Tuesday, May 3, 2011


जनसंख्या बढ़ती गई

कुँवर कुसुमेश

जनसंख्या बढ़ती गई,यूँ ही बेतरतीब.
तो मानव को अन्न-जल,होगा नहीं नसीब.

जनसंख्या की वृद्धि के,निकले ये परिणाम.
जीवन के हर मोड़ पर, कलह और कुहराम.

पैदा होते प्रति मिनट,नित बच्चे तैतीस.
विषम परिस्थति हो गई,क्या होगा हे ईश. 

फुटपाथों पर सो रहे,लाखों भूखे पेट.
क़िस्मत करने पर तुली,इनका मटिया-मेट. 

जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.

बढ़ते जाते आदमी,सीमित मगर ज़मीन.
अन्न बढ़ायें किस तरह,बेचारे ग्रामीण ?
*********

85 comments:

  1. सभी दोहे शिक्षाप्रद और सटीक हैं!
    इन्हें पढ़वाने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  2. देश में भुखमरी , बेरोजगारी , भ्रष्टाचार और अशिक्षा , सब के लिए जिम्मेदार ये बढती हुयी आबादी ही है।

    ReplyDelete
  3. jansnkhya visfot par sunder dohe

    ReplyDelete
  4. बेहद गंभीर विषय है जनसँख्या विस्फोट... ऐसे विषय पर दोहे लिखना आसन नहीं होता.. यह आपकी रचनात्मकता ही है कि यह कविता इतनी प्रभावशाली बन गई है..

    ReplyDelete
  5. जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
    कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.
    gambheer halat... jansankhya badhti hi ja rahi , kavita achhi hai

    ReplyDelete
  6. बढती जनसंख्या के दुष्परिणामों को बहुत ही बढ़िया तरीके से उभारा है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  7. जनसंख्या की वृद्धि के,निकले ये परिणाम,
    जीवन के हर मोड़ पर, कलह और कुहराम।

    बिल्कुल सही बात।
    कलह चाहे दो व्यक्तियों के बीच हो या दो देशों के बीच, उसका कारण बढ़ती जनसंख्या ही है।
    जनसंख्या वृद्धि के दुष्परिणामों को अभिव्यक्त करते ये दोहे हमें भविष्य के प्रति आगाह भी कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  8. सच में चिंता का विषय है !
    सभी पंक्तियाँ सुंदर है..........

    ReplyDelete
  9. सभी दोहे एक से बढ़ कर एक बढ़ती हुई जनसँख्या विचारणीय प्रश्न है हमारी ओर से सुंदर रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचनात्मक कथन

    जनसंख्या की वृद्धि के,निकले ये परिणाम.
    जीवन के हर मोड़ पर, कलह और कुहराम.

    ReplyDelete
  11. sach kaha hai aapne jansankhya ko rokna hoga

    ReplyDelete
  12. Waqayee badee sanjeda rachana hai! Badhtee huee jansankhya ne to har vicharee Bharteey kee neend haram kar rakhee hai!

    ReplyDelete
  13. वाकई बहुत खराब हालत है मगर हम भविष्य में क्या होगा ? यह सोंचते ही नहीं हैं !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. सार्थक सन्देश देते अच्छे दोहे ..

    ReplyDelete
  16. लगता हे भारत मे लोगो को दुसरा कोई काम नही...

    ReplyDelete
  17. बढ़ते जाते आदमी,सीमित मगर ज़मीन.
    अन्न बढ़ायें किस तरह,बेचारे ग्रामीण ?...bahut uttam dohe hain.aapka blog achcha laga.badhaai dene par aapka haardik dhanyavaad.

    ReplyDelete
  18. bahut badhiyaa dohe likhe haae aapne ? janskhayaa par ankush nhi hae ?

