Wednesday, February 9, 2011


 वैलेण्टाइन पर्व 
कुँवर कुसुमेश 

लाई चौदह फरवरी,वैलेण्टाइन पर्व.
बूढ़े माथा पीटते , नौजवान को गर्व.

युवक,युवतियां आजकल,दिल में लिए उमंग.
चढ़ा रहे हैं प्रेम पर,पाश्चात्य का रंग.

होठों पर मुस्कान है,हाथों में है फूल.
बैठा जोड़ा पार्क में , कट कर के स्कूल.

जैसे बेहतर दूसरा,नहीं कोई स्थान.
अड्डे प्रेमालाप के, पार्क और उद्यान.

फैशन का जादू चला , यत्र-तत्र-सर्वत्र.
नारी के तन पर दिखे,मित्र ! न्यूनतम वस्त्र.

ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.
*********


78 comments:

  1. आपकी प्रस्तुति बेहतरीन और सम्यक है ....शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. आद . कुसुमेश जी ,
    ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    आज के युवा जिस तेज़ी से पाश्चात्य संस्कृति की तरफ आकर्षित हो रहे हैं वह बड़ी चिंता का विषय है ! नई पीढ़ी अपनी जड़ों से लगातार कटती जा रही है ! जिस संस्कृति पर उसे गर्व होना चाहिए उसे ही भूलती जा रही है, ऐसे में आपके दोहे सोचने पर विवश करते हैं !
    सारे दोहे संग्रहणीय हैं !
    साधुवाद !

    ReplyDelete
  3. कुसुमेश जी ,
    ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    मुझे शुरू से ही इस पर्व पर एतराज हे --अंग्रेजी सभ्यता हमारी युवा- पीढ़ी की पहचान बनती जा रही हे जो मुझे स्वीकार नही ! यह सिख युवा पीढ़ी को समझनी चाहिए |

    ReplyDelete
  4. सभी दोहे दिल को छू लेने वाले हैँ । इनकी मौजूदा माहौल पर धार और सटीकता प्रभावी है ।
    आभार बावू जी !

    " देखे थे जो मैँने ख्याब............कविता "

    ReplyDelete
  5. sahi hai... per ab yahi aalam hai aur jane kab tak rahega !

    ReplyDelete
  6. होठों पर मुस्कान है,हाथों में है फूल.
    बैठा जोड़ा पार्क में , कट कर के स्कूल.

    आज का माहौल है
    ज्ञानचंद्र जी से पूरी तरह सहमत हूँ मै
    बहुत सुन्दर कुसुमेश जी

    ReplyDelete
  7. कुवँर साहब पहचान तो खोती ही जा रही है
    सामयिक एवं बेहतरीन गजल के लिए शुभकामनाये

    ReplyDelete
  8. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान

    कुसुमेशजी... बहुत ही सटीक और प्रासंगिक रचना है.....

    ReplyDelete
  9. आप के विचार उत्कृष्ट हैं और सही बयान भी किया है इस कविता में.

    ReplyDelete
  10. बिलकुल सही लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  11. सुन्दर ...सार्थक ..... आज पर करार प्रहार ..शुभकामनाये

    ReplyDelete
  12. होठों पर मुस्कान है,हाथों में है फूल.
    बैठा जोड़ा पार्क में , कट कर के स्कूल.

    sir ji bahut bahut sunder likha he aapne

    ReplyDelete
  13. बूढ़े माथा पीटते , नौजवान को गर्व.
    हा...हा...हा......
    कुसुमेश जी आपने तो वैलेण्टाइन पर्व.धज्जियां उड़ा दीं ...
    बहुत खूब .....!!

    ReplyDelete
  14. आज के हालात पर व्यंग्यात्मक रचना...बधाई...

    नीरज

    ReplyDelete
  15. बदलते समय के नब्ज़ टटोलती कविता... इसमें मूल्यों के गिरने पर सशक्त व्यंग्य किया गया है.. सुन्दर.. प्रभावशाली.. समसामयिक..

    ReplyDelete
  16. आज के परिप्रेक्ष्य में आपकी रचना बहुत सटीक बैठती है।

    ReplyDelete
  17. प्रियवर कुसुमेश जी

    वैलेण्टाइन पर्व के संदर्भ में युवा पीढ़ी से बात करते आपके दोहों के लिए आभार !
    हमारी गौरवशाली संस्कृति को आपके दोहों के माध्यम से युवजन पुनः याद करें … अस्तु !

    बसंत पंचमी सहित बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. • आपके दोहे पढने से ऐसा लगता है कि आप यह मानते हैं कि काव्य का मतलब कुछ कह देना नहीं होता है। आप ख़ामोशी के कायल हैं। आपके दोहों में खामोशी जो है वह कई अर्थ और रंग लिए हुए है। अपनी धारणाओं और मान्यता के बल पर ही आपने अपने दोहों को इन रंग में ढाला है।

    ReplyDelete
  19. ahaahah.......sahi kaha......

    lekin wakt ki nazaat ji dekhiye ki, dhindora peet peet ke kehna pad rha hai....love hua love hua love hua................

