Friday, May 27, 2011


 तारों के पीछे

कुँवर कुसुमेश 

छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,

सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.

तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.
  
 *************
   शै=चीज़,  दीदार=दर्शन, 
     सुकूने-दिल=दिल का सुकून.

81 comments:

  1. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    खूब कहा आपने..... सधी सटीक पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  2. सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.
    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे...
    बिल्कुल सही फ़रमाया है आपने! बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना! तारों के जैसा जगमगाता हुआ कविता प्रस्तुत किया है आपने जो सराहनीय है! बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  3. वाह वाह वाह क्या उम्दा लिखते हैं आप मजा आ गया

    ReplyDelete
  4. wow... Each line with the deepest meaning possible !!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  6. यथार्थ पर आधारित बहुत खूबसूरत गज़ल लिखी है आपने !

    सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    तकलीफदेह सच्चाई बयान करती बेबाक रचना ! बधाई स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  7. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

    मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,

    वाह …………बहुत सुन्दर गज़ल्।

    ReplyDelete
  8. ek ek sher laajabaab hai hats off to you Kusumesh ji.hum to aapki ghazalon ke kaayal ho gaye.

    ReplyDelete
  9. 'तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या

    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे '

    .....................क्या कहना कुसुमेश जी ! ,,,,,,,बढ़िया ग़ज़ल , हर शेर जानदार

    ReplyDelete
  10. सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    बहुत खूबसूरत गज़ल ... गहन बातें ले आए हैं इसमें .

    ReplyDelete
  11. मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,

    सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.
    ...bahut sundar yatharparak saarthak prastuti...

    ReplyDelete
  12. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    vah.....kya baat hai. Congrats sir.

    ReplyDelete
  13. हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.
    kitni sachchi baat kahi hai aapne ,sundar rachna

    ReplyDelete
  14. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.


    बहुत ही खूबसूरत बात कही है आपने...
    इन दो पंक्तियों में समूची सृष्टि का दर्शन है...लाजवाब...

    ReplyDelete
  15. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे।

    आपकी पारखी नज़र बारीक बातों को भी पकड़ लेती हैं।
    बढ़िया ग़ज़ल, हर शेर लाजवाब।

    ReplyDelete
  16. "सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.
    तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे."
    इस बार तो सामाजिक सरोकारों का पिटारा ही खोल बैठे ,सर..सच को सीधे-सीधे आइना दिखाती गजल.दिल को छूती गजल.पीठ में छूरा घोपनेवाले दोस्तों से तो वाकई दुश्मन ही अच्छे हैं .
    .

    ReplyDelete
  17. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    यथार्थ पर करारा चोट करता शेर !

    हमेशा की तरह बेहतरीन ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  18. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

    फिर एक बार सुंदर गज़ल से रूबरू कार्य आपने. आपकी खासियत ये है कि हर एक शेर सीधे दिल पर चोट करता है. बहुत बधाई बेहतरीन गज़ल के लिए.

    ReplyDelete
  19. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

    मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,

    खरी खरी, जानदार

    ReplyDelete
  20. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    सुभान अल्लाह...कुंवर जी...बेहतरीन ग़ज़ल हुई है ये. हर शेर आज के हालात की तर्जुमानी कर रह है...छोटी बहर की इस निहायत खूबसूरत ग़ज़ल के लिए दिली दाद कबूल करें
    नीरज

    ReplyDelete
  21. आदरणीय नमस्कार

    क्या मतला निकाला है, भई वाह| सानी में जो कहा है आपने "खुदा होगा चमत्कारों के पीछे" - इस कथ्य में जो चमत्कृति है - अद्भुत है अद्भुत|

    मतले से मक़्ते तक का सफर बड़ा ही सुहावना है| 1222 1222 122 वाले मध्यम आकार की बह्र पर चुटीली और सार्थक बातों के साथ बेहतरीन प्रस्तुति| मेरे जैसों के लिए सीखने का एक और सबब|

    डाक्टर, बीमार, हड़ताल वाला शेर, सम-सामयिक होने के कारण [मेरे मुताबिक] हासिले गजल कहा जाना चाहिए|

    बहुत बहुत मुबारक़बाद मान्यवर|

    ReplyDelete
  22. हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.
    बहुत ही ओजपूर्ण ! कुंवर जी मेरे बालाजी ब्लॉग पर भी आप का स्वागत है !

