Saturday, February 19, 2011


मुसीबत दे रही दस्तक बराबर

 कुँवर कुसुमेश 

करेगी वार क़ुदरत भी पलटकर,
अगर पेड़ों को काटोगे निरंतर.

तुम्हारी ज़िन्दगी जिस पर है निर्भर,
उसी को काटते रहते हो अक्सर.

अभी भी हो रहा पृथ्वी का दोहन,
पचासों ज़लज़ले झेले भयंकर.

ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
कि जंगल काटकर बनने लगे घर.

हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

'कुँवर' पानी का लेवल घट रहा है,
हैं खतरे में पड़े दरिया,समन्दर.
  
***********

66 comments:

  1. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.
    nasamjhi ? kitna khatarnaak kadam hai , bas paise kamane ki hod me

    ReplyDelete
  2. प्रकृति के प्रति आपका प्रेम.. पर्यावरण के प्रति आपकी चिंता... पृथ्वी के प्रति आपकी जिम्मेदारी का बोध... एक सजग प्रहरी के रूप में आपकी कविता जागृति के रूप में कार्य कर रही है... जैसा कबीर... रहीम आदि करते थे...

    ReplyDelete
  3. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.

    हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.



    प्रकृति के प्रति एक संदेशपरक रचना। इसके लिये आभार कुँवर साहब।

    ReplyDelete
  4. कुसुमेश जी,

    आपका पर्यावरण प्रेम स्तुत्य है। सम्पूर्ण पृथ्वी-मात्र की शुभकामनाएं और दुआएं आपके साथ है प्रकृति-मित्र!!

    ReplyDelete
  5. अपने स्‍वार्थ के लिए प्रकृति पर अत्‍याचार किया जाता है और उनके परिणामों के बारे में कोई नहीं सोचता।
    बहुत ही विचारोत्तेजक ग़ज़ल। कुछ शे’र शेयर करने का मन बन गया

    प्रकृति ने भाषा बदल दी व्याकरण खतरे में है,
    आदमी ख़तरे में है, पर्यावरण ख़तरे में है।
    रह रहे हैं लोग अब ख़ुद की बनी भूगोल में,
    सिर्फ़ दर्पण ही नहीं अन्तःकरण ख़तरे में है।
    ***

    घने दरख़्त के नीचे मुझे लगा अक्सर
    कोई बुज़ुर्ग मिरे सर पर हाथ रखता है।
    ***
    तुम तैश में आकर जो इन्हें काट रहे हो,
    जब सर पे धूप होगी शज़र याद आएंगे।

    ReplyDelete
  6. अभी भी हो रहा पृथ्वी का दोहन,
    पचासों ज़लज़ले झेले भयंकर।

    प्रकृति के कार्यों में मानव की दखलंदाजी़ का असर साफ दिखने लगा है।

    सार्थक संदेश देती अच्छी ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  7. नासमझी नही ये जानबुझ कर किया जाने वाला कृत्य है।

    ReplyDelete
  8. हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर
    संदेश देती अच्छी ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  9. सवाल यह नहीं है कि क्या हुआ है और क्या गलत हो रहा है..
    सवाल यह है कि आप क्या कर रहे हैं..
    अगर आप सही मायनों में इसके लिए कुछ कर रहे हैं तो यह पोस्ट सही में सार्थक है और उसके लिए बधाई अन्यथा फिर से विचार करने की ज़रूरत है..

    आभार

    ReplyDelete
  10. पर्यावरण पर सार्थक चिंतन . अच्छी कविता. आभार.

    ReplyDelete
  11. चेतावनी देती सुन्दर गज़ल ..

    ReplyDelete
  12. bilkul sahi chetavni de rahi hai apki kavita

    ReplyDelete
  13. तुम्हारी ज़िन्दगी जिस पर है निर्भर,
    उसी को काटते रहते हो अक्सर.


    बहुत सुंदर .....पर्यावरण के प्रति जागरूक ...और कर्तव्यों के प्रति सचेत करती पंक्तियाँ......

