Sunday, September 18, 2011


प्लास्टिक-पॉलीथीन पर दोहे.


कुँवर कुसुमेश 

थैली पॉलीथीन की,करती है नुकसान.
जीव-जन्तु खाकर इसे, गवाँ रहे हैं जान.

अक्सर नदियों में दिखी,बहती पॉलीथीन 
निर्मल जल को कर रही,दूषित और मलीन.

धूँ-धूँ जलती प्लास्टिक,जलती पॉलीथीन.
धीरे धीरे कर रही,समृद्ध हॉउस-ग्रीन.

पॉलीथीनों की लगे,अब बिक्री पर रोक.
इनके कारण हो रहे,नाली-नाले चोक.

टूटी-फूटी,प्लास्टिक,रद्दी पॉलीथीन.
बंद नालियों को सदा,करने में तल्लीन.
*****

74 comments:

  1. सतत प्रेरणा आपकी, बढ़ा इधर उत्साह ||
    रचनाकारों को सदा , रहें दिखाते राह ||

    ReplyDelete
  2. पोलीथिन पर लिखे बहुत अच्छे दोहे बहुत बधाई आपको /पोलीथिन का उपयोग बंद तो होना ही चाहिए /परन्तु उनको ठीक से एक जगह या तो इकठ्ठा कर कर जला देना चाहिए या जमीन के अंदर दबा देना चाहिए /बहुत सही विषय पर आपने बहुत शानदार दोहे लिखे /बहुत बधाई आपको / आप ब्लोगर्स मीट वीकली (९) के मंच पर पर पधारें /और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हमेशा अच्छी अच्छी रचनाएँ लिखतें रहें यही कामना है /
    आप ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर सादर आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete
  3. दोने-कुल्हड़-पत्तलें, हुआ बंद व्यापार,
    ठोंगे भी न दीखते, भटक रहे अखबार ||

    ReplyDelete
  4. प्रेरणादायक रचना.... प्रकृति प्रेम को दर्शाती हुई..

    ReplyDelete
  5. पालिथीन की समस्या के प्रति जागरूकता आज समय की ज़रूरत है जैसे कि
    ब्लॉगर्स मीट वीकली
    में उठाए गए अन्य मुददे ज़रूरी हैं।

    ReplyDelete
  6. जागरूकता फ़ैलाने वाले दोहे ... सार्थक लेखन

    ReplyDelete
  7. desh ki ek gambheer samsya ki aur jaagruk karti prerna dayak rachna.ek sarahniye kadam.

    ReplyDelete
  8. प्रेरणा दायक प्रस्तुति इस मुहीम में मैं भी आपके साथ हूँ सार्थक लेखन

    ReplyDelete
  9. आधुनिक दोहों का अधुनातन प्रयोग. पर्यावरण के लिए काव्य का ऐसा उपयोग सराहनीय है.

    ReplyDelete
  10. स्वच्छता एवं प्रदूषण रहित वातावरण बनाए रखने के लिये प्रेरित करते सार्थक दोहे ! अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. सार्थक व प्रेरक दोहे।

    ReplyDelete
  12. waah baauji... har baar ki hi tarah ek bahut hi prernadayak post...
    bahut hi zaroori hai polythene ka upyog band karna...

    ReplyDelete
  13. धूँ-धूँ जलती प्लास्टिक,जलती पॉलीथीन.
    धीरे धीरे कर रही,समृद्ध हॉउस-ग्रीन.
    माहौली,पर्यावरणी दोहे लिखने में आपका ज़वाब नहीं .शुक्रिया और बधाई इस यग्य के लिए .

    ReplyDelete
  14. सुन्दर , जीवनोपयोगी जानकारी देने वाले दोहे ....
    अपने उद्देश्य में सफल रचना ..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और जागरूकता फैलाती रचना ... पोलिथिन का प्रयोग कम कारण ही उचित है

    ReplyDelete
  16. जो कुछ भी आप लिखते, वह मन को है सोहे।
    पॉलीथीन पर भी आपने लिख दिए अनूठे दोहे।।

    ReplyDelete
  17. प्लास्टिक ने तो कर दिया, पर्यावरण तबाह,
    जीव-जंतु मरने लगे, धरती करती आह!

