Thursday, September 29, 2011


कभी घर से बाहर निकलकर तो देखो

कुँवर कुसुमेश 

कभी घर से बाहर निकलकर तो देखो.
पलटकर ज़माने के तेवर तो देखो.

जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.

दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.

बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.

बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.
*****

74 comments:

  1. दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.

    वाह बहुत खूब .......सच में आज वो बन्दर कहीं खो गए है

    ReplyDelete
  2. Lajawaab ...

    गुंजाइश ही नहीं छोड़ी है कुछ और कहने की आपने तो ...।

    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/hindi-blogging-guide-28.html

    ReplyDelete
  3. .

    बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो....

    Awesome !

    .

    ReplyDelete
  4. पाठक-गण ही पञ्च हैं, शोभित चर्चा मंच |
    आँख-मूँद के क्यूँ गए, कर भंगुर मन-कंच |
    कर भंगुर मन-कंच, टिप्पणी करते जाओ |
    प्रस्तोता का करम, नरम नुस्खा अपनाओ |
    रविकर न्योता देत, द्वार पर सुनिए ठक-ठक |
    चलिए रचनाकार, लेखकालोचक-पाठक ||

    शुक्रवार

    चर्चा - मंच : 653

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.. . phir jano

    ReplyDelete
  6. बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो........वाह क्या बात कही |
    दो लाइन मेरी तरफ से :)

    थोड़ी होगी दोस्ती तो थोड़ी मिलेगी रुसवाई
    फिर भी तुम हाथ बढाकर तो देखो :)

    ReplyDelete
  7. जानदार ग़ज़ल है और ख़ूब कही गई है. ये पंक्तियाँ याद रह गई हैं-
    बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.
    ज़माने में कशमकश भी है रिश्ता भी. अंदाज़ पसंद आया.

    ReplyDelete
  8. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.

    उम्दा शेर कहे हैं आपने, बेहद धारदार ग़ज़ल है !

    ReplyDelete
  9. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.


    बहुत कुछ कह गयी ये गज़ल .. बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  10. कभी घर से बाहर निकलकर तो देखो.
    पलटकर ज़माने के तेवर तो देखो

    जमाने के तेवर से रू-ब-रू कराती उम्दा ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  11. आदमी तो बस पैदा हो जाते हैं...इंसान को तो तराशना पड़ता है...दूसरों से पहले खुद को...

    ReplyDelete
  12. "जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो."

    सही कहाआपने....
    आदमीयत और शराफत....दूर से ही दिखाई देती है
    थोड़ा पास जाने पर ही असलियत पाता चलती है....!
    वही कहावत चरितार्थ होती है......"दूर के ढोल सुहावने !!"
    बाकी अन्दर से सब पोल ही है.....!!

    ReplyDelete
  13. बहुत वज़नदार है हर शेर !
    जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.
    बहुत गहरी पंक्तियाँ हैं ! आभार !
    नव रात्रि की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो. nice and awakening

    ReplyDelete
  15. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.

    वाह !!
    क्या बात है !!
    बहुत ख़ूब !!

    ReplyDelete
  16. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.

    बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.

    वाह। एक मुकम्मल गजल...... बहुत ही खूबसूरत अलफ़ाज़.

    ReplyDelete
  17. bahut khoobsoorat ghazal kahi hai sir....har sher badhiyaa :)

    ReplyDelete
  18. Wah Wah ..wah..
    I had something similar once on ring tone..
    "Naya logon se rishta banakr toh dekho"
    Your poetry looks so effortless ..But its impact is great ..words chosen very minutely and they sit together very well..
    keep writing we love reading it.

    ReplyDelete
  19. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.

    बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.
    बहुत सुन्दर भाव एवं शब्द संयोजन ....लाजबाब ...सचित्र ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  20. बड़ी शानदार गज़ल है, आहवान करती सी। सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  21. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.
    बहुत सही लिखा है आपने ......नव रात्रि की शुभकामनायें!!

    ReplyDelete
  22. दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.

    बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.

    कुंवर साहब! कई बार पढ़ गया हूं। फिर भी कुछ लिखते नहीं बन रहा। जब मन तृप्त हो जाता है तो कुछ कहने सुनने को नहीं होता। कुछ ऐसी ही स्थिति है मेरी। लग रहा है कि मेरे मन के भाव, मेरी विचार-धारा को आपने शब्द दे दिए हों।

    और यह ग़ज़ल तो मन और आत्मा को तृप्त करने वाली ग़ज़ल है। ब्लॉगजगत का ग़ज़ल सम्राट मैं यूं ही नहीं कहता आपको।

    ReplyDelete
  23. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    बहुत खूब
    लाजबाब ग़ज़ल

    ReplyDelete
  24. वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.
    दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो..
    वाह! कुसुमेश जी बहुत खूब लिखा है आपने! बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  25. सुंदर ..अति सुंदर ....

    ReplyDelete
  26. बेहद उम्दा गजल ! आखिरी शेर बेहतरीन है, शुक्रिया !

    ReplyDelete
  27. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.

    वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  28. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल.... आपकी प्रतिष्ठा के अनुरूप ही... खास तौर पर गाँधी जी का किताबों में दबे रह जाना और फुटपाथ पर अच्छी नींद आना.... बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  29. वाह बहुत खूब...बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  30. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.
    कुंवर कुसुमेश की ग़ज़ल होऔर पढ़ी न जाए टिपियाई न जाए यह कैसे हो सकता है .आज की तल्खियों से रु -बा -रु हैं तमाम अशआर .

    ReplyDelete
  31. "बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो."
    बहुत सुन्दर एवं सारगर्भित.

    ReplyDelete
  32. सुन्दर सन्देश देती हुई बेहतरीन गजल ..

    ReplyDelete
  33. वाह्…………निशब्द कर दिया आपने…………इतनी शानदार गज़ल कहकर्।

    ReplyDelete
  34. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  35. सर्वप्रथम नवरात्रि पर्व पर माँ आदि शक्ति नव-दुर्गा से सबकी खुशहाली की प्रार्थना करते हुए इस पावन पर्व की बहुत बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनायें।
    रचना बहुत खूबसूरत एक स्टेंजा और जुड़ जाय तो कैसा रहेगा?…इसी गुजारिश के साथ आभार……
    दूसरों पे उंगली उठाते हो अकसर!
    मुड़ी उंगलियों पे नजर दौड़ाकर तो देखो॥
    (हम उठाते हैं उंगली दूसरों पर तो सामने वाले के तरफ़ एक ही उंगली होती है बाकी तीन मुड़ी उंगलियाँ?)

    ReplyDelete
  36. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो.
    बहुत खूब लिखा है आपने ......नव रात्रि की शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  37. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो ...

    गज़ब के शेर हैं सब कुंवर जी ... साधे सादे शब्दों में कमाल किया है ...

    ReplyDelete
  38. http://urvija.parikalpnaa.com/2011/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  39. waah baauji...
    kitne acchhe se aap shabdon ko saja dete hain...
    bahut khoob...
    ham bhi zamane se rishta banane kee soch rahe hain...

    ReplyDelete
  40. बहतरीन अभिवयक्ति है सर आपकी एक बात सच्चाई को ब्यान कर रही है
    वंदना जी कि बात से सहमत हूँ निशब्द कारदिया आपने यह शानदार गजल कह कर बहुत खूब ...
    समय मिले तो कभी आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  41. सही कह रहा हूँ । कुँवर जी । ये अनुभव मैंने कई बार किया है ।
    आपकी बात में दम है । वाकई आप अनुभव को छूकर गुजरी
    हुयी बात ही कहते हैं ।
    बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा ।
    ग़रीबों की मानिंद सोकर तो देखो ।
    वाह ! बहुत बहुत आभार ।
    अभी समय कम मिलता है । अपने पाठकों की माँग पर दस प्रेत कहानी
    लिखने का वादा कर दिया है । फ़िर भी समय मिलते ही आता रहूँगा ।

    ReplyDelete
  42. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.
    भई वाह ! आपकी तारीफ़ के लिए शब्द ही नहीं है!

    ReplyDelete
  43. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सोकर तो देखो ........शब्दों के पेंटिग शानदार है ...

    ReplyDelete
  44. बहुत शानदार गजल.....
    जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    ReplyDelete
  45. One of the best of yours..
    Super-like from me !!!

    ReplyDelete
  46. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    वो ओढ़े हुए है शराफ़त की चादर,
    ज़रा उसकी चादर हटा कर तो देखो.
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  47. हर शेर लाजवाब ... बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    ReplyDelete
  48. लाजवाब sir
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल
    sadar.

    ReplyDelete
  49. कुशमेश जी नमस्कार्। सुन्दर गजल है--जिसे फक्र से आदमी --------

    ReplyDelete
  50. शानदार बहुत बढ़िया ग़ज़ल .....धन्यवाद|

    ReplyDelete
  51. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो....
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल......

    ReplyDelete
  52. दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  53. बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो .
    ...................बहुत सुन्दर
    हर शेर जानदार ..

    ReplyDelete
  54. वाह!गहरी बातों की सहज अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  55. aapne bulaya aur hum khinche chale aaye
    ab shikayat na kijiyega

    bahut hi sunder ghazal
    saral shabdon mein, bahut gehri baat kahi aapne

    abhaar

    Naaz

    ReplyDelete
  56. बहुत बहुत बढ़िया ग़ज़ल. शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  57. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति
    शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  58. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    Khoob...Behtreen Abhivykti...

    ReplyDelete
  59. भाई जान, सारी की सारी गजल ही खुबसूरत है |

    ReplyDelete
  60. बहुत चैन फुटपाथ पर भी मिलेगा,
    ग़रीबों की मानिंद सो कर तो देखो....
    बहुत ही उम्दा गजल ...बधाईयां ..हार्दिक अभिनंदनन !!

    ReplyDelete
  61. दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.
    वाह!

    नवरात्रि की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  62. बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.

    यह बहुत ही उम्दा शेर कहा है और फिर से एक बेहतरीन गज़ल पेश करने के लिये आभार.

    विजयादशमी के पर्व पर आपको व परिवार को शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  63. विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  64. Manav ke andar maujud dev evm danav ko aapne apni kavita ke madhyam se bakhoobi ubhara hai. aapko vijay dashmi ki hardik subhkamna.

    ReplyDelete
  65. बहुत ही उम्दा !
    विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  66. जिसे फ़ख्र से आदमी कह रहे हो,
    मियाँ झाँककर उसके अन्दर तो देखो.

    क्या बात है भाई , आपने तो सत्य को उदभाषित कर दिया है । मेरे पोस्ट पर भी पधारें। धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  67. आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  68. दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.


    कुंवर जी, बहुत उम्दा शेर कहें हैं आपने
    दशहरे की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  69. भाई साहब, मेर नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  70. बड़ी कशमकश है 'कुँवर' फिर भी यारों,
    ज़माने से रिश्ता बनाकर तो देखो.
    *****
    वाह! कुंवर जी वाह!
    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  71. दबे रह गये हैं किताबों में शायद,
    कहाँ तीन गाँधी के बन्दर तो देखो.
    charcha manch tak aaj fir aapki post tak aa gai.sach hai gandhiji ke teen bandron ko dhundhna mushkil ho gaya hai.....bahut hi acchi rachna...mere blog par swagat hai

    ReplyDelete