    ReplyDelete
  19. जनसंख्या की वृद्धि के,निकले ये परिणाम.
    जीवन के हर मोड़ पर, कलह और कुहराम

    बहुत बढ़िया ......हमरे देश कई सारी समस्याओं की जननी यही है...... बढती जनसँख्या ..... बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  20. देश के वर्तमान हालात को क्या खूब दर्शाया है आपने इन दोहे के माध्यम से। एक एक दोहे में आम लोगों की तस्वीर है।

    ReplyDelete
  21. बिल्कुल सही कहा है सर आप ने जनसँख्या एक चिंतनीय विषय है

    ReplyDelete
  22. जनसंख्या बढ़ती गई,यूँ ही बेतरतीब.
    तो मानव को अन्न-जल,होगा नहीं नसीब......भाई कुसुमेश जी!
    जनसँख्या विस्फोट जैसे ज्वलंत मुद्दे पर इतने सुंदर और प्रेरक दोहे.. कमाल है....सचमुच मैं इन कालजयी रचनाओं से वंचित था. आपके ब्लॉग के तमाम पोस्ट्स का गहन अध्ययन करना होगा.

    ---देवेंद्र गौतम

    ReplyDelete
  23. कुंवर जी आपने दोहों का माध्यम अपना सरलता से वो बात कह दी जिसे कहने में हमारे नेता घंटों लगा देते हैं...इन दोहों को हर जन मानस तक पहुंचना चाहिए क्यूँ के ये मात्र दोहे नहीं हैं जीवन की विषम सच्चाई है जिस से हमें पार पाना होगा...आपकी लेखनी और सोच को नमन.

    नीरज

    ReplyDelete
  24. सभी पंक्तियाँ बिल्कुल सही ..बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  25. आदरणीय कुशुमेश सर,
    "जनसंख्या बढ़ती गई,यूँ ही बेतरतीब.
    तो मानव को अन्न-जल,होगा नहीं नसीब."
    आजकल इस चिंता को मेट्रो ट्रेन में भी जगह मिली है जहाँ एक पोस्टर में एक आदमी सिर पर इंसानों से भरा टोकरा लिए खड़ा है और टोकरे से लोग बाहर गिर रहे हैं. गजल की कुछ पंक्तियों में ही आपने वह तस्वीर उकेर दी.अत्यंत सन्देशपरक गजल.

    ReplyDelete
  26. आदरणीय कुशुमेश जी
    नमस्कार
    बढ़ती हुई जनसँख्या विचारणीय प्रश्न है
    .... उसे बहुत ही बढ़िया तरीके से प्रस्तुत किया है आपने.

    ReplyDelete
  27. जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
    कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल....
    बहुत लाजवाब कुंवर जी ... इन दोहों में आपने जनसंख्या के बॅडते प्रभाव का लाजवाब चित्रण किया है ... ये एक गंभीर समस्या है ...

    ReplyDelete
  28. आपने बहुत सुन्दरता से सच्चाई को प्रस्तुत किया है! बढ़ती आबादी को रोकना बेहद ज़रूरी हो गया है ! हमारा देश जनसँख्या में अन्य देशों से सबसे आगे जा रहा है जिसके वजह से गंदगी फ़ैल रही है और गरीबी तेज़ गति से बढ़ रही है! आपने सटीक लिखा है ! बहुत बढ़िया कविता!

    ReplyDelete
  29. एक सच बयां करती ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  30. बहुत ही सुंदर और सामयिक दोहे बधाई भाई कुसमेश जी

    ReplyDelete
  31. फुटपाथों पर सो रहे,लाखों भूखे पेट.
    क़िस्मत करने पर तुली,इनका मटिया-मेट.

    संवेदनशील भाव हैं...
    धन्यवाद!!!

    ReplyDelete
  32. बढती हुई आबादी एक गंभीर समस्या.... एक समस्या है जिस पर सरकार वर्षों से काम कर रही है पर जनता है की आज तक नहीं समझ सकी अपनी बर्बादी पर खुद ही तुली है... सार्थक सन्देश देती बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  33. फुटपाथों पर सो रहे,लाखों भूखे पेट.
    क़िस्मत करने पर तुली,इनका मटिया-मेट.
    सभी दोहे बढ्ती हुयी आबादी की स्मस्या पर बहुत सटीक हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  34. आद० कुसुमेश जी ,

    जनसंख्या वृद्धि जैसे गंभीर मुद्दे पर आपने लिखकर जन-जन को जगाने का पुनीत कार्य किया है |

    दोहों का क्या कहना .......सभी दोहे सुन्दर ---स्वतः अभिव्यक्त हो रहे हैं |

    ReplyDelete
  35. प्रतीक्षा है कुसुमेश जी ...

