Friday, April 22, 2011


मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है


कुँवर कुसुमेश

मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
खूबसूरत हयात मुश्किल है.

कितनी शोरिश पसंद है यारब,
वक़्त की काइनात मुश्किल है.

जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
बारहा हादसात,मुश्किल है.

मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.
*********
शोरिश पसंद -उपद्रव करने वाला
बारहा- अक्सर,
पर्दा-ए-वाक़यात =घटनाओं से पर्दा.

103 comments:

  1. इस ग़ज़ल ने आज दुनिया भर में फैले हिंसा पर बढ़िया चोट किया है...सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  2. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है...

    वर्तमान परिस्थितियों पर गहरा कटाक्ष..

    ReplyDelete
  3. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.
    वाह क्या बात है कितने खुबसूरत अलफ़ाज से मुश्किलों को रूबरू करवाया आपने मुबारक हो

    ReplyDelete
  4. हर कोई यहाँ एक-दूसरे का दुश्मन है...
    कौन है अपना, कह पाना ज़रा मुश्किल है...
    बहुत खूब ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  5. जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.
    bemisaal gazal

    ReplyDelete
  6. आदरणीय कुंवर कुसुमेशजी,

    रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

    अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.

    वाह मना पड़ेगा सुन्दर ग़ज़ल


    श्री श्री 1008 श्री खेतेश्वर जयंती पर आज निकलेगी भव्य शोभायात्रा
    or
    जयंती पर आज निकलेगी शोभायात्रा

    ReplyDelete
  7. गहरी चोट करती रचना।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खूबसूरत गज़ल और यह शानदार शेर…

    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    -------- ------
    कभी 'कुँवर' से भी अच्छा लिख पाएगा,
    तेरे लिये 'सुज्ञ' यह अहसास मुश्किल है.

    ReplyDelete
  11. हालात-ए-मुश्किलों का चित्रण करती उम्दा गजलें । आभार...

    ReplyDelete
  12. सार्थक सम-सामयिक रचना समाज को आगाह करती है.

    ReplyDelete
  13. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.
    छोटी बहर की इस निहायत खूबसूरत ग़ज़ल के लिए दिली दाद कबूल करें.
    इसी ज़मीन पर अपना एक शेर सुनाता हूँ:
    हर नदी में हो रवानी, भूल जा
    बिन दुखों के जिंदगानी, भूल जा
    नीरज

    ReplyDelete
  14. कह पाना ज़रा मुश्किल है...

    सुन्दर ग़ज़ल ..बहुत ही खूबसूरत ..आभार

    ReplyDelete
  15. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    जीवन की आपाधापी से त्रस्‍त, व्‍यवस्‍था की विसंगतियों से आहत और आंतकित करते परिवेश से आक्रांत मनस्थितियों का आपने प्रभावी चित्रण किया है। आप अन्‍योक्ति से एक गहरा संकेत करते हैं।

    ReplyDelete
  16. भई वाह ..क्या बात है. बेहद उम्दा ग़ज़ल. किसी एक शेर को चुनना बहुत ही मुश्किल है. हर शेर बढ़िया है. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल के लिए आपको बधाई.

    ReplyDelete
  17. .

    कुंवर जी ,

    तारीफ़ क्या करूँ मैं इस ग़ज़ल की , हर शेर लाजवाब है,
    जज़्बात अपने कहने को , शब्द ढूंढ पाना भी मुश्किल है।

    .

    ReplyDelete
  18. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (23.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  19. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    छोटी बहर की ख़ूबसूरत और मुकम्मल ग़ज़ल
    हर शेर उम्दा....एक से बढकर एक......

    ReplyDelete
  20. मुश्किलों से निजात मुश्किल है,
    खूबसूरत हयात मुश्किल है।

    कितनी शोरिश पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है।

    वक़्त की सच्ची तस्वीर उकेरती उत्कृष्ट ग़ज़ल।
    कुसुमेश जी , बधाई स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  21. सर जी। तारीफ क्या करू। समझ में नही आता कि कौन सा शब्द प्रयोग में लाउॅ। बेहतरीन गजल।

    ReplyDelete
  22. मुस्कुराती सुबह से ताकतवर,
    मुँह चिढाती ये रात, मुश्किल है !
    bahut sunder.........

