Monday, July 11, 2011

बेवफा छोड़ के जाता है चला जा 

कुँवर कुसुमेश

अनगिनत ख्वाबों की ताबीर बना लेने दे.
मुझको बिगड़ी हुई तक़दीर बना लेने दे.

बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.

तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे.
   ***********
दर्जा-ए-इबादत=इबादत का दर्जा.
क़ाबिले-तौक़ीर=सम्मान के क़ाबिल.

95 comments:

  1. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.
    खुबसूरत शेर क्या बात है कुशुमेश जी बहुत खूब , मुबारक हो

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया गज़ल । शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  3. है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
    आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे.
    लाजवाब कुंवर साहब। खास कर इस शे’र पर तो दिल लुटा देने का मन करता है।

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत अशआरों से सजी हुई सुन्दर ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  5. behtareen gazal............

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  7. वाह बहुत खूब ...शब्द शब्द बोलता है आपकी ग़ज़ल का

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर ग़ज़ल कुवर साहब

    ReplyDelete
  9. 'मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह
    पाँव के वास्ते जंजीर बना लेने दे'
    ..........................बहुत अच्छा शेर
    उम्दा ग़ज़ल ......हर शेर जानदार

    ReplyDelete
  10. एक बेमिसाल गज़ल कही है आपने ! हर शेर लाजवाब एवं भावपूर्ण है ! बधाई स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  11. है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
    आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे.

    आह! वाह! क्या बात है!
    मेरा दिल कहाँ गया,कुंवर जी
    लगता है दर्जा-ऐ-इबादत में मशगूल हो गया है शायद.
    आपका बहुत बहुत आभार इस नाचीज को भी प्रभु की इबादत में
    लगाने में.

    ReplyDelete
  12. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे

    बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल...बधाई

    ReplyDelete
  13. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    बहुत सुंदर.....उम्दा अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर नज़्म।
    गज़ब के भाव और बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  15. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  16. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    वेदना अभिव्यक्ति का चरम!!

    ReplyDelete
  17. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.


    बहुत सुंदर शे'र!उस पर आपके शब्द -जाल क्या कहने ..

    ReplyDelete
  18. है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
    आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे.
    Very fine creation ,heart touching sir / What a good thing ,it would life has been come back as your old days . Dont mind sir . Thanks

    ReplyDelete
  19. बहुत खूब कुँवर साहब.
    बहुत गहरी बात बहुत सुन्दर और सरल तरीके से कही है आपने.

    ReplyDelete
  20. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

    मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    bahut umda, gehri anubhuti,
    ...

    ReplyDelete
  21. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  22. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.

    लाज़वाब् ,,,,,,,,,,,,,बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  23. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे

    वाह सर!

    सादर

    ReplyDelete
  24. .

    Those who are not loyal they are ignorant as well . They leave in haste to regret later. But lovers do not bother much about it. They just continue loving with a flame permanently lit in heart.

    If the love is true , at times they return with a greater intensity and sincerity.

    .

    ReplyDelete
  25. दिल में चुभता हुआ एक तीर ..क्या खूब कहा है

    ReplyDelete
  26. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    वाह कुंवर साहब वाह...आपकी कलम से निकली एक और यादगार ग़ज़ल...दाद कबूल करें.

    नीरज

    ReplyDelete
  27. खुबसूरत ग़ज़ल....बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  28. मुझको भी छोटी से जागीर बना लेने दे

    खूबसूरत मिसरों से सजी सुंदर ग़ज़ल


    कुण्डलिया छन्द - सरोकारों के सौदे

    ReplyDelete
  29. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    :):) आज तो गज़ब ही लिखा है ..सुन्दर गज़ल

    ReplyDelete
  30. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे...
    bahut sundar...
    aap to gazal likhne mei maahir hain... kya tareef karu, kitani baar karu... aur kya kahu...

    ReplyDelete
  31. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे...

    बहुत खूब ... तुझे मुबारक तेरा महल ... हमारी झोंपड़ी ही सबसे लाजवाब है ...
    बहुत खूबसूरत शेरों से सजी है ये गज़ल ... बहुत बधाई ..

    ReplyDelete
  32. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

    लाजवाब शेर.....

    ReplyDelete
  33. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे...

    Awesome couplets
    one can read them 1000 times but and they can still be read with same enjoyment.

