Friday, July 29, 2011


दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको

कुँवर कुसुमेश
                                                
  बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.

वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.

कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.

सुनाता भ्रष्ट नेताओं को जी भर के खरी-खोटी.
शराफत का हमेशा रोकता है दायरा उसको.

भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको.
 *******
 हर्फ़े-वफ़ा=वफ़ा शब्द, राहे-मुहब्बत=प्यार की राह 

100 comments:

  1. जी हाँ! ये भरोसा ही है जो आगे की राह दिखलाएगा......

    ReplyDelete
  2. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.

    बस मौला पर भरोसा रख कर ही ज़िंदगी में आगे बढते हैं ... बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  3. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.

    वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.

    khubsurat gajal , bahut hi khubsurat bhav ..........waah dil ke behad karib se hoker gujri aapki ye navenntam peshkash..........badhai

    ReplyDelete
  4. कुंवर जी बहुत रास आई ये ग़ज़ल। खास कर ये पंक्तियां (शे’र) तो सूक्त वाक्य की तरह हैं

    भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको

    ReplyDelete
  5. आपने मौला की शान में बहुत अच्छी बात कही है। इससे आदमी की निराशा दूर हो जाती है।
    इंसान का असल इम्तेहान यही है कि वह अपने ज्ञान और अपनी ताक़त का इस्तेमाल क्या करता है ?

    ReplyDelete
  6. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    bahot sundar---badhaee

    ReplyDelete
  7. वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.
    kya baat kahi hai...

    ReplyDelete
  8. अच्छी ग़ज़ल,बधाई स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  9. 'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको
    --
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है आपने!

    ReplyDelete
  10. सुंदर ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  11. वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.

    भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    बेहतरीन अशआर हैं कुसुमेश जी ! बहुत ही उम्दा गज़ल ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.

    jeene ka hausla deta yah matla aur baki ashaar prernadayak...bahut achchhi gazal...badhai sweekar karen.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर |
    बधाई ||

    ReplyDelete
  14. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    वाह!! सटीक दीप की रोशनी है ग़ज़ल!!

    वाकई, भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको.

    ReplyDelete
  15. सार्थक और प्यारी गजल है । आभार बावू जी ।सार्थक और प्यारी गजल है । आभार बावू जी ।

    ReplyDelete
  16. सुनाता भ्रष्ट नेताओं को जी भर के खरी-खोटी.
    शराफत का हमेशा रोकता है दायरा उसको.
    भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको...
    लाजवाब पंक्तियाँ! बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल लिखा है आपने ! हर एक शेर उम्दा लगा!

    ReplyDelete
  17. waah... waah... waah...
    bahut hi badhiya...

    ReplyDelete
  18. khoobsurat gazal aur har sher jaandaar ! khas taur par yah sher prabhavit karti hai...
    भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    ReplyDelete
  19. शानदार गज़ल्।

    आपकी रचना आज तेताला पर भी है ज़रा इधर भी नज़र घुमाइये
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.

    बहुत खूब...लाजवाब...

    ReplyDelete
  21. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको

    haalanki,,, poori gazal quote karne
    laaiq hai,, lekin ye sher khaas taur par
    psand aaya hai ...
    waah !

    "daanish'
    dkmuflis.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. आपकी लेखनी पढ़ कर वैसे ही बहुत अच्छा लगता है
    ग़ज़ल का हर शेर अपने आप में बहुत बढ़िया है खास कर ये वाला

    वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.

    आभार........

    ReplyDelete
  23. भटकने लग गया जो आदमी रहे मुहब्बत से ,
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको |
    **********************************
    गज़ब का शेर कुसुमेश जी ....
    बेहतरीन ग़ज़ल ,हर शेर अर्थपूर्ण

    ReplyDelete
  24. fine creation with confidence . thank you ,

    ReplyDelete
  25. .

    वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको....

    So true ! Those who are cheat cannot go for loyalty at any time . They feel comfortable in cheating only.

    .