    ReplyDelete
  36. bahut hi vichaarneey mudda uthaya hai aapne.. shikshit log to sajag ho gaye hain ashikshit ko bhi samjhana hoga ya chaina ya japan ki tarah koi kanoon banana hoga.

    sarthak post.

    ReplyDelete
  37. jansankhya varudhi par gahan chintan ke sath sunder dohe .

    ReplyDelete
  38. जनसंख्या वृद्धि से उपजती हुई
    आशंकाओं को
    बहुत अच्छे सलीक़े से प्रस्तुत किया है
    सभी दोहे प्रासंगिक हैं .

    ReplyDelete
  39. भारत के लोग जानते हुए भी अनजान बन रहे है। जनसंख्या वृद्धि पर तथ्य परक रचना।

    ReplyDelete
  40. जनसँख्या वृद्धी एक बहुत बड़ी समस्या तो है हमारे देश की .इस समस्या पर बहुत सुंदर रचना पर बहुत-बहुत बधाई /

    ReplyDelete
  41. एक गंभीर समस्या को सुन्दर कविता में प्रस्तुत किया है आपने
    सादर

    ReplyDelete
  42. कुसुमेश जी, ब्लॉग पर टिपण्णी करने के लिए शुक्रिया ...
    आपके ये दोहे कबीले तारीफ़ हैं ... न केवल साहित्यिक दृष्टि से बल्कि सामाजिक जागरूकता लाने के ओर भी ये सफल हैं ...
    ये सच है कि हमारे देश में तेजी से बढती जनसँख्या एक बहुत बड़ी समस्या है ... यदि इस समस्या का समाधान नहीं हुआ तो देश की हालत और बिगड़ती जायेगी ...

    ReplyDelete
  43. जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
    कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.

    जनसँख्या वृद्धी, इस समस्या पर बहुत सुंदर रचना,
    बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  44. अन्न बढ़ायें किस तरह,बेचारे ग्रामीण ?
    एकदम सटीक रचना

    ReplyDelete
  45. aadarnuy sir
    g.mail par aapka masseg padhatha par kya karun sawasthy theek hone ka naam hi le raha hai .
    isi liye tippni dalne me der ho jaati .
    aasha hai ki aap meri majburiyo ko samjhte hue hriday se mujhe xhma karenge.
    apki yah o-post aaj ji sachchi ko axhrsah shbd -shbd bayan kar rahi hai .
    wastav me ye bdhti hui jasanskhya ek bhau hi chitniy vishay hai jies aapne bakhoobi likhara hai
    bahut hi achhi vvicharniy tathy
    dhanyavaad sahit badhaai
    poonam

    ReplyDelete
  46. सच में जनसंख्या इस कदर बढाती रही तो एक दूसरे को खाना पड़ेगा
    http://coralsapphire.blogspot.com/2011/05/blog-post.html
    आज कल व्यस्त हू -- I'm so busy now a days-रिमझिम

    ReplyDelete
  47. जनसख्या वृद्धि की गहन समस्या को बहुत रोचक तरीके से इन दोहों में लिखा है |
    अच्छा प्रयास है |

    ReplyDelete
  48. jansakhyavradhi par etni achchhi kavita padhane ke liye thinks

    ReplyDelete
  49. इस बात पर बहुत चर्चा होती है . कोई कदम आगे नहीं बढ़ाता .
    कोई भी आगे नहीं आता . मैंने तो विवाह के पहले ही ये निर्णय ले लिया था कि एक अनाथ बच्चे को गोद लिया जाएगा. जितना किया जा सके ज़रूर किया जाए.
    आपकी अभिव्यक्ति अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  50. बढ़ते जाते आदमी,सीमित मगर ज़मीन.
    अन्न बढ़ायें किस तरह,बेचारे ग्रामीण ?
    bahut badhiya ,chinta jayaz hai ,nahi to akaal ki sthiti utpann ho sakti hai .

    ReplyDelete
  51. priy kunwar sahab

    very good poem with a sense of national interest ,chosen words and feelings are miraculous . mind blowing sir .

    ReplyDelete
  52. sir ji namaskaar
    vartmaan ki samasya par bahut hi sunder
    sochne par majboor karti rachna

    ReplyDelete
  53. Kunvar ji "DOHE NAHIN HAKEEKAT HAIN YE IS DAUR KEE ".
    jansankhyaa ne leel lee mahauli sab preet ,
    saavan reetaa hi gyaa ,faagun bhi vipreet !
    veerubhai .