    ReplyDelete
  18. सार्थक सन्देश देते हुए दोहे ........

    ReplyDelete
  19. जागरूकता फ़ैलाने वाले दोहे|पर्यावरण के लिए काव्य का ऐसा उपयोग सराहनीय है|

    ReplyDelete
  20. बड़ी ही सहजता से आपने पर्यावरण के दर्द को अपने दोहों में पिरोया है !
    काश लोग धरती की पीड़ा को थोड़ा भी समझ पाते !
    आभार !

    ReplyDelete
  21. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  22. सर जी! सार्थक रचना के बधाई स्वीकारें!

    ReplyDelete
  23. बहुत सार्थक संदेश देते सुंदर दोहे। आभार

    ReplyDelete
  24. पालिथीन की समस्या के प्रति जागरूकता दर्शाते हुए बहुत सार्थक संदेश ...

    ReplyDelete
  25. ekdam sarthak rachna, sunder sandesh samete hua.....

    ReplyDelete
  26. वर्तमान और आधुनिक युग के नीतिपरक दोहे.सार्थक संदेश देते हुये.

    ReplyDelete
  27. पोलीथिन पर बहुत अच्छे दोहे , यथार्थ के भावों से तराशे हुए....

    ReplyDelete
  28. बहुत बढ़िया सार्थक दोहे ,, वाक़ई इस पॉलिथीन से बहुत नुक़सान होता है

    ReplyDelete
  29. पॉलीथीनों की लगे,अब बिक्री पर रोक.
    इनके कारण हो रहे,नाली-नाले चोक.

    टूटी-फूटी,प्लास्टिक,रद्दी पॉलीथीन.
    बंद नालियों को सदा,करने में तल्लीन.

    बहुत सार्थक सन्देश देते दोहे!

    ReplyDelete
  30. सार्थक जागरुकता फैलाते दोहे...बहुत खूब!!!

    ReplyDelete
  31. Bahut shashakt Sarthak dohe...badhai swiikaren

    Neeraj

    ReplyDelete
  32. kahar dhaa rahi hai
    phir bhi sab istemaal ker rahe polithin

    ReplyDelete
  33. प्रेरित करते दोहे ... सच में जागृति आनी चाहिए तभी इसका प्रयोग रुकेगा ...

    ReplyDelete
  34. sarthak dohe .....hamare shahar me band ho chuka hai polithin fir bhi log isko istmaal kar rahe hai ....

    ReplyDelete
  35. प्रेरणादायक रचना.......

    ReplyDelete
  36. सच में पौलिथिन से होने वाले प्रदूषण से बहुत नुक्सान होता है
    ये दोहे बहुत सार्थक सन्देश दे गए |
    आशा

    ReplyDelete
  37. सार्थक संदेश देते सुंदर दोहे। आभार......

    ReplyDelete
  38. पॉलीथीनों की लगे,अब बिक्री पर रोक...

    बहुत जरुरी hai... सार्थक संदेशात्मक दोहे सर,
    सादर...

    ReplyDelete
  39. bahut saarthak....

    pradushan mitaane ke liye plastic ka puri tarah se samaapt karna hi padega.....

    aasha hai ek sunder aur swachh paryawaran bane

    ReplyDelete
  40. प्रेरणादायक रचना और सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  41. प्लास्टिक तरक्की का पैमाना बन गया है...जितना विकसित देश उतना पोलीथिन का प्रयोग...बस पर्यावरण के प्रति लोगों के जागरूक होने की आवश्यकता है...सेफ डिस्पोज़ल ही निदान है...इस समस्या का...

    ReplyDelete
  42. very nice ..true to every word..words put together are excellent..
    Stop use of plastic bags..for sure !

