Saturday, April 9, 2011


कश्तियाँ मुब्तला किस सफ़र में
     

 कुँवर कुसुमेश 

डगमगाने लगी है भंवर में.
कश्तियाँ मुब्तला किस सफ़र में.

आँख से निभ रही आंसुओं की,
कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.

आदमी छोड़ कर आदमीयत,
डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
ऐब में और यारो ! हुनर में.

वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.
          
 ***********
मुब्तला-फंसी हुई,निहाँ-छिपा हुआ,
चश्मेतर-डबडबाई आँख,वक्तेरुख्सत-अंतिम समय 

104 comments:

  1. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.
    भाई कुशमेश जी बहुत सुंदर गज़ल बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर गजल
    हर शेर पर मुहँ से वाह निकली है
    बधाई एवं शुभकामनाये

    ReplyDelete
  3. आदरणीय कुशमेश जी
    नमस्कार !
    वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.
    .............बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत सुंदर गज़ल बधाई .......

    ReplyDelete
  4. सुन्दर भावो के साथ सुन्दर गज़ल्।

    ReplyDelete
  5. आप ने बहुत कमाल की गज़ले कही हैं

    ReplyDelete
  6. आज के समय को परिभाषित करती पूरी ग़ज़ल...

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    यह शेर दिल के सबसे करीब लगी...

    ReplyDelete
  7. वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.
    --
    छोटी बहर की बहुत बढ़िया गजल लिखी है आपने।
    गुनगुनाने में अच्छा लग रहा है।

    ReplyDelete
  8. kamaal kee rachna hai ...

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    ReplyDelete
  9. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    ग़ज़ल का हर शेर लाजवाब है ! शुक्रिया !

    ReplyDelete
  10. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    खूबसूरत गज़ल ...सटीक बात कहती हुई ..

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत कृति की सबसे बेहतरीन पंक्तियाँ.. बहुत खूब!
    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    पढ़े-लिखे अशिक्षित पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  12. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    इसीका तो गम है ... सुन्दर ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  13. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में....

    बहुत सुन्दर ग़ज़ल....सच्चाई को बयां करती हुई ...

    ReplyDelete
  14. इतनी खुबसूरत रचना है की ब्यान करने को शब्द नहीं मिल रहे एक - एक शब्द खुद बोलते हुए |
    बहुत खुबसूरत |

    ReplyDelete
  15. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    अहा -हा-हा!
    क्या बात कही है। ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में! अद्भुत! एक दम कुंवर साहब दिल को छू लेने वाला शे’र। कभी-कभी आगे बढ़ने के लिए तकलीफ उठाना बहुत जरूरी है। हम में अपनी सीमाओं से पार जाने की काबलियत होती है लेकिन जब जिंदगी में सब ठीक ठाक चल रहा होता है, तो हम कोई जोखिम उठाना नहीं चाहते। यानी ज़हर पीना ही नहीं चाहते।

    ReplyDelete
  16. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    बहुत खूब! बेहतरीन गज़ल..हरेक शेर यथार्थ का आइना दिखाते हुए..दिल को छू गयी

    ReplyDelete
  17. छू गयी दिल को...

    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में...

    बहुत खुबसूरत......

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.

    लेकिन ---

    लेकर देखिये मालिक का नाम
    सुकूं मिल जायेगा पल भर में

    कविता गुरु कुंवर कुसुमेश जी

    ReplyDelete
  20. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.
    sahi bole.....

    ReplyDelete
  21. आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.
    बहुत ही खुबसूरत शेर, बहुत खूब .......

    ReplyDelete
  22. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    बहुत खूबसूरत शेर एक से बढ़कर एक. सीधे दिल उतरते, बहुत खूब, आभार.

    ReplyDelete
  23. khyaal achha hai bahut khub.

    ReplyDelete
  24. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (11-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  25. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    बहुत ही खूबसूरत ग़़ज़ल
    बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. खूबसूरत ग़ज़ल . हर शेर बेहतरीन बने है .