    ReplyDelete
  54. अगर बेहतर प्रबंधन और समयबद्ध कार्य योजना के साथ काम करें तो बढ़ती जनसंख्या कोई समस्या नहीं ,बल्कि विकास की एक बड़ी शक्ति बन जाएगी .आर्थिक विषमता सबसे बड़ी समस्या है. एक तरफ मुट्ठी भर लोगों के कब्जे में सैकड़ों -हजारों एकड खेत और आवासीय भूमि ,तो दूसरी तरफ लाखों-करोड़ों भूमिहीन और बेघर गरीब . विषमता की इस तस्वीर का जनसंख्या वृद्धि से भला क्या संबंध ? हसन अली जैसे सफेदपोश डकैत ने देश को लूटकर कम से कम आठ सौ अरब डालर कालाधन स्विस बैंक में जमा किया हुआ है, भारत की आबादी १२१ करोड़ है. अगर हसन अली के इस आठ सौ करोड़ डालर को जब्त कर १२१ करोड़ भारतीयों में एक-एक करोड़ डालर बाँट दिया जाए तो भारत के हर नागरिक के पास पचास करोड़ रूपए होंगें ,फिर भी सरकार के पास ६७९ करोड़ रूपए की बचत रहेगी. अगर भ्रष्ट अफसरों और भ्रष्ट नेताओं की अरबों-खरबों की अनुपातहीन संपत्ति को राजसात कर जनता की बेहतरी के कामों में खर्च किया जाए ,तो जनसंख्या कोई समस्या नहीं रह जाएगी . जनसंख्या को समस्या मान कर दुखी होने से कुछ नहीं होगा . आबादी का ठीक-ठीक प्रबंधन होना ज़रूरी है . तभी वह हमारी ताकत बनेगी .विभिन्न देशों के बीच तमाम वैचारिक मतभेदों के बावजूद चीन का उदाहरण हमारे सामने है.

    ReplyDelete
  55. बहुत ही सटीक लिखा है आपने.
    अगर हमने बढ़ती जनसंख्या पर काबू नहीं पाया तो मुझे नहीं लगता हमारा देश कभी सुपर पॉवर बन पायेगा.
    हमारे तथाकथित विकास का गुबारा जल्द ही फूटने वाला है.

    ReplyDelete
  56. फुटपाथों पर सो रहे,लाखों भूखे पेट.
    क़िस्मत करने पर तुली,इनका मटिया-मेट.

    जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
    कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.

    लाजवाब दोहे....

    ReplyDelete
  57. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  58. अन्न-जल की कमी आज तक तो हुई नहीं है . आज भी हामारे गोदाम भरे पड़े हैं लेकिन इसके बावुजूद हमारे नागरिक भूखों मर रहे हैं क्योंकि हमारे हाकिम वही करते हैं जो कि ब्याजखोर पूंजीपति चाहते हैं .
    फ़न के ऐतबार से ग़ज़ल उम्दा है.

    ReplyDelete
  59. कुँवर कुसुमेश!
    आपकी चिंता जायज है। योजना आयोग पहले से मौजूद आबादी के लिए योजनाओं को जमीन पर उतार भी नहीं पाता उससे पहले जन- संख्या का नया सैलाब उसे चुनौती देने लगता है। इस विषम स्थिति में हर भारतीय दम्पति को यह संकल्प लेना चाहिए कि "हम दो हमारा एक।"
    =========================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  60. बहुत ख़ूब.. अब आपकी तारीफ़ के लिए शब्द कहाँ से लाऊं!
    इस सत्य से ओतप्रोत प्रभावशाली रचना के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  61. वास्तविक स्थिति का वास्तविक मूल्यांकन किया है.विचारणीय मुद्दा है.

