालता उसे जंगल में लगे बरगद के पेड़ को पानी डालने का अधिकार नहीं है . ठीक उसी प्रकार .....उसे किसी दुसरे की साहित्य की सेवा का अधिकार नहीं है .[आचार्य रामचंद्र शुक्ल जी ]

    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. मेरे विचार से

    है जिसने हमको जन्म दिया,
    हम आज उसे क्या कहते है\
    क्या यही हमारा राष्ट्रवाद - ?
    जिसका पथ दर्शन करते है,
    हे राष्ट्र्स्वामिनी निराश्रिता
    परिभाषा इसकी मत बदलो,
    हिन्दी है भारत की भाषा,
    हिन्दी को हिन्दी रहने दो,,,,,,

    RECENT POST -मेरे सपनो का भारत

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति....
    आपको भी हिंदी दिवस की शुभकामनाएं....
    फले फूले खिलखिलाए हमारी भाषा....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. हिंदी दिवस की शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  8. सही कहा आपने .आज लोग' प्राइवेसी' चाहते हैं' एकांत' नहीं .यही है आज की हिंदी की दुर्दशा जो हम उत्तर भारतीयों ने की है. .औलाद की कुर्बानियां न यूँ दी गयी होती .

    ReplyDelete
  9. सरकारी हिंदी की फजीहत होती रहेगी. जनभाषा हिंदी का सम्मान होता रहेगा. हिंदी की दिशा विकास की है.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना... आने वाला हर युग हिंदी युग हो और हर दिन हिंदी दिवस... हिंदी दिवस की शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  11. सार्थक संदेश देती कुंडली ....

    ReplyDelete
  12. हिन्दीदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आपका इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (15-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  13. हिंदी दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  14. जी हां सही कहा आपने. आज हिन्दी की जो दुर्दशा है उसके जिम्मेदार हमलोग खुद है.

    ReplyDelete
  15. हिन्दी दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    चिन्दियों को इक्क्ट्ठा करें
    चलो बिन्दियाँ बनाये
    भारत माता के
    माथे पर सजायें
    आशा करें विश्वास करें
    इंतजार करें
    सबको अक्ल आये !

    ReplyDelete
  16. सही कहा आप ने..हिंदी दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  17. सच कहा है ... हिंदी बस हिंदी दिवस के लिए ही रहती है कई जगह ... कस कर सरकारी खेमे में ...

    ReplyDelete
  18. हिंदी से चमकाओ भैया, अपनी बिंदी ,
    विज्ञापन सब ओर हैं भैया, खूब है हिंदी .

    ReplyDelete
  19. माथे की बिंदी थी अब तक,होती जाती चिंदी
    मिट जाएगी हस्ती हमारी,रही नहीं जो हिंदी!

    ReplyDelete
  20. हिंदी के विकास की धारा को बाधित करने वाले हिंदी भाषी ही हैं। आपका पोस्ट अच्छा लगा। मेरे नए पोस्ट समय सरगम पर आपका इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  21. bilkul sahi baat ...!!
    bahut sundar bhav ...
    shubhkamnayen ..!!

    ReplyDelete

  22. निज भाषा सम्मान,करो मत चिंदी चिंदी.

    कभी न वरना माफ़,करेगी तुमको हिंदी.दोबारा पढ़ी वही सुरूर आया ,हिंदी पे नूर आया
    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 25 सितम्बर 2012
    आधे सच का आधा झूठ

    ReplyDelete
  23. सार्थक संदेश .....

    ReplyDelete
  24. कितने सागर बहाए गए पर,
    होंठ सूखे हैं, प्यासी है हिंदी!
    जिसके घूँघट में तारे टंके हों,
    उस दुल्हन की उदासी है हिंदी !
    आज़ादी के इतने सालों के बाद भी हिंदी की दुर्दशा देखकर बहुत दुःख होता है !
    आपने सही लिखा है हिंदी हमें कभी माफ़ नहीं करेगी !

    ReplyDelete
  25. अंग्रेजी पर मर रहे, देखो नौकरशाह,
    बेदिल दिल्ली देखकर, हिंदी करती आह।

    ReplyDelete
  26. एक दम सार्थक सन्देश ....

    ReplyDelete
  27. एक सही सन्देश हिंदी दिवस पर हिंदी के प्रचार प्रसार के लिये.

    ReplyDelete