Saturday, May 14, 2011


हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक


कुँवर कुसुमेश 

मसर्रत के लिबासों में छिपे वल्लाह ग़म निकले,
किताबे-ज़िंदगी में तह-ब-तह रंजो-अलम निकले .

गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.
*******
मसर्रत=ख़ुशी, दैरो-हरम=मंदिर-मस्जिद, अदब=साहित्य.
बू-ए-सियासत=राजनीति की बू, अहले-क़लम=लिखने वाले.

96 comments:

  1. आदरणीय कुशुमेश जी
    नमस्कार !
    हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.
    सटीक और सार्थक प्रस्तुति.व्यवस्था के ऊपर तीखा व्यंग्य छिपा है आपकी अभिव्यक्ति में बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  2. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.
    बहुत गहन ..अर्थपूर्ण ..आज के समय को बयां करती हुई ..उत्तम प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. वाह। हर शेर दाद के काबिल। सीधे दिल में उतरती है।

    ReplyDelete
  4. ग़ज़ल के शहंशाह की कलम से निकली हुई,
    बहुत उम्दा नज़्म!

    ReplyDelete
  5. • आप, मानवीय भावनाओं और व्यवहार के विस्तृर दायरे की अच्छी समझ रखते हैं।
    गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.
    • मामूली सी बात भी आपकी ग़ज़ल में ख़ास हो जाती है।

    • यह ग़ज़ल अपने समय को पड़ताल करती है।
    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया ग़ज़ल... इशारों में कही गई बात बहुत गहरी और चिंतनीय है...

    ReplyDelete
  7. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.

    सच को कहती खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  8. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  9. आदरणीय कुशुमेश जी
    नमस्कार !
    आपका मेरे ब्लाग पर आने के लिए धन्यवाद
    आपका मेरे ब्लाग पर आने के लिए धन्यवाद आप के ब्लाग पर आकर अच्छा लगा. देर से आने के लिए माफ़ करें. बहुत गहन ..अर्थपूर्ण ..आज के समय को बयां करती हुई ..उत्तम प्रस्तुति.....
    आज धर्म भी राजनीति की भेंट चढ़ गयी है बहुत सोचनीय हालात का वर्णन किया है आपने. आखिर हम किस पर विश्वास करें ?

    ReplyDelete
  10. अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले..

    Very nice Ghazal.

    .

    ReplyDelete
  11. ग़ज़ल के तमाम अश`आर
    अपनी बात खुद कह पाने में
    कामयाब साबित हो रहे हैं....
    अपने आस-पास की खबर रखना
    और उसे लेखन में ढाल पाना,,,
    आप की खूबी है जनाब !!

    ReplyDelete
  12. गज़ब की लेखनी है भाई जी ! शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  13. वाह कुंवर साहब, क्या खूब कहा

    हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    सच्चाई से रूबरू कराती हुई गज़ल

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर गजल है !
    हर पंक्ति लाजवाब ........

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  16. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    बहुत उम्दा लेखनी .....आज के इंसान ने ईश्वर के घर को भी दूषित कर दिया है .........

    ReplyDelete
  17. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.


    अब ये जगह काम आती है दहशत फ़ैलाने में

    ReplyDelete
  18. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.
    .............
    बहुत सुन्दर शेर...
    यही सत्यता है आज कल के परिवेश में....इबादतगाह में ही बम मिलते हैं...

    ReplyDelete
  19. कुंअर कुसुमेश जी,
    इबादतगाहों में बम, हथियार मिलने का प्रारंभ बहुत निंदनीय और घृणित मानवीय अपराध की श्रेणी में आता है , हज़ार लानत !

    …बहरहाल शायरों के लिए एक ठोस विषय भी ऐसे मज़्हबफ़रोशों की ही देन है

    … और अच्छे शे'र कहे हैं आपने …हमेशा की तरह । बधाई !

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया ग़ज़ल.शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.bahut hi saarthak aur hakikat se paripoorn gajal hai.bahut hi achcha likhten hain aap.badhaai aapko.

    ReplyDelete
  22. बहुत ख़ूब !!
    ख़ूबसूरत मतला !!!!!!!
    बामानी अश’आर !!!!!!
    मुकाम्मल और मुरस्सा ग़ज़ल !!!!

    ReplyDelete
  23. गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.
    .

    बहुत दिन से ब्लोगिंग से दूर था औत वापस आने पे कुछ ऐसा पढने को तलाश रहा था जो दिल को छु जाए. बस यह तलाश यहाँ पे ख़त्म हुई.

    ReplyDelete
  24. सही कह रहे हैं। सच्चाई का अहसास होना ही नई राह की शुरूआत है।

    ReplyDelete
  25. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.
    सच्ची अच्छी और प्रासंगिक पंक्तियाँ...... बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  26. अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले..