    ReplyDelete
  23. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    सरल शब्दों में लिखी सुंदर ग़ज़ल के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    ग़ज़ल के अशआर बहुत प्रभावशाली हैं!

    ReplyDelete
  25. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.
    जब ईर्ष्‍या अपना घिनौना सिर उठाती है तो हमारे प्रियजन भी हमारे शत्रु बन जाते हैं।

    ReplyDelete
  26. अति सुन्दर अभिव्यक्ति !! धन्यवाद

    ReplyDelete
  27. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे
    .
    बहुत हे गरी सोंच और बेहतरीन अंदाज़ इ बयान
    .
    हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.
    .

    इन पंक्तियों मैं मेरे दिल कि बात कह दी और ऐसी हकीकत जिसको हर इंसान को महसूस करना ही चाहिए यदि वो त्योहारों का सही अर्थ समझना चाहता है.

    ReplyDelete
  28. bhavmayi rachana sunder hai .aabhar
    हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.
    sarthak sandes.

    ReplyDelete
  29. इस बह्र ने आप-हम को ही नहीं नीरज जी नवीन जी सहित कइयों को दीवाना बना रखा लगता है कुंवर जी ! :)

    बहुत प्यारी ग़ज़ल है । हर शे'र पर मुबारकबाद !

    हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.

    तेरे अपने 'कुंवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे

    बहुत ख़ूब !

    एक शे'र मुलाहिजा फ़रमाएं …
    कई बार हम यह भी कहने को विवश हो जाते हैं -
    असर अब शायरी पर हो रहा है
    कमीनों और मक्कारों के पीछे
    :)
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  30. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.
    हर शेर लाजवाब है !

    ReplyDelete
  31. हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.
    bahut sunder bhaav gazal ke ..!!

    ReplyDelete
  32. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    wah! naye mudde...nayi baat..aur aapka andaaz...khoob!

    ---devendra gautam

    ReplyDelete
  33. सामजिक दर्पण का नमूना है यह गजल.

    ReplyDelete
  34. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.

    सार्थक व उम्दा प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  35. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

    मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,


    हर शेर लाजवाब.... सार्थक व उम्दा प्रस्तुति के लिए आपका बहुत - बहुत आभार...

    ReplyDelete
  36. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.

    बहुत खूब ...शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  37. बहुत सुंदर गजल है!
    हर पंक्ति लाजवाब

    आपका बहुत - बहुत आभार!

    ReplyDelete
  38. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    खुदा होगा चमत्कारों के पीछे
    यक़ीनन, बहुत सुंदर हर पंक्ति लाजवाब !

    ReplyDelete
  39. आपके कुछ शेरों ने तो गज़ब का कटाक्ष किया है .सोच रहा हूँ ,कुछ आपको समर्पित करूँ-
    कुछ तो सबब होगा तीक्ष्ण धारों के पीछे
    शब्द बैठे होंगे , अंगारों के पीछे
    प्लाट ले न पाए ,अपने ही शहर में वो
    और भागते फिरे हैं, चाँद-तारों के पीछे

    ReplyDelete
  40. हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.bahut hi saarthak sher .hamesha ki tarah bahut hi achchi najm badhaai aapko.

    ReplyDelete
  41. ख़बर सच्ची नहीं मिल पा रही है ,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे ।
    सियासत के कई पुर्जे हुएँ हैं ,
    है कोई "'हाथ"इन हाथों के पीछे ।बेहतरीन अपने समय को ललकारती रचना .