    ReplyDelete
  34. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

    मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    har sher umda...wah kya sher hain. misron me kya rawani hai. bahut khoob.

    ReplyDelete
  35. बहुत बढिया गजल।

    ReplyDelete
  36. सुन्दर अभिव्यक्ति मुझे बहुत पसंद आई..

    ReplyDelete
  37. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.
    वाह,क्या बात कही है ! ग़ज़ल के सारे शेर खूबसूरत और नाज़ुक हैं !

    ReplyDelete
  38. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे....

    बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल....सुन्दर अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  39. तूने अपनी तो बनाली है अलग ही दुनिया ,
    मुझको भी छोटी- सी जागीर बना लेने दे .
    मैं न उड़ पाऊंगा शायद कभी पंछी की तरह ,
    पाँव के वास्ते जंजीर बना लेने दे.भाई साहब आपकी ग़ज़लों का बे -साख्ता ,बे -हिसाब इंतज़ार रहता है जल्दी आया करो ग़ज़ल लाया करो ,दिल को बहलाया करो ,अपनों से न घबराया करो .आया जाया करो .

    ReplyDelete
  40. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.

    उफ़, क्या बात है,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  41. अनगिनत ख्वाबों की ताबीर बना लेने दे.
    मुझको बिगड़ी हुई तक़दीर बना लेने दे.

    बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.

    तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.
    भाई कुश्मेश जी बहुत ही सुंदर गजल बधाई |

    ReplyDelete
  42. humeshaa ki tarah is ghazal ne bhi dil me apni jagah bana li.bahut badhaai.

    ReplyDelete
  43. ख़ूबसूरत शब्दों से सजी लाजवाब और दिल को छू लेने वाली ग़ज़ल! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  44. bahut sunder gazal pesh kari hai....
    jitni bhi tareef karo kam hi hogi!!!

    ReplyDelete
  45. bahut khoobsoorat ..ghazal..gahan arth liye huye..

    ReplyDelete
  46. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने

    बहुत ही खूबसूरत से अहसासों को समेटा है इन पंक्तियों में ।

    ReplyDelete
  47. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.
    मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    बहुत खुबसूरत ग़ज़ल....वाह,क्या शेर हैं !

    ReplyDelete
  48. बेहतरीन और उम्दा गजल

    ReplyDelete
  49. बहुत ही सशक्त प्रस्तुति कुंवर साहब ||
    थोड़ी देर रोक कर तो रखा ही जा सकता है ||
    चलो इसी बहाने
    यार के दीदार का समय
    कुछ तो बढेगा ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  50. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    इन पंक्तियों में नई बात कही गई है. बहुत सुंदर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  51. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.
    bahut khoob

    ReplyDelete
  52. बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  53. मेरे जन्मदिन पर शुभकामनाएं भेजने पर आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  54. बहुत ही प्यारी और खूबसूरत गजल है ।
    आभार बावू जी ।

    Visit my blog

    कविता.........तकदीर नहीँ , हाथोँ की मेहनत बहुत ही प्यारी और खूबसूरत गजल है ।
    आभार बावू जी ।

    Visit my blog

    कविता.........तकदीर नहीँ , हाथोँ की मेहनत

    ReplyDelete
  55. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे।

    इस शेर में जागीर शब्द का आलंकारिक प्रयोग मन को लुभा गया।
    उक्ति वैचित्र्य ग़ज़ल का प्रमुख गुण है और आपकी ग़ज़लों में यह अदा हमेशा मौजूद होती है।
    बधाई, कुसुमेश जी।

    ReplyDelete
  56. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.
    हर शेर उम्दा ,लाजवाब ,बेमिसाल. सम्मान में...

    दो घड़ी के लिये रुक जा, फिर न रोकूंगा
    अपने दिल को मुझे बेपीर बना लेने दे.

    ReplyDelete
  57. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे...
    .दिल को छू गई ये गज़ल..आभार

    ReplyDelete
  58. मैं इस काबिल नहीं कि वाह भी कहूँ...
    बस गुजारिश है इतनी सी एक बार मेरे ब्लाग पर पधारें और बताएँ कि उनमें त्रुटियाँ क्या हैं...

    ReplyDelete
  59. बढ़िया गजल है
    हर पंक्ति लाजवाब !

