Sunday, October 23, 2011

दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर




कुँवर कुसुमेश 

दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर.
अहंकार तम का हुआ,फिर से चकनाचूर.

अन्यायी को अंत में,मिली हमेशा मात.
याद दिलाती है हमें,दीवाली की रात.

घर घर पूजे जा रहे,लक्ष्मी और गणेश.
पावन दीवाली करे,दूर सभी के क्लेश.

दीवाली का पर्व ये, पुनः मनायें आज.
खूब पटाखे दागिये,धाँय धाँय आवाज़.

यश-वैभव-सम्मान में,करे निरंतर वृद्धि.
दीवाली का पर्व ये,लाये सुख-समृद्धि.
*****
शब्दार्थ: नूर=प्रकाश 

69 comments:

  1. शुभकामनाएं ||
    रचो रंगोली लाभ-शुभ, जले दिवाली दीप |
    माँ लक्ष्मी का आगमन, घर-आँगन रख लीप ||
    घर-आँगन रख लीप, करो स्वागत तैयारी |
    लेखक-कवि मजदूर, कृषक, नौकर व्यापारी |
    नहीं खेलना ताश, नशे की छोडो टोली |
    दो बच्चों का साथ, रचो मिलकर रंगोली ||

    ReplyDelete
  2. यश-वैभव-सम्मान में,करे निरंतर वृद्धि.
    दीवाली का पर्व ये,लाये सुख-समृद्धि.

    धनतेरस और दीपावली के पावन पर्व पर आपको हार्दिक
    शुभकामनाएँ.
    आपकी प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,कुंवर जी.

    ReplyDelete
  3. यश-वैभव-सम्मान में,करे निरंतर वृद्धि.
    दीवाली का पर्व ये,लाये सुख-समृद्धि....

    बहुत सुन्दर रचना ...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  4. दीपावली पर सुंदर दोहे
    दीपावली के पावन पर्व पर आपको हार्दिक
    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  5. दीपावली की हार्दिक शुभकामना कुंवर साहब!
    आपकी यह उत्कृष्ट प्रविष्टि कल दिनांक 24-10-2011 के सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  6. यश-वैभव-सम्मान में,करे निरंतर वृद्धि.
    दीवाली का पर्व ये,लाये सुख-समृद्धि.

    सुंदर दोहे, सुंदर भाव।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर. दिवाली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर दोहे।

    आप सभी को धनतेरस और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. bahut sunder diwali ki shubhkamnayein.........

    ReplyDelete
  10. Bahut khoob Kunwar sahab. hamesa ki tarah sandar aur ek message bhi.
    meri taraf se aapko deepawali ki hardik subh kam naye.

    ReplyDelete
  11. खूब पटाखे दागिये,धाँय धाँय आवाज़.
    अपनी रचनाओं में आप पहले पर्यावरण रक्षण की प्रेरणा दे चुके हैं और अब उसे नष्ट करने की प्रेरणा दे रहे हैं। पटाख़े बाज़ी फ़िज़ूलखर्ची अलग से है।
    आप इस मौक़े पर अच्छा संदेश दे सकते थे, जिससे कि आप चूक गए हैं।
    सादर ,
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  12. दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर.
    अहंकार तम का हुआ,फिर से चकनाचूर.
    कुंवर साहब के दोहे सैदेव ही सामाजिक और पार्यावरण सचेत सन्देश देतें हैं इसी आलोक में यह पर्यावरण नाशी दोहा अखरा ,पटाखे तो अब कचेरी (कचहरी )में भी फोड़े जा रहें हैं सरे आम .फिर दिवाली पर बारूद का शोर कुत्ते बिल्ली पक्षी जगत पर बहुत भारी पड़ता है .पेट्स कई दिन बाद तक असामान्य बने रहतें हैं दमा के मरीज़ भी .शोर भी आदमी की धमनियां बंद कर रहा है रक्त चाप भी बढा रहा है .श्रवण ह्रास तो है ही .
    दीप पर्व मुबारक कुंवर साहब .

    ReplyDelete
  13. अन्यायी को अंत में,मिली हमेशा मात.
    याद दिलाती है हमें,दीवाली की रात.

    दीपावली पर सुन्दर दोहे ...
    इस पर्व की बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. अद्भुत लिखा है |बहुत बहुत शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत कविता...दिवाली की शुभकामना

    ReplyDelete
  16. दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर.
    अहंकार तम का हुआ,फिर से चकनाचूर.

    वाह क्या खूब अंदाज़ में दीपावली कि शुभकानाएं

    आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. दीपावली का यही असली अर्थ है ..
    सपरिवार आपको दीपावली की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  18. दीपावली की सार्थकता को स्थापित करती बहुत सुन्दर रचना ! आपको सपरिवार दीपावली के पुण्य पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  19. "यश-वैभव-सम्मान में,करे निरंतर वृद्धि.
    दीवाली का पर्व ये,लाये सुख-समृद्धि"

    deepavali mangalmay ho.....aapko bhi dher sari shubhkamnaayen........!!

    ReplyDelete
  20. दीपावली को समर्पित यह रचना मन को भा गई।
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  21. दीपावली सा रोशन करती हुई रचना .......दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. घर घर पूजे जा रहे,लक्ष्मी और गणेश.
    पावन दीवाली करे,दूर सभी के क्लेश.

    बहुत सुंदर ... हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  23. दीपावली पर बहुत सुंदर गीत लिखा है आपने
    शुभकामनाये कुसुमेश भाई !

    ReplyDelete
  24. घर घर पूजे जा रहे,लक्ष्मी और गणेश.
    पावन दीवाली करे,दूर सभी के क्लेश.

    धनतेरस और दीपावली के पावन पर्व पर आपको हार्दिक
    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  25. अन्यायी को अंत में,मिली हमेशा मात.
    याद दिलाती है हमें,दीवाली की रात.
    बहुत सुंदर गीत .
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  26. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  27. waah.. ati sundar rachna...Happy Diwali.

    ReplyDelete
  28. कुंवर जी दीपावली के दोहे पढ़ कर आनंद आ गया. आप और आपके परिवार को दिवाली की ढेरों शुभ कामनाएं.

    नीरज

    ReplyDelete
  29. उत्तम दोहे सर,
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  30. खूबसूरत दोहे .................आपको दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  31. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति, दीपोत्‍सव पर्व की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  32. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ ………

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  33. बहुत सुंदर दोहे दीवाली को पूरी तरह परिभाषित करते... बधाई और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  34. इस सुंदर रचना के लिए बधाई और प्रकाश पर्व पर आपको शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  35. दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर.
    अहंकार तम का हुआ,फिर से चकनाचूर.

    प्रकाश पर्व को समर्पित दोहे बहुत अच्छे लगे

    ReplyDelete
  36. बढ़िया दोहे हमेशा की तरह !
    दीपावली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  37. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. bahut badhiya...
    aapko bhi Diwali ki shubhkaamnayen...

    sirf ek chhoti si baat... jo mujhe lagi... aap to bade hain, zyada jaante hain...

    दीवाली का पर्व ये, पुनः मनायें आज.
    खूब पटाखे दागिये,धाँय धाँय आवाज़.

    ye aise bhi to ho sakta sakta tha...

    diwali ka parv ye, punah manayen aaj
    khoob patakhe daagiye, jisme pradooshan ho kam aur awaaz...

    ise aap apne tareeke se likhte to shayad aur acchhe se nikharti ye panktiyaan...

    ReplyDelete
  39. सुन्दर प्रस्तुति



    दीप हम ऐसे जलायें
    दिल में हम एक अलख जगायें..
    आतंकवाद जड़ से मिटायें
    भ्रष्टाचार को दूर भगायें
    जन जन की खुशियाँ लौटायें
    हम एक नव हिन्दुस्तान बनायें
    आओ, अब की ऐसी दीवाली मनायें
    पर्व पर यही हैं मेरी मंगलकामनायें....


    -समीर लाल 'समीर'
    http://udantashtari.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. कल के चर्चा मंच पर, लिंको की है धूम।
    अपने चिट्ठे के लिए, उपवन में लो घूम।।

    ReplyDelete
  41. अन्यायी को अंत में,मिली हमेशा मात.
    याद दिलाती है हमें,दीवाली की रात.
    बहुत सही और सुन्दर संदेश!

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    ekhidhun.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  43. बहुत सुंदर ...दीवाली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  44. बहुत ही सुन्दर... शुभ दिवाली...

    ReplyDelete
  45. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    ReplyDelete
  46. बहुत सुन्दर.....दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  47. घर घर पूजे जा रहे,लक्ष्मी और गणेश.
    पावन दीवाली करे,दूर सभी के क्लेश.
    सुन्दर!
    दीपावली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  48. आपके पोस्ट पर आना बहुत अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  49. दिवाली पर सुन्दर रचना के लिए बधाई..
    दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं..

    आभार

    ReplyDelete
  50. Aameen.. Bahut hi pyari rachna.. Badhai..

    -:SHUBH DEEPAWALI:-

    ReplyDelete
  51. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  52. प्यार हर दिल में पला करता है,
    स्नेह गीतों में ढ़ला करता है,
    रोशनी दुनिया को देने के लिए,
    दीप हर रंग में जला करता है।
    प्रकाशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!!

    ReplyDelete
  53. सब को शुभकामना,
    सुख से हो सामना,
    झिलमिल झिलमिल झिलमिल,
    खुशियां छलके अपार।दिवाली के रंग खुशियों के संग मुबारक झिलमिल दीप ,उजास ,आस ,लक्ष्मी का प्रवास .

    ReplyDelete
  54. दीपावली शुभ और मंगलमय हो |
    आशा

    ReplyDelete
  55. khoobsurat panktiyan
    Deepawali ki shubh kaamnaayen

    ReplyDelete
  56. दीपावली पर केन्द्रित बहुत खूबसूरत दोहे . आभार. ज्योति पर्व के साथ-साथ गोवेर्धन पूजा और भाई दूज की आपको सपरिवार हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  57. हर शेर दीपावली की भावना लिए ... बहुत ही खूबसूरत अंदाज़ में ...
    आपको दीपावली की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  58. वाह, सचमुच पावन, जगमग हो गई हमारी दीवाली.

    ReplyDelete
  59. देरी के लिए क्षमा....
    बहुत ही सुंदर रचना....
    दीवाली की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  60. बहुत सुन्दर रचना|
    आपको तथा आपके परिवार को दिवाली की शुभ कामनाएं!!!!

    ReplyDelete
  61. बहुत सुन्दर ।मेरे पास शब्द नही हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  62. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  63. happy Diwali..
    poetry is written very well ...
    I love the lines
    दीवाली के पर्व पर,बरस रहा है नूर.
    अहंकार तम का हुआ,फिर से चकनाचूर.

    अन्यायी को अंत में,मिली हमेशा मात.
    याद दिलाती है हमें,दीवाली की रात.
    God Bless!

    ReplyDelete
  64. vaah bahut hi badhiya prastuti.baahar jaane ke karan der se padhi bahut sari shubhkamnayen aapo va aapke samast parivaar ko.

    ReplyDelete