    ReplyDelete
  14. लेकिन यह मुर्ख इंसान इसे समझता कहां हे,
    बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    'कुँवर' पानी का लेवल घट रहा है,
    हैं खतरे में पड़े दरिया,समन्दर.
    ...sundar jaagruktabhari aur prerak prastuti ke liye aabhar

    ReplyDelete
  16. sir ji namaskar

    हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    'कुँवर' पानी का लेवल घट रहा है,
    हैं खतरे में पड़े दरिया,समन्दर.
    bahut hi sarthak sandesh

    ReplyDelete
  17. बेहद सुन्दर पर्यावरण को खतरा देने वालो को एक चेतावनी देती यह कविता; जब पेड़ ही नही रहेगे तो इस सर्ष्टि का क्या होगा यह क्यों नही सोचते पेड़ काटने वाले ?

    हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    ReplyDelete
  18. पेड़ नहीं तो कुछ नहीं....बहुत सही विषय चुना है आपने....
    प्रणाम.

    ReplyDelete
  19. आप कई बार पर्यावरण पर लिखते हैं ... आपकी यह रचना एक कोशिश है समाज में जागरूकता फ़ैलाने की ... बहुत सार्थक सन्देश !

    ReplyDelete
  20. अभी भी हो रहा पृथ्वी का दोहन,
    पचासों ज़लज़ले झेले भयंकर.
    आदमी इतनी आसानी से कब मानने वाला है। सार्थक सन्देश देती रचना के लिये बधाई आपको।

    ReplyDelete
  21. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.
    जब धरा ही नहीं रही तो क्या रहेगा घर???
    पृथ्वी के प्रति आपकी जिम्मेदारी और चिंता को दर्शाती रचना एक सजग प्रहरी के रूप में जागृति का कार्य कर रही है.. ये कर्त्तव्य तो इस वसुंधरा पर रहने वाले हर इन्सान का है ...संदेशपरक रचना.

    ReplyDelete
  22. सार्थक चेतावनी है.लोगों को सम्हालना चाहिए.

    ReplyDelete
  23. लाभप्रद चेतावनी !

    ReplyDelete
  24. sahi kaha aapne......

    "हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर."

    abhi bhi na samjhe to kab.....???

    ReplyDelete
  25. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.
    sahi bilkul ,apni baraadi ki taraf badh rahe hai ,tabhi nasamjhi kar rahe hai .sundar ati sundar .

    ReplyDelete
  26. यथार्थ का चित्रण कराती कविता संदेश भी दे रही है ना जाने मानव कब समझेगा।

    ReplyDelete
  27. हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    पर्यावरण की समस्या बढती जा रही है ... जंगल कटते जा रहे हैं ...
    सही हालात को बयान किया है शेरों मों ..

    ReplyDelete
  28. सच ही तो है अपनी सुविधा के लिए हम लगातार जंगल काटते जा रहे हैं और पर्यावरण की समस्या बढ़ती जा रही है...अभी भी समय है अगर अब भी कोई कदम न उठाया तो आने वाले समय में समस्या का भयावह
    रूप सामने आएगा...
    सार्थक रचना....बधाई...

    ReplyDelete
  29. तुम्हारी ज़िन्दगी जिस पर है निर्भर,
    उसी को काटते रहते हो अक्सर. एक दम सही कहा आपने , काश मानव इसे समझ पाता

    ReplyDelete
  30. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.

    अच्छी ग़ज़ल....
    पर्यावरण जैसे ज़रूरी विषय पर आपका लेखन सार्थक है....बधाई...