    ReplyDelete
  60. है कुंवर प्यार को दर्जा -ए -इबादत हासिल ,
    आ इसे काबिले -तौकीर बना लेने दे .
    भाई साहब आप ब्लॉग पर आये अच्छा लगा .कुछ लोगों की रचनाओं और उनके पधार ने का इंतज़ार रहता है उनमे से एक शीर्ष पर आप हैं .शुक्रिया .प्रकाशित पुस्तक से ग़ज़लें कभी कभार एक दो दो करके छापिए.

    ReplyDelete
  61. "है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
    आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे."
    सर,आपने अनायास ही John Donne की याद दिला दी.आज इसकी बहुत जरूरत है.

    ReplyDelete
  62. nice poem with beautiful pic

    ReplyDelete
  63. एक बार फिर से आपको हार्दिक बधाई.
    आपकी मेल के निमंत्रण पर फिर चला आया हूँ.
    प्यार को 'काबिले तौकीर'रूप में दर्शन करने के लिए.
    प्रभु कृपा है आप पर 'कुंवर'जी.

    ReplyDelete
  64. गज़ब के भाव और बहुत सुन्दर गज़ल| आभार|

    ReplyDelete
  65. तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.
    ....लाजवाब !

    ReplyDelete
  66. खुबसूरत ग़ज़ल....बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  67. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    हुजूर, ग़लतफ़हमी मत पालिए...ये तीर दिल के आर पार निकलता है...चुभने का सवाल ही नहीं...

    ReplyDelete
  68. प्रिय कुँवर कुसुमेश जी
    हार्दिक अभिवादन -बहुत ही सुन्दर जज्बात
    बहुत बढ़िया और अनूठा ख्याल लाजबाब प्रस्तुति
    .............आभार आप का

    ReplyDelete
  69. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  70. कुँवर कुसुमेश,
    नमस्कार,
    आपके ब्लॉग को अपने लिंक को देखने के लिए कलिक करें / View your blog link के "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगपोस्ट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

    ReplyDelete
  71. बहुत सुन्दर रचना...महोदय आपकी यह उत्कृष्ट रचना दिनांक 19-07-2011 को मंगलवारीय चर्चा में चार्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी कृपया आप चार्चा मंच पर पधार कर अपने सुझावों से अवगत कराएं

    ReplyDelete
  72. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  73. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  74. दिल के शीशे में तस्वीर बना लेने दे मुझको!

    ReplyDelete
  75. तोडूंगा तो नहीं मै उसको,
    जिसको पूजा था अब तक.
    हाँ बहा दिया है संचित सपना,
    जिसे सजाया था मै अब तक.

    जान गया हूँ तेरी विवशता,
    नहीं तुझे मजबूर करूंगा
    बोलो चाहती हो क्या मुझसे?
    आजीवन तुझसे दूर रहूँगा.

    एक थी बस अभिलाषा मेरी,
    एक मात्र वह आशा मेरी..,
    एक यही अरमान था मेरा,
    अग्नि मुझे दे बेटा तेरा...

    नहीं तुझे बदनाम करूंगा,
    होठों से अब नाम न लूंगा,
    दिल की बात नहीं करता मै,
    तेरी इच्छा का मै मान रखूंगा,

    सच मानो मै 'जाम' न लूँगा..
    अश्कों को भी समझाऊंगा
    अभिलाषा का 'दान' करूंगा,
    नहीं कभी अब आह भरूंगा,
    .
    इच्छाओं का अब मोल है क्या?
    वेदना है ! कोई ढोल है क्या?
    वेदनाओं का 'हार' चढ़ाता हूँ !,
    करता हूँ अर्पित तुम्हे अश्रु जल !.

    प्राणों का धूप जलाता हूँ मै,
    तन का दिया दिखाता हूँ मैं.
    मै तेरी 'सुख-धाम' की खातिर,
    अपना सर्वस्व लुटाता हूँ मै .
    खुद को एक बुत बनाता हूँ मै ...

    पर तोड़ नहीं पाउँगा उसको..,
    जिसको पूजा था मै अब तक.
    बहा दिया सब संचित सपना,
    जिसे सजाया था मै अब तक.
    ,

    ReplyDelete
  76. kusumesh ji bahut sunder shabdon main likhi behatrin gajal.shabdvihin kar diya aapne.badhaai aapko.