    ReplyDelete
  26. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको

    वाह वाह
    बेहतरीन शेर और गज़ल

    ReplyDelete
  27. bahut achchi ghazal hai kuch seekh deti hui.

    ReplyDelete
  28. हर एक शेर अपनी जगह पर शानदार है.
    और अपनी बात पूरे वजन के साथ रखता है.
    किसी एक कि तरीफ़ करना दूसरे के साथ नइंसाफ़ी होगी

    आपको सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  29. bahut khoobsurat gazal...blogging ki salgirah par bahut bahut shubhkamnayen...

    ReplyDelete
  30. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको।

    बिलकुल सही बात।
    जिंदगी की सूक्ष्म सच्चाइयां ग़ज़ल में खूबसूरती से बयां हो रही है।

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छे शेर, मकता पसंद आया मुबारक हो

    ReplyDelete
  32. खूबसूरत गजल.आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  33. उम्दा खयालात सर, बेहतरीन अशअआर...
    सादर...

    ReplyDelete
  34. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.

    वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.
    Kya gazab kee panktiyan hain!

    ReplyDelete
  35. तमसो मा ज्योतिर्गमय...
    बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.
    बहुत खूब...हर शेर में वज़न है...

    ReplyDelete
  36. सुंदर.... सकारात्मक सोच को बल देती रचना

    ReplyDelete
  37. Main ab suraj ko kya diya dikhaun...
    Bahut hi acchhi rachna sir.. Aabhar..

    ReplyDelete
  38. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  39. बहुत भाव पूर्ण रचना |सुन्दर अभिव्यक्ति |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  40. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको.


    वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको.
    hausla bandhati hui aur hakikat dikhati hui shandar ghazal....sadar pranam ke sath

    ReplyDelete
  41. ज़मीन से १०-११ किलोमीटर ऊपर विमान में उड़ने का मज़ा ही और है ख़ास कर यदि फ्लाईट अल्प कालिक घंटा भर की हो .और मन स्मृतियों में पगा हो अपनों को छोडके चलने की .बादलों से ऊपर बहुत ऊपर आप .बादल क्या आइस बर्ग हिम खंड से नीचे आसमान पर तैरते (ऊपर जाकर आसमान की परिभाषा बदल जाती है .हम आसमान हो जातें हैं) ,आइस बर्ग के ऊपर इधर से उधर उधर से इधर उड़ते बादल महीन छितराए से मट मैले विचार भी तो ऐसे ही अठखेली खेलते हैं मनवा के साथ .अपने जो पीछे छूट गए संग साथ चलतें हैं बादलों से बिछड़ने के लिए उड़ने के लिए .हमारे साथ भी ऐसा ही हुआ था देट रोइट से शिकागो तक की अल्प काली उड़ान के दरमियान जिसकी कुल अवधि थी एक घंटा पांच मिनिट .अपनों का मानसिक कुन्हान्सा हमें घेरे रहा .कब आ गया शिकागो पता ही नहीं चला .नोर्थ मिशिगन एवेन्यू की ऊंची ऊंची इमारतों की कतार देखने के बाद कोई भ्रम नहीं रह गया था -देट रोइट छूट चुका ,पीछे बहुत पीछे इस सात समुन्दर पार अब आना हो न हो .जीवन खेल है अ -निश्चितताओं का .यहाँ कब क्या हो जाए इसका कोई निश्चय नहीं .मिलना बिछड़ना सब समय का संयोग है सम्मलेन है अरविन्द जी .आप आये हम चंद घंटे ज़िन्दगी की मुश्किलात भूले रहे .गए तो फिर उन्हीं से रु -बा -रु हैं .

    ReplyDelete
  42. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको ,
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको .
    कुसुमेश जी बहुत आशावादी स्वर हैं इस ग़ज़ल के .
    जीवन के "लो पेस" की पुर सुकून ज़िन्दगी जीने का नुश्खा लिए है यह ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  43. कुसुमेश जी ऊपर वाला कमेन्ट गलती से छाप गया ,माफ़ी चाहता हूँ .आपकी बेहतरीन ग़ज़ल के लिए जो तन और मन दोनों की थकान उतार गई बधाई .