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छी गज़ल ।
    आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.
    बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  28. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.


    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.


    बहुत ही बढ़िया .... सुंदर ग़ज़ल .....

    ReplyDelete
  29. "aankh se nibh rahi aansuon kee ,
    kuchh sukoo hai nihaan chasme -tar main "-kyaa baat hai huzoor ,chhaa gaye .andaaze byaan me -
    veerubhai

    ReplyDelete
  30. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.

    हर शेर में बहुत गहरे भाव हैं .......
    ज़िन्दगी की सच्चाई से पहचान कराती हुई ग़ज़ल ...
    बहुत खूब ..!.

    ReplyDelete
  31. सर आप के अल्फाजों कि जीतनी तारीफ़ कि जाय कम है,
    आप का शब्द चुनाव एकदम सटीक होता है ,
    बहुत सुन्दर रचना
    बहुत बहुत शुभकामना

    ReplyDelete
  32. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में... bhut acchi kavita hai...

    ReplyDelete
  33. अच्छी ग़ज़ल. आभार . रामनवमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  34. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.....


    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  35. वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.
    पूरी ज़िन्दगी का निचोड़ इस एक शेर में मौजूद है !
    आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.
    इससे बड़ी सच्चाई कुछ भी नहीं है !
    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    ज़हर पी कर जीना आज के इंसान की मज़बूरी है ! इतनी कड़वी सच्चाई को भी आपने बड़ी ही खूबसूरती से पेश किया है !
    मेरे ढेर सारे दाद कबूल करें !
    शुक्रिया !

    ReplyDelete
  36. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    हर शेर में बहुत गहरे भाव हैं ......सुंदर ग़ज़ल ......

    ReplyDelete
  37. लाजवाब गज़ल है मुझे तो समझ नही आ रहा किस किस शेर की तारीफ करूँ
    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.
    हर शेर मे एक मुकम्मल जिन्दगी के भाव हैं। बहुत दिनों बाद लौटी हूँ बहुत कुछ रह गया पढने से\ समय मिलते ही पीछे भी देखती हूँ। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  38. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में

    बहुत खूब कुसुमेश जी ! प्यारी रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  39. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  40. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में
    कुशमेस सर,
    एक और बेहतरीन सोच और उसको सामने लाने का अंदाज सदा की भांति प्रभावशाली और सन्देशपरक है.
    गजल में बयां करने का आपका अंदाज अनूठा है.आपको और आपके फन को मेरा नमन है.

    ReplyDelete
  41. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 12 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  42. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    गहरी बात कहती गजल प्रस्तुति । आभार...

    ReplyDelete
  43. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में
    आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.
    ऐसे ऐसे नायब अशार बता रहे हैं क ग़ज़ल
    जनाब कुसुमेश साहब के क़लम का कमल है
    आपका तज्रबा खुद बोल रहा है ...
    मुबारकबाद .

    ReplyDelete
  44. आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में।

    कितनी बारीक बात कह दी आपने, वाह।
    बल्किुल सही है, आंसुओं की बारिश के बाद एक अजीब सा सुकून मिलता है।
    बहुत ही भावप्रवण ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  45. ज़िन्दगी की सच्चाई से पहचान कराती हुई ग़ज़ल| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  46. आज की सटीक सच्चाई!!

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    ReplyDelete
  47. .

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में...

    थोडा सा तराशने की ज़रुरत है , फिर ऐब को हुनर बनते देर नहीं लगती । बेहतरीन रचना।

    .

    ReplyDelete
  48. हासिल क्या रहा क्या पता..

    रास्तो पे चलना एक रवायत थी

    सो चलता रहा...



    कुछ ऐसे ही खालीपन महसूस किया पढ़कर.....

    ग़ज़ल उदास कर गई.. आपकी ग़ज़ल एक आइना है..