    सच कह दिया है आपने, हमेशा की तरह
    लाजवाब, बेमिसाल से आप कहाँ कम निकले...

    ReplyDelete
  27. गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

    सच है यह.

    ReplyDelete
  28. क्या बात है ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  29. गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.
    काश के चाँद तारे गवाह होते तो कुसूरवार का बचना बहुत मुश्किल हो जाता |
    एक शब्द में खनक सुनाई दे रही है |
    बहुत ही उम्दा प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  30. ग़ज़ल दिल के करीब लगी , समाज की सच्चाई से रूबरू कराते हुए हर अशआर. खूबसूरत

    ReplyDelete
  31. Nice gazal kunvar ji.

    Aap bahut sahi kah rahe hain, bahut kam likhne vale hain, jo kuchh naya likh pate hain. Ham to aksar likh ke jab dekhte hain apna likha hua, to pate hain ki ismen hamne naya kya kaha - ye to n jane kitne log n jane kitni martaba pahle hi likh chuke hain.

    ReplyDelete
  32. कुँवर जी,

    बडी सत्यपरक गज़ल है।

    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.

    ReplyDelete
  33. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    bahut sahi kaha.............

    H. Bachchan sahab ne bhi kaha tha-bair karaate mandir masjid.................

    bas itna samajh me aata hai ki......raam raam, allah allah to sab chillate hain, magar unke bataye raaston par koi nahi chalna chahta..........

    "jo dharm ko sahee arthon me padha hota, manzar aaj yun na hota"...........

    saarthak rachna!

    ReplyDelete
  34. बहुत ही गहन और सोचपरक गज़ल दिल मे उतर गयी।

    ReplyDelete
  35. aapki har ghazal ek sandesh chuppaye hoti hai.bahut umdaa likhte hain aap.bas kya kanhoo taareef ke liye shabd chote pad rahe hain.

    ReplyDelete
  36. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    ग़ालिब की ज़मीन में ग़ज़ल कहने में बड़े-बड़े शायरों को पसीने छूटने लगते हैं और आपने उसमें इतने सामयिक और लाजवाब अशआर कह डाले. कमाल है कुसुमेश जी!..... मुबारक हो!
    ----देवेंद्र गौतम

    ReplyDelete
  37. आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी

    गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

    हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    ReplyDelete
  38. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    ...सत्य का बहुत सार्थक और सटीक चित्रण..ख़ूबसूरत गज़ल..

    ReplyDelete
  39. समाज की सच्चाई से रूबरू कराती खूबसूरत ग़ज़ल... आपकी हर रचना बहुत ही अच्छी होती है जैसे तराशा हुआ ताजमहल...
    बेमिसाल........

    ReplyDelete
  40. मसर्रत के लिबासों में छिपे वल्लाह गम निकले ....
    अपने वक्त से संवाद करती रु -बा -रु है ग़ज़ल आपकी ।
    शुक्रिया इस ट्रीट के लिए .

    ReplyDelete
  41. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.
    बहुत ही खुबसूरत ख्याल पेश किया है | हर शे'र लासानी है |
    इसी बहर में मक्ता लिखा है, भेजने की हिमाकत कर रहा हूँ |
    गजल पूरी करने की कोशिश करूँगा , फिर भेजूंगा |

    संभल के दोस्ती खुद से, 'शशि' करना, नसीहत है |
    तुम्हे जिसकी तमन्ना है, वो शायद तुम में कम निकले ||

    ReplyDelete
  42. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक |
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले ||
    बहुत ही खुबसूरत ख्याल पेश किया है | हर शे'र लासानी है |
    इसी बहर में मक्ता लिखा है, भेजने की हिमाकत कर रहा हूँ |
    गजल पूरी करने की कोशिश करूँगा , फिर भेजूंगा |

    संभल के दोस्ती खुद से, 'शशि' करना, नसीहत है |
    तुम्हे जिसकी तमन्ना है, वो शायद तुम में कम निकले ||

    ReplyDelete
  43. आदरणीय कुँवर कुसुमेशजी

    जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.

    क्या बात है ...बहुत सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  44. बेहतरीन अभिव्यक्ति .......

    ReplyDelete
  45. हर शेर बहुत उम्दा, बहुत सुंदर रचना । और इसकी भी याद आ गई - बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  46. हमेशा की तरह बहुत अच्छा लिखा है।

    ReplyDelete
  47. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक,
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले।

    सच्चाई की व्याख्या करती हुई ध्यानाकर्षित करने वाली ग़ज़ल।
    हर शेर प्रशंसनीय है।

    ReplyDelete
  48. भाई कुशमेश जी बहुत ही बेहतरीन गज़ल हर शेर लाजवाब बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  49. bahut sundar gazal ...aaj pahli baar aapke blog par aai hun .bahut achha lga..