    ReplyDelete
  44. गजल अच्छी है । प्रेमचंद जी वाले लेख पर पर आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  45. खूबसूरती से दिल को बयां करती उम्दा गजल

    ReplyDelete
  46. wah....aapki ek ek rachana kabile tarif hai ...kis kiski tarif kare........speechless

    ReplyDelete
  47. खूबसूरत गजल
    आभार.

    ReplyDelete
  48. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    बेहतरीन शेर....बेहतरीन ग़ज़ल ....

    ReplyDelete
  49. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.
    ...........खूबसूरत गजल !

    ReplyDelete
  50. bhaut hi khubsurat gazal....
    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें

    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  51. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको.
    अच्छी ग़ज़ल,

    ReplyDelete
  52. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है आपने....कुसुमेश जी

    ReplyDelete
  53. 'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको.

    .............बेहतरीन शेर और गज़ल

    ReplyDelete
  54. 'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको.

    बहुत भाव पूर्ण खूबसूरत गजल...
    आभार.

    ReplyDelete
  55. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.
    bahut badiya shabdon ka. gajal.sundrr shabdon ka
    chayan badhaai aapko.
    mere blog main aane ke liye dhanyawaad.

    ReplyDelete
  56. "'कुँवर'ख़ुद पर भरोसा और मौला पर भरोसा रख,
    भरोसा जिसको मौला पर है मौला देखता उसको"
    Sir,excellent piece of work.very musical and factual one.

    ReplyDelete
  57. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.

    बहुत ही खूब कहा है! उम्दा ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  58. शानदार गजल। हर शेर में वजन है। हमेशा की तरह बेहतरीन।

    ReplyDelete
  59. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  60. आपको गजलों का कुँवर कहा जाए तो सर्वोचित होगा . उम्दा नज़्म

    ReplyDelete
  61. भाई कुसमेश जी सुन्दर और दमदार गज़ल कहने के लिए आपको बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  62. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.

    भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    बहुत बढ़िया गजल

    ReplyDelete
  63. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.
    वाह कुसुमेश जी,गज़ब के शेर कहे है आपने ! मेरी बधाई स्वीकार करें और देर से आने के लिए क्षमा प्रदान करें !

    ReplyDelete
  64. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको |
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको ||khubsurat matla aur mizaaz.Subhaan Allah.

    ReplyDelete
  65. Dear Kunwar ji,

    Namaskaar,


    I like your 'GAZAL' very much. Thanks!

    ReplyDelete
  66. bahut badiya gazal......
    Aabhar

    ReplyDelete
  67. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  68. बहुत सुन्दरता से सुन्दर अहसासों को एक रचना में पिरो देना , आप जैसे ब्लागर ही कर सकते है ..

    ReplyDelete
  69. शानदार ग़ज़ल.....बधाई
    धन्यवाद...:)

    ReplyDelete
  70. कुंवर जी, 3तारीख को हिन्‍दी संस्‍थान के प्रोग्राम में आप बीच में कबउठ कर चले गये, पता ही नहीं चला। मैं आपके आगे की सीट पर ही बैठा था।

    ------
    कम्‍प्‍यूटर से तेज़...!
    सुज्ञ कहे सुविचार के....

    ReplyDelete
  71. कहे या मत कहे कोई उसूलन तो यही सच है,
    कि उसने दिल दुखाया है तो क्या दूँ मैं दुआ उसको.
    bahut umda gazal

    ReplyDelete
  72. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  73. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको....मन को छू लेने वाली सुन्दर भावमयी गजल...अभार

    ReplyDelete
  74. "वफ़ा के नाम पे जिसने हमेशा बेवफाई की,
    यक़ीनन रास आयेगा नहीं हर्फ़े-वफ़ा उसको"

    वाह कुशुमेश जी क्या बात कह दी है.मन को अंदर तक छू गयी ये गज़ल.बधाई.