    ReplyDelete
  20. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान
    सही कहा है आपने जिस संस्कृति पर गर्व होना चाहिए उसे ही भूलते जा रहे है, और दिखावे से ज्यादा इसे महसूस करने की जरूरत होती है..

    ReplyDelete
  21. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान
    संस्कृति भूलते जा रहे है .........

    ReplyDelete
  22. हर पंक्ति अपने आप में बहुत कुछ कहते हुई ...।

    ReplyDelete
  23. सामयिक और प्रासंगिक कविता सच को उदघाटित करती हुई।

    ReplyDelete
  24. "लाई चौदह फरवरी,वैलेण्टाइन पर्व.
    बूढ़े माथा पीटते , नौजवान को गर्व."
    सही पहचाना,सर. एक पर्व जो पीढ़ियों की सोच के अंतर को उजागर करती है.प्यार के पर्व पर भी बंदिशों का दौर जारी है,लेकिन ये प्यार का खुमार है जो हर नौजवानों पर तारी है.सुन्दर और सामयिक गजल.

    ReplyDelete
  25. 'ओढ़ विदेशी सभ्यता करते रहे गुमान
    तो खोते ही जाओगे तुम अपनी पहचान '
    कुसुमेश जी ,
    सभी दोहे बहुत अच्छे |

    ReplyDelete
  26. your post truly describes the present scenario and gives a message to the youngster .
    very shortly and beautifully you wrote , which is appreciable .

    ReplyDelete
  27. har nazm bilkul sachchai bayan karti hui. ...... sunder prastuti.

    ReplyDelete
  28. भाई कुशमेश जी बहुत सुन्दर दोहे आपने कहे हैं बहुत बहुत बधाई स्वीकार करें |

    ReplyDelete
  29. सुन्दर कविता.. सामाजिक सरोकारों और कुरीतियों पर जिस तरह आप लिख रहे है वह सत्तर के दशक के स्वर सा है.. वरना अब तो निजी दुनिया से बहार लोग लिख ही नहीं रहे..

    ReplyDelete
  30. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    saarthak baat

    ReplyDelete
  31. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    क्या बात है सर जी..बहुत बढ़िया...लिखा है।

    ReplyDelete
  32. आदरणीय कुसुमेश जी
    नमस्कार !
    बडी गहरी बातें कह दी आपने
    ... बहुत ही सटीक और प्रासंगिक रचना है

    ReplyDelete
  33. बसंत पंचमी के अवसर में मेरी शुभकामना है की आपकी कलम में माँ शारदे ऐसे ही ताकत दे...:)

    ReplyDelete
  34. .

    मुझे तो इन अंग्रेजी दिवसों का कोई औचित्य ही नज़र नज़र नहीं आता । mother's day , father's day , valentine's day आदि । अंग्रेजों कों तो खदेड़ दिया , लेकिन पाश्चात्य का भूत सर चढ़कर बोल रहा है ।

    .

    ReplyDelete
  35. बहुत ही बढ़िया सन्देश.
    सलाम.

    ReplyDelete
  36. आप भी बाऊजी...

    ReplyDelete
  37. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    सही कहा आपने। सुंदर रचना के लिए साधुवाद!

    ReplyDelete
  38. मै तो भागने लगा था..वैलेण्टाइन शव्द पढ कर... लेकिन अचानक नजर पड गई इन लाईनो पर....
    ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.
    ओर जाते जाते रुक गया तो फ़िर ध्यान से आप की इस सुंदर रचना को पढा, मेरे मन की बात कह दी, मै युरोप मे रह कर भी इन के त्योहारो को घर के अंदर नही लाया, बाहर सिर्फ़ इन गोरो को बधाई वगेरा दे दी, लेकिन जब देखता हुं आज हमारे भारत मे ही लोग इन के इन त्योहारो को बिना सोचे समझे मना रहे हे तो बहुत अजीब लगता हे, धन्यवाद इस अति सुंदर रचना के लिये

    ReplyDelete
  39. बहुत ही सटीक और प्रासंगिक रचना है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  40. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.
    --
    शिक्षाप्रद रहे सभी दोहे!

    ReplyDelete
  41. व्यंग्य भी है और एक संदेश भी कि हम अपनी स्वदेशी सभ्यता और संस्कृति को न भूलें. अच्छी रचना . आभार .

    ReplyDelete
  42. वीर रस का कवि अगर valentine day पे कुछ लिखे तो क्या लिखेगा....
    कुछ हल्का फुल्का सा...