    ReplyDelete
  23. जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.


    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    बहुत बढ़िया .....सभी शेर सुंदर चिंतन लिए हैं.....

    ReplyDelete
  24. kamal ke shabdo ka prayog kiya hai apne , mshkilon se----] abhinav prayog bhavnaon ka mukhar spandan .sabhar ji /

    ReplyDelete
  25. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

    हर लफ्ज़ अपने आप में पूरे अर्थ के साथ...
    खूबसूरत सी रचना..

    ReplyDelete
  26. आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी,
    नमस्कार !
    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.
    ............क्या बात उम्दा ग़ज़ल

    ReplyDelete
  27. बहुत खूबसूरत गज़ल बधाई भाई कुशमेश जी

    ReplyDelete
  28. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है

    बहुत खूब कुँवर कुसुमेश जी

    ReplyDelete
  29. कितनी शोरिश पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.

    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.

    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    हर एक शेर लाजवाब और मक्ता तो दिल को छू गया। बधाई इस गज़ल के लिये।

    ReplyDelete
  30. कितनी शोरिश पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.

    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.

    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  31. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

    बहुत खूबसूरत नज्म .....

    www.rimjhim2010.blogspot.com

    ReplyDelete
  32. बस सलाम करने को जी करता है ......सादर !

    ReplyDelete
  33. बेहद जबरदस्त ... क्या कहूँ... बहुत खूबसूरत रचना... सादर

    ReplyDelete
  34. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    kushmesh sahab, kya bat kahi. bahut khoob. sunder gazal............

    ReplyDelete
  35. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है....

    Bahut hi khoobsoorat gazal .... aur ye sher to kamaal ka laga ... behatreen ...

    ReplyDelete
  36. sundar ghazal...magar kuwar ji is mushkil ka samadhan bhi aap ko hi batana hoga

    ReplyDelete
  37. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.
    Good one sir !

    ReplyDelete
  38. फिर से एक उम्दा प्रस्तुति |
    खुबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  39. aap ki kavita bhut achchhi lagi.meri kavita me koyi kami hoto jarur bataye mujhe sudhar karne me asanii hogi

    ReplyDelete
  40. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है --

    "मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है...."

    इस शे'र ने तो मन मोह लिया कुंवर जी ---बहुत खूबसुरत ...

    ReplyDelete
  41. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    ...वाह!

    ReplyDelete
  42. हर कोई यहाँ एक-दूसरे का दुश्मन है...
    कौन है अपना, कह पाना ज़रा मुश्किल है...bahut hi khoobsurat

    ReplyDelete
  43. भाई जी,
    आपके जजबे को सलाम करता हूं। हृदयस्पर्शी पोस्ट। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  44. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है

    haasil-e-gazal sher !
    baaqi har baat bhi
    qaabil-e-zikr hai ...

    badhaaee .

    ReplyDelete
  45. बहुत खूबसूरत गज़ल| बधाई|

    ReplyDelete
  46. sab ne itniiiiiiiiii bdiyaa bdhiyaa tippni dii hain..ab main kyaa kahun
    aap to hain hi ik bahut hi ache lekhak
    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.


    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है
    bahut bdhiyaa kunwar ji

    ReplyDelete
  47. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    वर्तमान सन्दर्भों को उद्घाटित करती रचना गहरे अर्थ संप्रेषित करती है ....आपका आभार

    ReplyDelete
  48. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  49. Bhai sahib aap hamaari urdu kee vokebulari (urdu kee jaankaari ,alfaaz badhaa rhen hain shaabdik arth dekar ,shukriyaa .
    "mushkilon se nijaat mushkil hai ,khoobsoorat hayaat mushkil hai ."
    behtreen aashaar hai aapke ...
    ek shair padh rhaa hun aapke liye -
    "poochhnaa hai gardishe aiyaam se ,
    are !ham bhi baithhengen ,kabhi aaraam se ."
    palat bhi suniye bhai sahib -
    "Zaam ko takraa rhaa hun jaam se ,
    kheltaa hun gardishe aiyaam se ,
    aur unkaa gam kaa unkaa tasavvur,unkee yaad ,
    are kat rahi hai ,zindagee aaraam se ."