    माफ़ी चाहूंगी देर से पहुचने के लिए.

    ReplyDelete
  75. mere blog pe aane aur mere hausla afjayee ke liye hardik dhnywad... waiting for your new wonderful creation pranam ke sath

    ReplyDelete
  76. बहुत सुंदर रचना ! लाजवाब प्रस्तुती!

    आपके पास दोस्तो का ख़ज़ाना है,
    पर ये दोस्त आपका पुराना है,
    इस दोस्त को भुला ना देना कभी,
    क्यू की ये दोस्त आपकी दोस्ती का दीवाना है

    ⁀‵⁀) ✫ ✫ ✫.
    `⋎´✫¸.•°*”˜˜”*°•✫
    ..✫¸.•°*”˜˜”*°•.✫
    ☻/ღ˚ •。* ˚ ˚✰˚ ˛★* 。 ღ˛° 。* °♥ ˚ • ★ *˚ .ღ 。.................
    /▌*˛˚ღ •˚HAPPY FRIENDSHIP DAY MY FRENDS ˚ ✰* ★
    / .. ˚. ★ ˛ ˚ ✰。˚ ˚ღ。* ˛˚ 。✰˚* ˚ ★ღ

    !!मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये!!

    फ्रेंडशिप डे स्पेशल पोस्ट पर आपका स्वागत है!
    मित्रता एक वरदान

    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  77. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  78. खूबसूरत रचना के लिए बधाई भाई जी !

    ReplyDelete
  79. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    बहुत बढ़िया....

    ReplyDelete
  80. आपकी पोस्ट " ब्लोगर्स मीट वीकली {३}"के मंच पर सोमबार को शामिल किया गया है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार ०८/०८/११ कोब्लॉगर्स मीट वीकली (3) Happy Friendship Day में आप आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete
  81. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  82. बहुत बेहतरीन गज़ल .. कुछ शेर सीधे दिल में जा बस गए और कुछ ठहरी हुई यादो को दस्तक देने लगे .. आपकी और इस गज़ल कि तारीफ करना ..बस सूरज को दिया दिखलाना होंगा .. आपको दिल से बधाई ..

    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  83. गज़ल के हर शेर पर दाद मिलनी चाहिए...
    आपकी शब्दों की गंभीरता भावों के साथ दिल में उतरती जाती है...
    देर के लिए माफी....
    बस और क्या कहूं...
    आपके शेर खुद-ब-खुद सब कह देते हैं...!!

    ReplyDelete
  84. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.
    bahut hi badhiya gazal ,badhai sweekare .do teen post se intjaar hai aapka ,link jude rahne se aane me aasani rahti hai.nahi to doosre ka sahara lena padta hai aur dhyan se chhoot jata hai .

    ReplyDelete
  85. बड़ा मायूस है वो ज़िन्दगी से क्या हुआ उसको.
    दिखा देता अँधेरे से कोई लड़ता दिया उसको

    वाह कुशमेश जी, अब तो कलमतोड़ दी आपने। बहुत खूब।

    ReplyDelete
  86. kya baat hai kumnesh ji

    ReplyDelete
  87. बहुत सुन्दर, खूबसूरत भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  88. भटकने लग गया जों आदमी राहे-मुहब्बत से.
    अदब की रोशनी शायद दिखा दे रास्ता उसको.

    Ghazab...

    ReplyDelete
  89. बेस्ट ऑफ़ 2011
    चर्चा-मंच 790
    पर आपकी एक उत्कृष्ट रचना है |
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  90. सुनाता भ्रष्ट नेताओं को जी भर के खरी-खोटी.
    शराफत का हमेशा रोकता है दायरा उसको.
    आज के हालात और आदमी को सियासत को आईना दिखाती ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  91. आज के हालात और आदमी को सियासत को आईना दिखाती ग़ज़ल .आज के हालात से रु -बा -रु कराते सेहत सचेत लिंक्स .मुबारक ज़नाब गाफिल साहब .

    ReplyDelete