    युद्ध का बिगुल क्यों बजवाते हो
    मरने मारने को क्यों ललकारते हो.
    काम चल जाए अगर बस नज़र से ही.
    ये तोप औ बन्दूक क्यों चलवाते हो??

    ReplyDelete
  43. kya baat hai sir, bikul sahi bayan kiya hai aapne

    ReplyDelete
  44. aadarniy sir
    aapka e-mailila tha par in dino mai kaffi aswasth chal rahi thi isi liye aapko jawab nahi de paai .xhma chahti hun.
    abhi bhi puri tarah theek nahi hun par thoda-thoda
    net par baithne lagi hun .isliye tippni der se dal
    dheere -dheere blogon tak pahunch pa rahi hun.
    aapki yah post bilkul haqikat bayan karti hai .har ek panktiyan behad sarthakta liye hue hain.
    ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान
    bahut hi sateek prastuti
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  45. ओढ़ विदेशी सभ्यता,करते रहे गुमान,
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान।

    आज की युवा पीढ़ी को आगाह करते हुए ये दोहे कटाक्ष भी कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  46. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  47. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान

    कुसुमेशजी... बहुत ही सटीक रचना है.....

    ReplyDelete
  48. ati sunder, prasngik aur steek dohe
    bdhai ho
    ------sahityasurbhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  49. आदरणीय कुसुमेश जी
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ ! और बहुत अफ़सोस हुआ की मैं अब तक यहाँ आने से वंचित कैसे रहा ! आपकी लेखनी का मैं कायल हो गया !
    आपको शत शत नमन !!

    ReplyDelete
  50. एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  51. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.



    कितनी सही बात लिखी है आपने -
    बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  52. आजकल के युवावर्ग की कहानी को खूबसूरती से दर्शाती रचना !

    ReplyDelete
  53. आदरणीय कुसुमेश जी नमस्कार| बरास्‍ते चर्चा मंच इस बार पहुँचा आपके ब्लॉग पर|
    "बूढ़े माथा पीटते" पहले दोहे से ही आपने ग़ज़ब का रंग जमाया है सर जी|
    कट कर के स्कूल..............यक़ीनन कई सारे लोगों को अपने वो दिन याद दिला दिये आपने|
    फेशन का जादू............करारी चोट, व्यंग्य बाणों के साथ|
    ओढ़ विदेशी सभ्यता.............बहुत ही सही संदेश मान्यवर|

    ReplyDelete
  54. करारा प्रहार ..शुभकामनाये

    ReplyDelete
  55. सांस्कृतिक संक्रमण पर दोहे अच्छे लगे। आभार।

    ReplyDelete
  56. आदरणीय कुसुमेश जी

    बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  57. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    "हट जाओ वेलेण्टाइन डेे आ रहा है!".

    ReplyDelete
  58. बहुत अच्छा लिखा है, संदेश अच्छा है पर समझने को कोई तैयार नही ।

    ReplyDelete
  59. bahut achha likha hai aapne
    der se aane ko maafi chahti hu
    ..

    ReplyDelete
  60. बहुत खूब ...!शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  61. तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान. yahi hai vailentine day ....bahut khub sir.....

    ReplyDelete
  62. पहचान और निगरानी में भी जुटे हैं काफी लोग.

    ReplyDelete
  63. बहुत सार्थक, समसामयिक और सटीक अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  64. bouth he aacha post kiya hai aapne dear....

    ReplyDelete
  65. जरूरी कटाक्ष। आनंद आ गया पढ़कर।

    ReplyDelete
  66. bahut sahi chitran aaj ki yuva peedhi ka....shabdon ke madhyam se sandesh....
    ati sundar..!!

    ReplyDelete
  67. badlte vakt ke saath sab kuch badal gaya hai.
    bahut sunder lagi rachna.apke blog par pahali baar aai hun achha laga......

    ReplyDelete
  68. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.
    सही है.

    ReplyDelete
  69. वाह आपने न केवल कोरा सच लिखा है पर इतनी खूबसूरती के साथ लिखा है कि क्या कहूँ ...

    ReplyDelete
  70. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान.

    बहुत ही अच्छी रचना...अब तो वेलेंटाइन का बुखार चढ़ता है...
    लड़कियों के वस्त्र देखकर वाकई शर्म आती है पर न उन्हें आती न उनके माता-पिता को...
    ब्लॉग भी फॉलो कर रही हूं...

    ReplyDelete
  71. ओढ़ विदेशी सभ्यता ,करते रहे गुमान.
    तो खोते ही जाओगे,तुम अपनी पहचान
    bahut pasand aai is avasar par likhi gayi ki rachna .

    ReplyDelete
  72. वेलेन्‍टाईन के सच काफी करीब से जानते हैं आप। और जि‍न्‍दगी के सच हम http://rajey.blogspot.com/

    ReplyDelete