    ReplyDelete
  43. आदरणीय भाई कुसुमेश जी दोहों के माध्यम से पर्यावरण की चिंता दृष्टिगत है बधाई

    ReplyDelete
  44. "भागीदारी" वाले नाहक ही उलझे हैं बड़े-बड़े होर्डिंगों में। ये छोटी-छोटी सूक्तियां अपनाएं और अपनी बात को सीधे लक्षित समूह के दिल में उतर जाने दें।

    ReplyDelete
  45. पर्यावरण पर सुंदर दोहा पढ कर अच्छा लगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  46. जागरूकता फ़ैलाने वाली रचना ... सार्थक लेखन
    ............धन्यवाद् .................

    ReplyDelete
  47. SADA KI BHANTI BEHATAREEN SOCH SE UPAJEE GAJAL.NAISARGIT CINTA SE BHARI HUI.

    ReplyDelete
  48. बहुत सुन्दर, प्रेरक एवं सार्थक रचना! सच्चाई को आपने बखूबी शब्दों में पिरोया है ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  49. आज - कल सरकार की वाणी कवीर दास जैसी हो गयी है यानी बरसे कम्बल , भीगे पानी ! सुधर संभव नहीं !

    ReplyDelete
  50. प्लास्टिक के दुष्प्रभावों को प्रस्तुत करती आपकी रचना बहुत अच्छी लगी.
    बधाई आपको.

    ReplyDelete
  51. awesome couplets..
    I'd love share them wid my friends :)

    ReplyDelete
  52. ek shashvat samsya ko khoobsurati se ukera hai aapne...

    ReplyDelete
  53. प्लास्टिक पोलिथीन पर सटीक दोहे ...

    ReplyDelete
  54. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१०) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हमेशा ही इतनी मेहनत और लगन से अच्छा अच्छा लिखते रहें /और हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आपका ब्लोगर्स मीट वीकली (१०)के मंच पर आपका स्वागत है /जरुर पधारें /

    ReplyDelete
  55. सार्थक दोहे ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  56. मेरी घरेलु भाषा भोजपुरी है.. इच्छा हुई की भोजपुरी में प्रतिक्रिया दूँ...

    बहुत बढ़िया लिखले बनी.. आभार.. राउर प्रतिक्रिया के हमरो बा इंतिजार.. एक बेर जरूर आइब.. राउर स्वागत बा...

    ReplyDelete
  57. पॉलिथीन पर पहली बार पद्य में कुछ पढ़ने मिला है. इससे होने वाले नुकसान के प्रति सचेत कराते बेमिसाल दोहे.

    ReplyDelete
  58. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete
  59. शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  60. बहुत ही सुन्दर भाव भर दिए हैं पोस्ट में........शानदार| नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  61. ... नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं....
    आपका जीवन मंगलमयी रहे ..यही माता से प्रार्थना हैं ..
    जय माता दी !!!!!!

    ReplyDelete
  62. बहुत सी गायें भी मर रही हैं , कचरे के ढेर से पौलीथीन उदरस्थ करके।

    ReplyDelete
  63. आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  64. पॉलीथीन हमारे युग का अभिशाप है पर हम ही हैं जो िसे रोक नही पा रहे हैं थोडे से आलस की वजह से पॉलीथीन की थैलियों में सामान ले लेते हैं घर से थैला नही ले जाते ।
    सामयिक और सटीक दोहे ।
    नवरात्रि पर्व मंगलमय हो ।

    ReplyDelete
  65. bahut hi sunder aur prabhavi dohe hain .dohe likhna vo bhi aese vshya pr asan nahi hota pr aapki kalab ne kamal kiya hai
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  66. सर्वप्रथम नवरात्रि पर्व पर माँ आदि शक्ति नव-दुर्गा से सबकी खुशहाली की प्रार्थना करते हुए इस पावन पर्व की बहुत बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनायें।

    पॉलिथिन थैले से हानि का सुंदर किया बखान।
    इसके उपयोग पे बरतें सख्ती शासन का भी है फ़रमान॥
    सामयिक और सटीक दोहे ...आभार।

    ReplyDelete