    ReplyDelete
  49. आपकी कलम से निकला एक और बहतरीन शाहकार...एक एक शेर को बार बार पढने को जी करता है...वाह वाह वाह करते ज़बान नहीं थकती...इस बेहद कमाल की ग़ज़ल के लिए दिली दाद कबूल करें.

    नीरज

    ReplyDelete
  50. todi muskil aayi urdu samjhne maen magar aap ke sabdarth sae saral ho gaya..
    khubsurat bhaw

    ReplyDelete
  51. बहुत अच्छा लिखा आपने …



    रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  52. aapki gajal hamesha umda hi rahti hai....
    is baar bhi sunder hai.........

    ReplyDelete
  53. बहुत बढ़िया लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  54. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.
    Umda...

    ReplyDelete
  55. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में

    बहुत सुंदर नज्म लिखी है --१० बार पड़ी होगी .....

    ReplyDelete
  56. आपके ब्लोक पर आने की आदत -सी पड़ गई है देर -सवेर आ ह़ी जाती हूँ ....

    ReplyDelete
  57. gazab kee rachana....ek ek sher daad ke kabil........

    aabhar

    ReplyDelete
  58. Vaah......really very meaningful gazal.

    kunwar kushumesh ji ..I liked your gazal very much.
    Congrats.

    ReplyDelete
  59. I wish you with your family a very happy and prosperous RAMNAVMI.

    ReplyDelete
  60. डगमगाने लगी है भंवर में.
    कश्तियाँ मुब्तला किस सफ़र में.

    आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.

    आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.






    बहुत खूब .....


    मुझे तो हर शेर बेहद पसंद आया इसीलिए सभी को कॉपी कर दिया!
    इस बेहद उम्दा ग़ज़ल के लिए आपको बधाई
    आपको भारतीय नए वर्ष के साथ-२ राम नवमी की भी हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  61. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.
    bahut khoob

    ReplyDelete
  62. सुकूं है निहां चश्मे तर में...
    वाह बहुत खुबसूरत ग़ज़ल है.... हर शेर लाजवाब...
    सादर...

    ReplyDelete
  63. डगमगाने लगी है भंवर में.
    कश्तियाँ मुब्तला किस सफ़र में.

    आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में.

    आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.
    bahut khoob aur sach bhi

    ReplyDelete
  64. जिन्दगी की हकीकत बयाँ करती हुई खूबसूरत सी ग़ज़ल..

    ReplyDelete
  65. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    सच्चाई को बखूबी शब्द दिए हैं ....आज के हालात हैं ही इस कदर की इंसान इंसानियत को भूलता जा रहा है और हैवानियत को अपनाता जा रहा है ...आपका आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  66. zindgi ki sacchayi,
    aapne khubsurti se dikhlayi...
    is gazal ka ek ek harf bayan karta,
    ki zindgi se kijiye aashnaayi.

    bahut khoob...bahut badhiya.

    ReplyDelete
  67. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.kadavi haqeekat....sunder shabdon me...

    ReplyDelete
  68. गजल मनभावन है.आप सब को राम नवमी एवं वैशाखी की हार्दिक मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  69. बैसाखी की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  70. बैसाखी की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  71. अम्बेदकर जयन्ती की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  72. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  73. aadarniy sir
    bahut hi sateek avam sarthak tatha is shandaar gazal ke liye hardik badhai jiski har panktiyan dil ko bha gai.
    sadar pranaam avam dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  74. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में.

    बहुत सुन्दर ... का कहीं देशवा के हाल भईया कह

    ReplyDelete
  75. बेहद प्रभावी यथार्थपरक गज़ल .....आभार !

    ReplyDelete
  76. वाह... आपकी हर ग़ज़ल बेमिसाल रहती है...

    ReplyDelete
  77. सही है कुंवर जी..........रुखसत में तो साथ कुछ नहीं जाता
    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    वाकई और ज़िन्दगी में समझोता हमेश करना पड़ता है जीने के लिए............................