    ReplyDelete
  62. SOCHNE KO MAJBUR KARTI HAI AAPKI YE RACHNA. AANE WALE KUCH SAMAY ME SAYAD PER RAKHNE KO JAGHA NAHI MILEGI. . . . . . . . , . . . . . . . JAI HIND JAI BHARAT

    ReplyDelete
  63. हर समस्या के लिए जनसंख्या को ज़िम्मेदार मान लेना अर्ध-सत्य की तरह होगा. असल समस्या संसाधनों को सामान रूप से वितरित करने की है,जो वास्तव में एक बड़ी चुनौती है. इसलिए सारी समस्याओं की जड़ यह आबादी नहीं है. इसलिए इस विषय पर भावुक होकर कुछ भी लिखने और भावावेश में उस पर कुछ भी टिप्पणी करने से पहले हमे इन तथ्यों पर ठन्डे दिमाग से विचार कर लेना चाहिए . कृपया कुसुमेश जी की इस रचना पर इन्ही टिप्पणियों के बीच मेरी पहली टिप्पणी भी ज़रूर पढ़ने का कष्ट करें .

    ReplyDelete
  64. कुंवर कुसुमेशजी!बच्चों जैसा कौतुक पैदा हुआ है ,कोपी पेस्ट करना सीखने की आज़माइश चल रही है ,पहला प्रयास कामयाब रहा ,हमें खुद खासा कष्ट होता है रोमन लिपि में अपने ज़ज्बात लिखने में .कई लोग तो इन टिप्पणियों को पढ़ते भी नहीं है ,आपकी सर्वयापी पर्यावरण सचेत दृष्टि :बढती आबादी अंत बर्बादी में अभिवयक्त हुई है ।
    सलाम आपके ज़ज्बे को ,हुनर को ,हमें तो ठीक से यह भी नहीं पता "काफिया "क्या और "रदीफ़ "क्या है ,मतला और मक्ता क्या है .
    संगे -मरमर -और हथोडी(कच्चा माल ,भाव उदगार ) अपने इक ग़ज़ल रफूगर मित्र को भेज देतें हैं वहां से तैयार शुदा माल (ग़ज़ल )आ जाता है .इति-
    आदर और नेहा से -वीरेंद्र शर्मा (वीरुभाई )

    ReplyDelete
  65. Your DOHE are just amazing. Congrats on such meaningful writing.

    ReplyDelete
  66. बहुत गहन विचार एवं चिंतन...
    बहुत ही शानदार...

    ReplyDelete
  67. bahut badhiya vichar utne hi uttam tareeke se prastut.

    ReplyDelete
  68. कोठी बन गई मकान
    मकान बन गए ..फ्लोर
    फ्लोर बन गए ...फ्लैट अब
    उसी ज़मी पे मंजिले बढती गई
    नए लोग ...नया है जमावड़ा
    पर इतनी संख्या में ...अपने तो खो गए .............(अंजु....(अनु )

    ReplyDelete
  69. सत्य से ओतप्रोत प्रभावशाली रचना के लिए आपका आभार|

    ReplyDelete
  70. सभी समस्याओं की जड़ में जनसंख्या वृद्धि है।

    ReplyDelete
  71. जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
    कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.

    बिलकुल बाजिव चिंता है आपकी ..!

    ReplyDelete
  72. आदरणीय कुँवर कुसुमेशजी
    अच्छी पोस्ट है…
    जितनी तारीफ़ की जाय कम है!

    ReplyDelete
  73. विचारनीय प्रस्तुति |
    खुबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  74. आदरणीय कुँवर कुसुमेशजी

    निस्संदेह ऎसी पोस्ट सिर्फ आप ही लिख सकते है

    ReplyDelete
  75. मातृदिवस की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  76. सभी दोहे बेहद प्रभावी .....सोतो को जगाते हुए से....सादर !

    ReplyDelete
  77. ye chintan bhi aawashyak tha...

    har samasya par hum vichar karte hain, par is par kisi ka jyada dhyan nahi jaata....

    jansankhya niyantran aawashyak hai....

    ReplyDelete
  78. बेहतरीन अल्फाज़ों मैं आप ने बढती जनसँख्या जैसी समस्या पे प्रकाश डाला है..

    ReplyDelete
  79. कटु विषय पर एक से बढ़कर एक दोहे. जनसँख्या वृद्धि पर ये प्रहार बहुत सुंदर लगा.

    ReplyDelete
  80. जनसंख्या वृद्धि एक समस्या है और आपने इस पर बहुत सार्थक टिप्पणी की है ..

    ReplyDelete
  81. सच बयां करती ... विचारनीय प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  82. jansankhya jo ek jwalant samsya hai use par sunder lekhan.....
    aabhar

    ReplyDelete