    ReplyDelete
  42. बेहतरीन भाव भरे है आपने अपनी गजल में। सादर।

    ReplyDelete
  43. बहुत उम्दा लिखा है हर पंक्ति कितना कुछ कह रही है!!वाह
    हमारे ब्लॉग को पसंद करने क लिए शुक्रिया:)
    आपको फौलो कर रही हूँ:)

    ReplyDelete
  44. आपकी कविता बेबाकी से समय पर कटाक्ष करती है... यह शेर मेरे मिजाज़ का शेर है...
    "खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे."

    गंभीर विषय को भी सहजता से अभिव्यक्त करते हैं आप...

    ReplyDelete
  45. छिपी है शै कोई तारों के पीछे,
    ख़ुदा होगा चमत्कारों के पीछे.

    bahut sunder!

    ReplyDelete
  46. सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    बहुत सुन्दर ग़ज़ल ... और ये दो शेर बहुत अच्छे लगे जो सम-सामयिक विषयों पर प्रकाश डाल रहे हैं ...

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर ग़ज़ल है। कोई दुश्मनी कितनी भी निभाए , उन्हें भी यार मानकर , पीछे ही पीछे चल देना चाहिए , इसी को आर्ट ऑफ़ लिविंग कहते हैं। उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  48. आपके इस ब्लाग पर बहुत दिनो बाद ये नयी रचना आयी है.
    मुझे बहुत दिनो से इंतजार था.

    तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.

    बहुत खूब कहा है आपने.

    ReplyDelete
  49. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.

    बहुत सुंदर। बड़ा आनंद आया।

    बहुत-बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  50. हर पंक्ति बहुत कुछ कहती हुई ... ।

    ReplyDelete
  51. सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.


    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    vyangyatak gazal....bahut sunder!

    ek swaal fir uthaata hun
    akhbaaro me khabar puraani paata hun
    kaheen mil jaye koi satya wakta,
    isiliye blogs ko padhaa karta hoon!!

    ReplyDelete
  52. .दिल को छूती गजल.पीठ में छूरा घोपनेवाले दोस्तों से तो वाकई दुश्मन ही अच्छे हैं .

    दुश्मन है हज़ार यहाँ ये हम भी मानते है
    पर गैरो में भी कोई तो अपना भी होगा...(अंजु...अनु )

    ReplyDelete
  53. सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    वाह ... बहुत ही सच्‍ची बात कह दी इन पंक्तियों में ।

    ReplyDelete
  54. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे...

    बहुत ही लाजवाब शेर है ... सटीक लिखा है ... हर जगह कोई हाथ ही है ...
    उम्दा ग़ज़ल ....

    ReplyDelete
  55. कुंवर साहब यह इन्फेक्शन हमें भी जब तब हो जाता है ऐसे ही एपिसोड्स में जब तब कुछ लिख जातें हैं .आपकी गज़लें हमें बराबर नए अलफ़ाज़ सिखा रहीं हैं .फादर साहब थे तब उनसे लव्जों के मानी पूछ लेते थे .चाचा भी उर्दू के अच्छे जानकार थे .हम पैदा भी बुलंदशहर में हुए .उर्दू अदबियात के इलाके में .शैर शायरी मुशायरा सुनते बड़े हुए .आपकी ग़ज़लों के अपने तेवर हैं .यंग टुर्क्स से .

    ReplyDelete
  56. आदरणीय कुसुमेश जी, आपकी प्रत्येक रचना जमीनी हकीकत का आइना होता है ..बहुत अच्छा लिखते है आप..बधाई

    ReplyDelete
  57. Bhai jaan,indeed a very fine gajal.