    ReplyDelete
  50. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    बहुत खूब भाई जी ! आनंद आ गया !

    ReplyDelete
  51. bahut badiya gazal ek ek sher haqeekat bayan karta huaa....

    gazab kee urdu hai aapkee....

    ReplyDelete
  52. अखबार हज़ारों लाखों लफ़्ज़ों में जो कह रहे हैं,आपने अपने एक शेर में दर्ज कार दिया....वाह.

    रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

    ReplyDelete
  53. "मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है."
    वर्तमान माहौल की पृष्ठभूमि से बाहर आती आपकी ये गजल गहरे कटाक्ष का सहारा ले एक सकारात्मक सन्देश देती है.बहुत मनभावन गजल.

    ReplyDelete
  54. अच्छी ग़ज़ल. आभार .

    ReplyDelete
  55. बहुत अच्‍छी रचना !!

    ReplyDelete
  56. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    वाह ! बहुत खूबसूरत और प्रभावी गज़ल..हरेक शेर बहुत मर्मस्पर्शी..आभार

    ReplyDelete
  57. pahle tho aapka shukriya...apne mere blog par ...meri kavita ko pasand kiya
    mujhe kadhin shabd nahi aate...is liye saadharan shabdo se likhti hun

    par aapki ye gazal bahut acchi ban padi hai...bahut khub

    ReplyDelete
  58. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    दिल से कहता हूँ कुंवर साहब ...ग़ज़ल कम लोग ही कह पाते हैं... बाकि कहते तो सभी हैं ...
    शुक्र है की मैं आपके दौर को देख सका .
    मुरीद हूँ जनाब आपका मैं...

    ReplyDelete
  59. शानदार लिखा है

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
    मिलिए हमारी गली के गधे से

    ReplyDelete
  60. बेहतरीन भावपूर्ण रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  61. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    ये बात शायद मेरी ही क्या सभी की
    जिनदगी में है । इसीलिये मेरा मानना
    है । आप हकीकत बयाँ करते है ।
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  62. गजब कि गजल है सर मन को ठहरने ही नहीं देती
    शब्दों का जादू बिछा दिया है आप ने सर

    ReplyDelete
  63. आद. कुंअर जी,
    व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.
    वक्त जब खुद कराहने लगता है तो दर्द शब्दों में कैसे उभर आता है उसकी मिसाल है आपकी यह ग़ज़ल!
    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.
    सच है ,हर तरफ हादसों का ही मंज़र है !
    हर शेर साँसों में बसाने लायक है ,बेहतरीन!

    ReplyDelete
  64. बहुत ही खूबसूरत गज़ल और यह शानदार शेर…

    व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.

    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् और आशा करता हु अप्प मुझे इसी तरह प्रोत्सन करते रहेगे
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  65. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  66. मुश्किल को मुश्किल कह देना, आसान लगता है |
    मुश्किल से टकराने वाला, इन्सां लगता है ||
    मुश्किलें, मुश्किलें नहीं लगतीं |
    मुश्किलों को 'शशि' ने पाला है ||
    या
    मुश्किलों ने शशि को, पाला है || baat aapki bhi, baza lagti hai. aapse ittifaq hai.