    ReplyDelete
  78. जाट देवता की भी राम-राम।

    ReplyDelete
  79. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  80. सही कहा आपने इंसान मालो-ज़र की फिक्र में ही मुब्तला होकर रह गया है. इन आँखों में तरलता तो आती है पर उन्हें भी छिपा जाना पड़ता है .............................. बहुत खूब व्यक्त किया है आपने जिन्दगी के खालीपन को .........

    ReplyDelete
  81. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में....
    ..
    ..
    आदाब कुंवर साहब !!
    हर शेर बेहतरीन एक से बढ़कर एक .... किसको कोट करें किसको छोड़े ...
    खुशकिस्मती कि आपको पढ़ पाया !

    ReplyDelete
  82. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में....

    हर पंक्ति ... लाजवाब ।

    ReplyDelete
  83. जिंदगी के लिए है जरूरी

    लज्ज्तें ढूँढ़ लेना ज़हर में

    ******************

    फर्क कुछ भी नहीं रह गया है

    ऐब में और यारों ! हुनर में

    ............................................

    क्या कहना कुसुमेश जी ! ,,,,,,,,,,बहुत सुन्दर शेर

    दिल और दिमाग दोनों को झकझोरने में सक्षम ग़ज़ल |

    ReplyDelete
  84. आपको एवं आपके परिवार को भगवान हनुमान जयंती की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

    अंत में :-

    श्री राम जय राम जय राम

    हारे राम हारे राम हारे राम

    हनुमान जी की तरह जप्ते जाओ

    अपनी सारी समस्या दूर करते जाओ

    !! शुभ हनुमान जयंती !!

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,

    भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  85. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    बिलकुल ठीक कहा आपने...वेहतरीन ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  86. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  87. आज के संदर्भ में सौ फीसदी सच। बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  88. My God! Sir apki Urdu main lipte baavon ne kamal kar diya...

    Maza aa gaya :]

    ReplyDelete
  89. फ़र्क कुछ भी नहीं रह गया है,
    ऐब में और यारो ! हुनर में...

    यूँ तो सारी ग़ज़ल कमाल है .. पर ये शेर ... अब क्या बयान करूँ ... बहुत ही लाजवाब है ... बेहतरीन शेरों में से एक है ...

    ReplyDelete
  90. "Har baar nai lagti hai ,
    apthhit gazal lagti hai ."

    ReplyDelete
  91. अच्छी प्रस्तुति। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  92. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में
    आँख से निभ रही आंसुओं की,
    कुछ सुकूं है निहाँ चश्मे-तर में

    waah !kya bat hai !

    ReplyDelete
  93. आदमी छोड़ कर आदमीयत,
    डूबता जा रहा मालो-ज़र में.

    ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.
    waah sunder rachna .bahut gehrai hai ......nice thought

    ReplyDelete
  94. बहुत सुन्दर शेर लाजवाब है
    मैं ब्लॉग में नया हूँ मेरा मार्ग दर्शन करे

    ReplyDelete
  95. आदरणीय कुशमेश जी
    नमस्कार !
    .....खूबसूरत शेर एक से बढ़कर एक
    इसी के साथ सेंचुरी की बहुत बहुत बधाई......

    ReplyDelete
  96. वाह!
    आज, कई दिनों से आपकी नई पोस्ट नहीं आई थी तो चला आया हाल-चाल लेने।
    यहां प्रशंसकों की सेन्चुरी लगी देख कर दिल ख़ुश हो गया।
    अब तो मैं यक़ीनन कह सकता हूं कि ..
    “कुंवर साहब आप ब्लॉगजगत के ग़ज़लों के बादशाह हो!”

    ReplyDelete
  97. कल 17/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  98. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    सभी शे'र बेहतरीन लगे!

    ReplyDelete
  99. ज़िन्दगी के लिए है ज़रूरी,
    लज़्ज़तें ढूंढ लेना ज़हर में.

    बहुत सुन्दर ...और सच !!!

    ReplyDelete