    ReplyDelete
  50. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.
    वाह बहुत खुब ओर आज का सच जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  51. आपने सच कहा साहब कि दो चार ही अहले क़लम निकले
    बाक़ी कौन निकले बताएं एक तो आप और दूसरे हम निकले


    एक उम्दा ग़ज़ल के लिए शुक्रिया !

    हिंदुस्तानी इंसाफ़ का काला चेहरा Andha Qanoon

    ReplyDelete
  52. इतना सुन्दर ग़ज़ल लिखा है आपने की तारीफ़ के लिए अलफ़ाज़ कम पर गए! हर एक शेर लाजवाब है! दिल को छू गयी हर एक शेर! शानदार प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  53. कुंवर भाई इस बेहतरीन ग़ज़ल के दिली दाद कबूल फरमाएं. हर शेर में आपने सच्चाई को पर्त दर पर्त बड़ी कारीगरी से उधेडा है...वाह...आज के हालात की तर्जुमानी करती हुई इस ग़ज़ल के लिए एक बार फिर से ढेरों बधाइयाँ स्वीकारें.

    नीरज गोस्वामी

    ReplyDelete
  54. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    बेहतरीन गज़ल और सच्चाई का आइना. बहुत बधाई और शुक्रिया इस शानदार रचना से रूबरू करवाने के लिए.

    ReplyDelete
  55. सर आप के एक - एक अल्फाज अपनी एहमियत वयां कर रहे हैं |
    आप इन्ही अल्फाजों के जरिये बहुत उम्दा बात कह दिया है ||

    ReplyDelete
  56. KUCHH AISA BHI LIKHEN, KI EK CHINGARI-A-ZALZALA HO JAYE....AISA BAHUT HO GAYA. VAKTA AB KARNE KA JO AA GAYA HAI.

    ReplyDelete
  57. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.


    क्या बात है कुसुमेश जी ... बेहतरीन ग़ज़ल और लाजवाब हर शेर !

    ReplyDelete
  58. "हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले."
    कुशमेस सर, बहुत सही कहा है आपने.तभी तो आज लोगों से कहा जा रहा है कि "ईश्वर -अल्लाह को दिल में बसाओ कि हर-पल साथ रहे तेरा रब,मत ढूंढो कि कहाँ है वो और मिलेगा कब?" काश! हम कबीर को समझ पाते और समय को अपने हिसाब से ढाल पाते.बहुत ही प्रेरणादायी गजल है,सर.

    ReplyDelete
  59. गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

    हर एक पंक्ति लाजवाब ... अक्षरश: सत्‍य लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  60. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले...

    सच बयानी ... यथार्थ का चित्रण है इस शेर में कुंवर जी ... बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल है ...

    ReplyDelete
  61. आद . कुंअर जी,
    ग़ज़ल पढ़ने के बाद काफी देर तक सोचने पर मजबूर हो गया !
    गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

    किस किस शेर की तारीफ़ करूँ ,हर शेर दौरे हाजिर का आईना है ! इस गूंगे दौर में आपकी ग़ज़लों की गूंज आने वाले वक्त की विरासत बन कर महफूज रहेगी !
    आजकल थोड़ी व्यस्तता के कारण अनियमित हूँ ,माफ़ करियेगा !
    आभार !

    ReplyDelete
  62. सत्य का बहुत सार्थक और सटीक चित्रण|बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल है|

    ReplyDelete
  63. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादतगाह कहते थे
    फसादों की जड़ें लेकर,वही दैरो-हरम निकले
    ******************************
    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गयी साहब
    कहें सच तो 'कुँवर', दो-चार ही अहले-कलम निकले

    ...........................वाह कुसुमेश जी ! हर शेर उम्दा ....जानदार ग़ज़ल

    ReplyDelete
  64. आपकी उत्साह भरी टिप्पणी और हौसला अफजाही के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  65. आपने सही कहा है-वस्तुतः मंदिर और मस्जिद तो हैं ही फसाद के अड्डे.जो धर्म का -क ख ग भी नहीं जानते उनका ही व्यापार इबादत-खानों से चलता है.

    ReplyDelete
  66. kushmesh sahab bahut hi achchhi gazal hai.........bilkul sachchai bayan karti hui.

    ReplyDelete
  67. आपकी ग़ज़ल में यथार्थ का चित्रण बहुत गहर| और चिंतनीय है..हर एक पंक्ति लाजवाब है...आभार

    ReplyDelete
  68. सर जी ..ये ग़ज़ल इतनी पसंद आई कि समझ नहीं आ रहा मैं किस 'शेर' की तारीफ़ करूँ, और किस 'शेर' को छोड़ दूँ. आपकी इस ग़ज़ल की तारीफ़ में आये सभी कमेंट्स मैं सहमत हूँ. यक़ीन मानिए ये एक गज़ब की ग़ज़ल है. इसके लिए आपको तहेदिल से आभार.