    ReplyDelete
  67. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    हर शेर बिलकुल लाजवाब है ... बहुत सुन्दर ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  68. namaskar ji
    blog par kafi dino se nahi aa paya mafi chahata hoon

    ReplyDelete
  69. bahut sunder lajawab
    blog door rahana bahut hi mushkil hein

    ReplyDelete
  70. बहुत ही उम्दा गजल है । कितनी सादगी से आप अपनी बात कह गये है ।
    यह हमारे लिए सीखने का अवसर है ।
    आभार बावू जी ।

    ReplyDelete
  71. उम्दा ग़ज़ल , हर शेर गज़ब का .शुक्रिया .

    ReplyDelete
  72. सुन्दर सी ग़ज़ल ..बधाई.
    ________________________
    'पाखी की दुनिया' में 'पाखी बनी क्लास-मानीटर' !!

    ReplyDelete
  73. जो मुस्कराता है, 'कुसुमेश' बन के रहता है |
    खुदा के घर का वो, दरवेश बन के रहता है ||
    कमाल खूब है हासिल, कलाम कहने में |
    ख्याल सबसे जुदा ही, हमेश कहता है ||

    ReplyDelete
  74. खूबसूरत ग़ज़ल ..........हर शेर बेहतरीन

    ReplyDelete
  75. बहुत सुंदर दिल को छु लेने वाली गजल .यथार्त का चित्रण .इतनी सुंदर रचना के लिया बधाई
    कितनी शोरिश पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.

    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात,मुश्किल है.

    ReplyDelete
  76. itni khoobsurat gazal ke deedar ke liye thanks...........

    ReplyDelete
  77. itna sundar likhte hai aap ,nazar hatana mushkil hai..

    ReplyDelete
  78. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    कितनी शोरिश पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.

    वाकई मुश्किलों से तो शायद कभी किसी को निजात मिले....
    छोटी बहर की लाजवाब ग़ज़ल....
    देर से आने के लिए मुआफी चाहूंगी..कुछ तबियत ठीक नहीं थी...अभी कुछ दिन बाहर भी जाना है....देर से ही सही, आऊंगी जरूर...

    ReplyDelete
  79. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    bahut umda shayari ....
    har ek sher lajawab ...!!

    ReplyDelete
  80. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है...
    badiya...
    laajabab..

    ReplyDelete
  81. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.

    वाह क्या बात है वाकई सही कहा है अगर रात अपने पे आये तो बितनी मुश्किल होती है ............
    माफ़ी चाहूँगा इस बार काफी दिनों बाद ब्लॉग पे आना हुआ ,इस लिए देरी हो गई !
    आपके लेखन के बड़े ही मुरीद है हम तो हमेशा इन्तजार रहता है आपके नए प्रकाशन का

    ReplyDelete
  82. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.bahut khoobsurat....

    ReplyDelete
  83. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    Nice Ghazal .

    Thanks.

    ReplyDelete
  84. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है.
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आया अच्छा लगा
    वाह ... कितना मधुर ... आत्मा को .... अंतस को छूता हुवा .... कमाल की अभिव्यक्ति है ....

    ReplyDelete
  85. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.

    अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है
    ati sunder
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  86. फिर छेडो कोई नया तराना कुँवर
    अपने लिये अब इन्तजार मुश्किल है।

    ReplyDelete
  87. आप तो छाये हुए हैं गुरू ....

    क्‍या गजब गजल है..वाह ...

    ReplyDelete
  88. रोज़ उठने लगा है गिर-गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात,मुश्किल है.
    .
    कुंवर जी वाह क्या बात है

    ReplyDelete
  89. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल के लिए आपको बधाई.....

    ReplyDelete
  90. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात,मुश्किल है
    ........हर शेर बिलकुल लाजवाब है ....

    ReplyDelete
  91. इसी के साथ सेंचुरी की बहुत बहुत बधाई......

    ReplyDelete
  92. बहुत ही उम्दा गजल है

    ReplyDelete
  93. बहुत सुन्दर ग़ज़ल....सच्चाई को बयां करती हुई ...

    ReplyDelete
  94. कुशमेश जी
    इसी के साथ सेंचुरी की बहुत बहुत बधाई......

    ReplyDelete