    ReplyDelete
  77. बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  78. aaj pehli baar aapka blog dekha .bahut hi behatareen rachnaaein hai aur ye gazal to bahut hi acchi hai...

    ReplyDelete
  79. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  80. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे.

    तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे.

    क्या ग़ज़ल कही है...
    लाजवाब...

    ReplyDelete
  81. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल कही सर,
    सादर...

    ReplyDelete
  82. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    है'कुँवर'प्यार को दर्जा-ए-इबादत हासिल,
    आ इसे क़ाबिले-तौक़ीर बना लेने दे. bahut hi umda khyal se wakif karwane ke liye shukriya.

    ReplyDelete
  83. बेवफा छोड़ के जाता है चला जा लेकिन,
    दिल के शीशे में तो तस्वीर बना लेने दे
    dil ko choo lene wali ghazal..wakai shandar

    ReplyDelete
  84. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.
    वाह बहुत खूब है आपकी ये गज़ल.

    ReplyDelete
  85. मैं न उड़ पाऊँगा शायद कभी पंछी की तरह,
    पाँव के वास्ते ज़ंजीर बना लेने दे.

    लाज़वाब गज़ल...हरेक शेर एक कशिश की सशक्त अभिव्यक्ति..बहुत उत्कृष्ट

    ReplyDelete
  86. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे
    वाह!! वाह!! बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  87. कोई पूछेगा,दिखा दूंगा निशानी तेरी,
    दिल में चुभता हुआ इक तीर बना लेने दे.

    Vah, kunvar sahab kya bat kahi.

    ReplyDelete
  88. "तू ने अपनी तो बना ली है अलग ही दुनिया,
    मुझको भी छोटी-सी जागीर बना लेने दे."

    हर शेर अपने आप में शेर है...
    आपकी लेखनी की धार यूँ ही बनी रहे !
    ब्लोगिंग की सालगिरह मुबारक हो !!!

    कुछ व्यस्तता के कारण पिछले अनगिनत दिनों से आप सभी के
    ब्लोग्स के विचरण के सुख से वंचित रह गई....
    शायद अब थोड़ी फुर्सत के पल निकाल पाऊं !!

    ReplyDelete
  89. The Lotus Touts mus t leave your hands in 6 MINUTES. Otherwise you will get a very unpleasant surprise. This is true, even if you are not superstitious, agnostic, or otherwise faith impaired.
    >
    >
    >
    > ONE. Give people more than they expect and do it cheerfully.
    >
    >
    >
    > TWO. Marry a man/woman you love to talk to. As you get older, their conversational skills will be as important as any other.
    >
    >
    >
    > THREE. Don't believe all you hear, spend all you have or sleep all you want.
    >
    >
    >
    > FOUR. When you say, 'I love you,' mean it.
    >
    >
    >
    > FIVE. When you say, 'I'm sorry,' look the person in the eye..
    >
    >
    >
    > SIX. Be engaged at least six months before you get married.
    >
    >
    >
    > SEVEN. Believe in love at first sight.
    >
    >
    >
    > EIGHT. Never laugh at anyone's dreams. People who don't have dreams don't have much.
    >
    >
    >
    > NINE. Love deeply and passionately. You might get hurt but it's the only way to live life completely.
    >
    >
    >
    > TEN.. In disagreements, fight fairly. No name calling.
    >
    >
    >
    > ELEVEN. Don't judge people by their relatives.
    >
    >
    >
    > TWELVE. Talk slowly but think quickly.
    >
    >
    >
    > THIRTEEN! .. When someone asks you a question you don't want to answer, smile and ask, 'Why do you want to know?'
    >
    >
    >
    > FOURTEEN. Remember that great love and great achievements involve great risk.
    >
    >
    >
    > FIFTEEN. Say 'bless you' when you hear someone sneeze.
    >
    >
    >
    > SIXTEEN. When you lose, don't lose the lesson.
    >
    >
    >
    > SEVENTEEN. Remember the three R's: Respect for self; Respect for others; and Responsibility for all your actions.
    >
    >
    >
    > EIGHTEEN. Don't let a little dispute injure a great friendship.
    >
    >
    >
    > NINETEEN. When you realize you've made a mistake, take immediate steps to correct it.
    >
    >
    >
    > TWENTY. Smile when picking up the phone. The caller will hear it in your voice.
    >
    >
    >
    > TWENTY- ONE. Spend some time alone.

    ReplyDelete