    ReplyDelete
  58. aadarniy sir
    sabse pahle to main aapse dil ki gahraiyon se xhma chahti hun jo aapke blog par bahut hi vilamb se pahunchi.
    ye meri hi vivashta hai ki abhi tak swasthy theek na hone ke karan .net par bahut kam aa rahi hun .par koshish karti hun ki aap sabhi aadrniy v snehi jan ke blogo tak pahunch sakun.fir sochti hun ki pahle jinke comments aaye hain pahle unka jawab to de dun net nahi baithti hun .isiliye tippni bhi dheere dheere hi kabhi kabhi dal pati hun .ummid hain aap meri majburiyo ko samajh kar purvvat hi apna sneh dete rahenge.
    sir aapki rachna bahut bahut bahut hi behtreen lagi.harpankti ekdam sateek aur aaj ki vastu-sthiti kenajar se samyik hai .

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    हमेशा प्यार से हिल मिल के रहना,
    यही पैग़ाम त्योहारों के पीछे.

    तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे.
    bilkul yatharthata liye hue hai aapki post
    hardik abhinandan
    punah xhma ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  59. मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,
    सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.
    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.


    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...मन को छू लेने वाली...

    ReplyDelete
  60. आदरणीय कुसुमेश जी,
    सुना है डॉक्टर हड़ताल पर हैं,
    खड़ी है मौत बीमारों के पीछे.

    खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    बहुत सुंदर गजल है!

    ReplyDelete
  61. वह वह वह मज्जा हे आ गिया बहुत हे उम्दा शब्द है !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  62. बहुत सुंदर गजल है!

    ReplyDelete
  63. सच में मजा आ गया जी.
    मै तो यही कहूँगा अब 'कुंवर कुश्मेश जी हैं मेरे इस मजे के पीछे'.
    पर कुंवर जी यह भी तो बताईये न कि 'आपके इस सुन्दर लेखन के पीछे कौन है जी?'

    ReplyDelete
  64. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    Aajke haalaat ka bilkul sahi chitran.. Shubhkaamnayein!!

    ReplyDelete
  65. यथार्थ पर आधारित बहुत खूबसूरत गज़ल|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  66. अलमस्त अंधेरों के मुक़ाबिल खड़ा हुआ,
    हिम्मत की इक मिसाल ये जुगनू हवा में है.
    अच्छे-बुरे को अपनी कसौटी पे तौलती,
    जो दिख न सके ऐसी तराज़ू हवा में है

    nice sher, thanks.

    ReplyDelete
  67. बेहतरीन ग़ज़ल .......सादर !

    ReplyDelete
  68. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.

    खूबसूरत पंक्तिया

    ReplyDelete
  69. "मेरे महबूब तू गुम हो गया है,
    सुकूने-दिल है दीदारों के पीछे,"

    ए काश कि दीदार-ए-महबूब हो जाता !
    कहीं तो थोड़ा सा सुकून मिल पाता !!
    हर शेर ही 'शेर' है...
    किसकी तारीफ करूँ किसको छोडूं....!

    (काफी कोशिशों के बाद ब्लॉग की कुछ तकनीकी परेशानी की वज़ह से यहाँ देर से पहुंची,पर पहुँच ही गई!!)

    ReplyDelete
  70. खूबसूरत पंक्तिया
    खूबसूरत गज़ल
    मन को छू लेने वाली..
    बेहतरीन भाव
    blog par comment karne k liye dhanyavad

    ReplyDelete
  71. तेरे अपने 'कुँवर' दुश्मन हैं तो क्या,
    चला चल तू इन्हीं यारों के पीछे

    वाह वाह क्या बात है कुंवर साहब ...........

    ReplyDelete
  72. kusmesh sahab, yatharth bayan karti hui behaterin gazal.

    ReplyDelete
  73. हर शेर जबरदस्त है!

    ReplyDelete
  74. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    वाह क्या दृष्टि है..
    लाजवाब

    ReplyDelete
  75. मेरे महबूब तू गम हो गया है ,
    सुकूने दिल है दीदारों के पीछे .
    तेरी रचना के पीछे -नै रचना का इंतज़ार .

    ReplyDelete
  76. खबर सच्ची नहीं मिल पा रही है,
    है कोई हाथ अखबारों के पीछे.
    ... सच्चाई बयान करती रचना !

    ReplyDelete
  77. कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete