Thursday, August 11, 2011


धागों पे ऐतबार ही राखी है 
कुँवर कुसुमेश

धागों पे ऐतबार ही राखी है दोस्तो.
भाई-बहन का प्यार ही राखी है दोस्तो.

हीरे-जवाहरात नहीं, मालो-ज़र नहीं,
रेशम का तार-तार ही राखी है दोस्तो.

वक्ते-सुबह कलाई में राखी का बांधना.
लम्हा ये खुशगवार ही राखी है दोस्तो.

इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.

हर इक बहन पे जान निछावर हो भाई की,
दौलत ये बेशुमार ही राखी है दोस्तो.

आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो.
*****
वक्ते-सुबह=सुबह के वक़्त,निहाँ=छुपा हुआ.
अहदे-हिफ़ाज़त=सुरक्षा की प्रतिज्ञा.

55 comments:

  1. भाई बहन के प्यार को बहुत खुबसूरत से रचना में रचा है आपने.. बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  2. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.

    बहुत खूबसूरत गज़ल कही सर राखी पर...
    राखी पर्व की आपको सपरिवार सादर बधाईया...

    ReplyDelete
  3. भाई बहन के रिश्ते की पवित्रता को राखी के तारों के माध्यम से बहुत ही खूबसूरती के साथ आपने बयान किया है आपने अपनी गज़ल में ! इस शुभ अवसर पर आपको ढेर सारी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. नहीं, मेरा हाथ हमेशा खाली ही रहता है।

    ReplyDelete
  5. एक एक शे’र में राखी जैसे पवित्र पर्व के पूरे अर्थ, महत्व और खासियत को आपने इतने सुंदर तरीक़े से पिरो दिया है कि वह शब्दों में मेरे लिए बयान करना मुश्किल है। बस पढ़े जा रहा हूं और खुश हो रहा हूं।

    ReplyDelete
  6. सादर प्रणाम .

    बहुत खूब कहा है आपने ...........

    आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
    भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो.

    ReplyDelete
  7. हीरे-जवाहरात नहीं, मालो-ज़र नहीं,
    रेशम का तार-तार ही राखी है दोस्तो.

    Bahut Sunder....

    ReplyDelete
  8. rakhi ke uplakshya me acchi rachna aabhar

    ReplyDelete
  9. राखी के पर्व को परिभाषित करती सुंदर गजल बधाई भाई कुसमेश जी

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखी है आपने राखी के धागों पे!
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  11. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो।

    राखी की महिमा का वर्णन करती बहुत अच्छी ग़ज़ल।
    इससे पहले राखी पर ग़ज़ल नहीं पढ़ी।

    ReplyDelete
  12. भाई बहन के पावन रिश्ते को
    इक साहित्यिक परिभाषा में बाँध कर
    बहुत अनुपम तोहफा दिया हम सब को ....
    मुबारकबाद .

    ReplyDelete
  13. bhai behan ke pawan riste ko samarpit rachna...
    badhai

    ReplyDelete
  14. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.

    वाह, वाह ! कुसुमेश जी,राखी की मर्यादा को बड़े ही खूबसूरत शब्दों मे आपने पिरोया है ! हमेशा की तरह बेहतरीन ग़ज़ल !
    आभार !

    ReplyDelete
  15. राखी भाई बहन के अटूट प्यार का प्रतीक है! आपने इस पवित्र पर्व को बहुत खूबसूरती से शब्दों में पिरोया है! राखी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. raksha bandhan ke mauke par shaandar rachna......dhanyawaad

    http://aarambhan.blogspot.com/2011/08/blog-post_12.html

    ReplyDelete
  17. रक्षा बंधन पर इतनी सुन्दर रचना... अप्रतिम...

    ReplyDelete
  18. "आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
    भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो."
    इस गजल के माध्यम से आपने तो भाई-बहन के संबंधों की व्याख्या ही कर दी,सर.खासकर ऊपर की पंक्तियाँ मन को छू गई.

    ReplyDelete
  19. वक्ते-सुबह कलाई में राखी का बांधना.
    लम्हा ये खुशगवार ही राखी है दोस्तो.

    इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.
    इस बेहतरीन रचना के लिये बधाई के साथ स्‍नेहिन पर्व की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  20. राखी के भावों को बहुत खूबसूरत लफ़्ज़ों में बंधा है .. खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  21. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.

    वाह...राखी के पावन पर्व पर निहायत खूबसूरत ग़ज़ल...

    नीरज

    ReplyDelete
  22. धागों पे ऐतबार ही राखी है दोस्तो.
    भाई-बहन का प्यार ही राखी है दोस्तो.
    वाह राखी की बहुत सुन्दर और गहन प्रस्तुति…………सारा सार राखी के अर्थो का पहले शेर मे ही समा गया है।

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत गज़ल कही सर राखी पर...बहुत सुन्दर प्रस्तुति....कुंवर जी

    ReplyDelete
  24. फिर फिर कहना पड़ेगा ... लाजबाव

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब ........प्यारे से रिश्ते को समर्पित बेहतरीन गजल

    ReplyDelete
  26. राखी की बहुत-बहुत शुभकामनाएं, एतदसम्बन्धित आपकी प्रस्तुत ग़ज़ल का ज़वाब नहीं कुंवर साहब

    ReplyDelete
  27. कल हलचल पर आपके पोस्ट की चर्चा है |कृपया अवश्य पधारें.....!!

    ReplyDelete
  28. बहुत प्यारी रचना है।

    ReplyDelete
  29. धागों पे ऐतबार ही राखी है दोस्तो.
    भाई-बहन का प्यार ही राखी है दोस्तो

    बहुत खूब कहा है आपने

    ReplyDelete
  30. आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
    भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो.

    ....भाई बहिन के निश्छल प्रेम की एक सशक्त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  31. हीरे-जवाहरात नहीं, मालो-ज़र नहीं,
    रेशम का तार-तार ही राखी है दोस्तो.

    वाह ! बहुत ही प्यारी ग़ज़ल

    ReplyDelete
  32. Rakshabandhan ke mauqe par ek shreshth rachna. badhai ho.

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आभार
    रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  34. सुँदर रचना . श्रावणी की अगणित शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  35. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो....rakhi ke tyohar pe ek umda rachana....kabhi mere yahan hi aayen kunwar ji...apaka hardik swagat hai...

    ReplyDelete
  36. Nice poem .

    हमारी शांति, हमारा विकास और हमारी सुरक्षा आपस में एक दूसरे पर शक करने में नहीं है बल्कि एक दूसरे पर विश्वास करने में है।
    राखी का त्यौहार भाई के प्रति बहन के इसी विश्वास को दर्शाता है।
    भाई को भी अपनी बहन पर विश्वास होता है कि वह भी अपने भाई के विश्वास को भंग करने वाला कोई काम नहीं करेगी।
    यह विश्वास ही हमारी पूंजी है।
    यही विश्वास इंसान को इंसान से और इंसान को ख़ुदा से, ईश्वर से जोड़ता है।
    जो तोड़ता है वह शैतान है। यही उसकी पहचान है। त्यौहारों के रूप को विकृत करना भी इसी का काम है। शैतान दिमाग़ लोग त्यौहारों को आडंबर में इसीलिए बदल देते हैं ताकि सभी लोग आपस में ढंग से जुड़ न पाएं क्योंकि जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उसी दिन ज़मीन से शैतानियत का राज ख़त्म हो जाएगा।
    इसी शैतान से बहनों को ख़तरा होता है और ये राक्षस और शैतान अपने विचार और कर्म से होते हैं लेकिन शक्ल-सूरत से इंसान ही होते हैं।
    राखी का त्यौहार हमें याद दिलाता है कि हमारे दरम्यान ऐसे शैतान भी मौजूद हैं जिनसे हमारी बहनों की मर्यादा को ख़तरा है।
    बहनों के लिए एक सुरक्षित समाज का निर्माण ही हम सब भाईयों की असल ज़िम्मेदारी है, हम सभी भाईयों की, हम चाहे किसी भी वर्ग से क्यों न हों ?
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा हमें यही याद दिलाता है।

    रक्षाबंधन के पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

    देखिये
    हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

    ReplyDelete
  37. आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
    भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो.कुंवर साहब बेहद खूबसूरत भाव और एहसास के अलफ़ाज़ औ अशआर हैं ये अंदाज़ आपके ,मन प्रसन्न हुआ पढ़कर .
    व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    ReplyDelete
  38. रक्षाबंधन की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  39. वाह। बेहद खुबसुरत भावाभिव्यक्ति। राखी की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  40. सुन्दर कविता..राखी के मान को बढाती हुई...

    ReplyDelete
  41. बेहद खूबसूरत
    आज का आगरा ,भारतीय नारी,हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल , ब्लॉग की ख़बरें, और एक्टिवे लाइफ ब्लॉग की तरफ से रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं

    सवाई सिंह राजपुरोहित आगरा
    आप सब ब्लॉगर भाई बहनों को रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई / शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  42. बहुत अच्छी कविता...
    राखी पर्व की आपको सपरिवार सादर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  43. सुन्दर!!


    रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  44. हर इक बहन पे जान निछावर हो भाई की,
    दौलत ये बेशुमार ही राखी है दोस्तो.
    Bahut sundar rachana!
    Swatantrata Diwas kee anek mangal kamnayen!

    ReplyDelete
  45. आँखें बिछी हों भाई की राहों में तो 'कुँवर'
    भाई का इंतज़ार ही राखी है दोस्तो.

    सुंदर गज़ल कही है रक्षाबंधन के मौके पर. आपकी ग़ज़लों का अलग ही अंदाज है जो दिल को छू जाता है.

    स्वंतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  46. शुक्रिया कुंवर कुसुमेश जी इस मौजू बंदिश पर .
    साल गिरह मुबारक यौमे आज़ादी की ।
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....

    ReplyDelete
  47. राखी पर इतनी उम्दा ग़ज़ल पढ़ कर मज़ा आ गया...

    ReplyDelete
  48. gazal vah bhi rakhi par , bahut khub, badhai

    ReplyDelete
  49. इसमें निहाँ है अहदे-हिफ़ाज़त का फ़लसफ़ा,
    रिश्तों का ये सिंगार ही राखी है दोस्तो.
    राखी का महत्व बहुत जुदा अंदाज़ में ब्यान करने का शुक्रिया |
    भाई जान मैंने भी कभी लिखा था
    न रिश्ता बदनाम हो, न लागे कोई ऊज |
    इसी लिए मशहूर है, जग में भैय्या दूज ||

    ReplyDelete
  50. हर इक बहन पे जान निछावर हो भाई की,
    दौलत ये बेशुमार ही राखी है दोस्तो...

    राखी के मौके पे कमाल की गज़ल है कुंवर जी ... मज़ा आ गया बधाई ...

    ReplyDelete