    ReplyDelete
  69. मसर्रत के लिबासों में छिपे वल्लाह ग़म निकले,
    किताबे-ज़िंदगी में तह-ब-तह रंजो-अलम निकले .
    aaj ki tasviro ko bayan karti hai aapki rachna ,laazwaab

    ReplyDelete
  70. उत्कृष्ट रचना ......मैं भी LIC में सहायक पद पर हूँ .मेरे ब्लॉग पर अवश्य आयें......मार्गदर्शन के इंतज़ार में http://kavyana.blogspot.com/

    ReplyDelete
  71. वल्लाह कुंवरजी...
    क्या ग़ज़ल लिखी है....!
    हर शेर अपनी ही खुशबू से तरोताजा है..!
    यथार्थ का चित्रण..कटाक्ष भी एकदम सटीक..!!
    हर शेर पर दाद....!!!

    ReplyDelete
  72. पूरी ग़ज़ल खूब है.
    खासकर यह शेर तो दिल को छू गया ....

    हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    ढेरों सलाम.

    कुंवर जी,केवल राम जी के साथ गलतफहमी दूर कर लीजिये.आप दोनों हमारे लिए बहुत ख़ास हैं.

    ReplyDelete
  73. बेहतरीन गजल। साम्‍प्रदायिक वैमनस्‍य पर अच्‍छा कटाक्ष किया है। आपकी गजल पढ़कर मुनव्‍वर राना जी का एक शेर याद आ रहा है, 'ये देखकर पतंगें भी हैरान हो गयीं। अब तो छतें भी हिन्‍दू मुसलमान हो गयीं।''

    ReplyDelete
  74. KUCHH AISA BHI LIKHEN, KI EK CHINGARI-A-ZALZALA HO JAYE....AISA BAHUT HO GAYA. VAKTA AB KARNE KA JO AA GAYA HAI.

    ReplyDelete
  75. सारी ग़ज़ल में पैनी बातें हैं. मुझे ये पंक्तियाँ बहुत भायीं

    गवाही के लिए तैयार रहना चाँद तारों तुम,
    कि चेहरे पे लिए चेहरा हज़ारो मुहतरम निकले.

    वाह....

    ReplyDelete
  76. केवल रामजी के ब्लॉग से आपके ब्लॉग पर आने का पहली दफा मौका मिला.बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति है आपकी.हर शब्द दिल को छूता है.

    वास्तविकता से तो आप परिचित होंगें ,परन्तु हो सके तो आपसी गिला-शिकवा दूर हो प्रेम और सद्भावना बढे बस यही कामना है.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  77. अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गयी साहब
    कहें सच तो 'कुँवर', दो-चार ही अहले-कलम निकले

    बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  78. pahli bar aapke blog par aaya hun..bahut achchha lga..

    ReplyDelete
  79. सादर नमन आपको.

    ReplyDelete
  80. कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.बिलकुल सही !

    ReplyDelete
  81. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    कमाल का शेर है...
    बेहद शानदार लाजवाब गज़ल ।

    ReplyDelete
  82. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    आपके नए पोस्ट का इंतज़ार है!

    ReplyDelete
  83. एक बहुत ही बेहतरीन व बेमिसाल रचना !

    हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले.

    जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    ये दो शेर विशेष अच्छे लगे ! बहुत बहुत बधाई एवं आभार !

    ReplyDelete
  84. http://aduanapt.blogspot.com/

    ReplyDelete
  85. क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


    अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि


    हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

    ReplyDelete
  86. हमारे तो पल्ले ही नहीं पड़ा. पता नहीं लोग बाग इतनी कठिन भाषा किसके लिए लिखते हैं.

    ReplyDelete
  87. बेहद शानदार लाजवाब गज़ल ।

    ReplyDelete
  88. बहुत सुंदर रचना है.....
    दिल में घर कर गयी!!

    ReplyDelete
  89. हिफ़ाज़त की नज़र से जो जगह महफ़ूज़ थी कल तक.
    उसी मंदिर ,उसी मस्जिद में रक्खे आज बम निकले. wah kya baat hai...
    sabhee sher ek se bad kar ek hai......tareef karne ke liye alfaz kum padenge.
    prashansaneey gazal.
    aabhar

    ReplyDelete
  90. जिसे अल्लाह के बन्दे इबादातगाह कहते थे,
    फ़सादों की जड़े लेकर वही दैरो-हरम निकले.

    अदब में भी बड़ी बू-ए-सियासत आ गई साहब,
    कहें सच तो 'कुँवर' दो-चार ही अहले-क़लम निकले.

    क्या खूब शेर कहें हैं कुंवर साहब! मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  91. बहुत ही सुन्दर...लाज़वाब

    ReplyDelete