    ReplyDelete
  31. मेरे ब्लोग पर आने का शुक्रिया ! हां तारीख २०/०२ कि जगह २६/२ कैसे आया मैं भी नहीण समझा ! मैने पोस्त अपडेट जरूर की थी पोस्ट ! पर ऐसे कैसे हुआ ? खैर इसे २०/०२ कर दिया है ! ध्यान आकृष्ट करने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  32. प्रकृति प्रेम आपकी गजलोँ मेँ बहुत अच्छा लगता है । पर्यावरण के प्रति चेतावनी देती आपकी गजल बहुत ही लाजबाव है । पर्यावरण को शुद्ध बनाने के लिए पेड़ोँ को बचाना लाजमी है । आभार बावू जी ।

    "सितारा कहूँ क्यूँ ? चाँद है तू मेरा........गजल "

    ReplyDelete
  33. पर्यावरण के लिए जागरूक करती एक सार्थक रचना । आज पुनः जरूरत है - " चिपको आन्दोलन ' की । हरित क्रांति लाने के लिए ।

    ReplyDelete
  34. आद. कुसुमेश जी,
    हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर

    आपकी हर रचना समाज के सरोकारों से जुडी होती है !
    काश हमारी आँखें खुल जातीं !

    हर शेर विचारों में मंथन पैदा कर रहा है !
    पूरी ग़ज़ल संग्रहणीय है

    ReplyDelete
  35. खूबसूरत जागरूकतापूर्ण रचना
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  36. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.
    प्रकृति संरक्षण के भावों को संप्रेषित करती हुई आपकी ग़ज़ल अद्वितीय लगी ...
    आपकी कलम में तो जादू है कुँवर जी...
    बेहद्द खूबसूरत...!!

    ReplyDelete
  37. तुम्हारी ज़िन्दगी जिस पर है निर्भर,
    उसी को काटते रहते हो अक्सर.


    .............................................
    ये पंक्तिया प्रकृति और जीवन दोनों पर सटीक बैठती है..
    मनभावन पंक्तिया...
    Ashutosh
    http://ashu2aug.blogspot.com
    http://ashutoshnathtiwari.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. आदरणीय कुसुमेश जी,
    नमस्कार !
    पर्यावरण के लिए जागरूक करती एक सार्थक रचना

    ReplyDelete
  39. पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारी और चिंता को दर्शाती रचना

    ReplyDelete
  40. प्रकृति के बचाव के लिए आवाज़ लगाती एक दर्द भरी रचना जिसमे सच में उस एहसास को बखूबी निभाया |
    बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  41. पर्यावरण को लेकर आपकी चिंता जायज़ है...बहुत ख़ूबसूरती से आपने दिल की बात कही है...बेहतरीन सार्थक रचना...बधाई
    नीरज

    ReplyDelete
  42. "हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर."
    प्रकृति से दूर होने के खतरे से आगाह कराती गजल.

    ReplyDelete
  43. आदरणीय आपका तजुर्बा झलक रहा है आप की इस गजल से| नमन| मेरा एक शे'र आप के सम्मान में:-

    अपनी बपौती जान कर काटो न पेड़ों को
    इन पेड़ों में कुछ जन्तुओं की बस्तियां भी हैं

    ReplyDelete
  44. sir bahut sunder he ye rachna
    bar bar padhkar bhi
    har bar kuch na kuch sikh mil jati he

    ReplyDelete
  45. प्रकृति और पर्यावरण के प्रति
    आपके भरपूर मनोभाव को
    प्रभावशाली रूप में प्रस्तुत करती हुई
    शानदार और यादगार रचना ....
    "हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर"
    अति उत्तम !!

    ReplyDelete
  46. प्रकृति के प्रति बहुत की प्रभावोत्पाअदक, समस्याओं को उजागर करती हुई, भविष्य की भयंकरता को बताती हुइ कविता

    कलरव- http://mukeshmishrajnu.blogspot.com

    नवांकुर- http://www.mukeshscssjnu.blogspot.com

    ReplyDelete
  47. हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.
    --
    बहुत ही प्रेरणादायी गजल!

    ReplyDelete
  48. @ जनाब कुंवर साहब ! आपके लेख का शीर्षक देखा तो मैंने मन बनाया था कि आज कर्नल क़ज़्ज़ाफ़ी की बदबख़्तियों पर कुछ लिखूंगा लेकिन आपकी पोस्ट देखी तो पता चला कि उससे भी ज्यादा संगदिल लोग मौजूद हैं । हक़ीक़त में उन्हें नेकी और बदी की तमीज़ ही नहीं है ।

    एक आमंत्रण सबके लिए
    क्या आप हिंदी ब्लागर्स फोरम इंटरनेशनल के सदस्य बनना पसंद फ़रमाएंगे ?
    अगर हॉ तो अपनी email ID भेज दीजिए ।
    eshvani@gmail.com
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  49. 'कुँवर' पानी का लेवल घट रहा है,
    हैं खतरे में पड़े दरिया,समन्दर.

    आपका ये शेर पढ़कर मुझे जसवीर राणा जी की कहानी ''डार्क ज़ोन''याद आ गई ...जो मेरे अनुवाद ब्लॉग पे है ....
    पानी की इस कमी को भयंकर ढंग से प्रस्तुत किया है उन्होंने .....
    चेताने वाली ग़ज़ल है आपकी ....
    बहुत शानदार .....

    ReplyDelete
  50. अति उत्तम ,प्रेरणादायी..सार्थक रचना...बधाई

    ReplyDelete
  51. हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    पर्यावरण के प्रति जागरूक करती रचना.
    बहुत ही सार्थक प्रयास.
    पता नहीं हम कब जागेंगे.
    सलाम.

    ReplyDelete
  52. सार्थक चिंतन, ठोस कदम उठाने के लिए प्रेरणा देती कविता.

    ReplyDelete
  53. आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी
    सस्नेहाभिवादन !

    शहर से बाहर कविसम्मेलन में जाने तथा अन्य व्यस्तताओं के कारण आपकी यह ख़ूबसूरत रचना विलंब से पढ़ रहा हूं …
    आशा है , क्षमा करेंगे ।
    करेगी वार क़ुदरत भी पलटकर
    अगर पेड़ों को काटोगे निरंतर

    पर्यावरण के प्रति जागरुकता को समर्पित अच्छी मुसलसल ग़ज़ल है , बधाई !

    किसी भी विषय पर छंदबद्ध काव्य सृजन हेतु
    जाल पर कविता लिखने में रुचि रखने वालों को आपसे भी प्रेरणा लेनी चाहिए ।

    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  54. भाई कुशमेश जी बहुत ही बेहतरीन गजल पढ़ने को मिली |आपको बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  55. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  56. बिल्कुल सत्य लिखा है आपने। प्रस्तुति बढ़िया लगी। पर्यावरण के प्रति लोगों को संवेदनशील होना ही चाहिए। स्वच्छ पर्यावरण जीवन का आधार है।

    ReplyDelete
  57. आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी
    सही लिखा है आपने।

    नासमझी नही ये जानबुझ कर किया जाने वाला कृत्य है। प्रस्तुति बढ़िया लगी।

    ReplyDelete
  58. ठोस कदम उठाने के लिए प्रेरणा देती कविता| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  59. प्रकृति के साथ खिलवाड़ होगा तो पलटवार के लिय एतो तैयार रहना ही होगा ना . काश हम ये समझ जाएँ . अभी भी समय है .

    ReplyDelete
  60. ये नासमझी नहीं तो और क्या है,
    कि जंगल काटकर बनने लगे घर.

    हमीं बहरे हुए सुनते नहीं हैं,
    मुसीबत दे रही दस्तक बराबर.

    'कुँवर' पानी का लेवल घट रहा है,
    हैं खतरे में पड़े दरिया,समन्दर.


    नि:शब्द ,आपको अब तक पढने से मरहूम रहे ये बदकिस्मती है अपनी
    बहुत दिन बाद कुछ सागर जैसा गहरा पढने को मिला

    ReplyDelete
  61. इस तरह संन्देश देना हर किसी के बस की बात नही अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete