Tuesday, November 1, 2011

औषधीय गुण (दोहे)




कुँवर कुसुमेश 

औषधीय गुण वृक्ष में,मिलते हैं पर्याप्त.
मूरख करने पर तुले,इनको मगर समाप्त.

जड़ें,पत्तियाँ,फूल-फल,औषधि गुण से पूर्ण,
इनसे वैद्य बना रहे,आसव,चटनी,चूर्ण.

जड़ी-बूटियों में निहित,अद्भुत रोग निदान.
पुष्टि बराबर कर रहे,नियमित अनुसंधान.

तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.
*****
 

69 comments:

  1. जड़ी-बूटियों में निहित,अद्भुत रोग निदान.
    पुष्टि बराबर कर रहे,नियमित अनुसंधान.
    तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार...
    महत्वपूर्ण दोहे! नए अंदाज़ के साथ आपने बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक दोहे प्रस्तुत किया है जो जानकारीपूर्ण और लाभदायक है!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. वृक्षों से मिलने वाले लाभ को कहते बहुत सुन्दर दोहे .. प्रेरक ..

    ReplyDelete
  3. बहुत उत्तम दोहे.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर दोहे... अति सुंदर.. आपके दोहों का संसार बढ़ता जा रहा है...

    ReplyDelete
  5. वाह ! कुसुमेश जी ,
    आपने तो चंद दोहों में प्रकृति का पूरा खज़ाना उड़ेल कर रख दिया है !
    हमारे तमाम दुखों का कारण हमारा प्रकृति से दूर जाना ही है!
    पेड़ों को अपने स्वार्थ हेतु काटने वालों को शायद यह पता नहीं है कि केवल ६ महीने का अक्सिजन बनाने के लिए ३८ ट्रिलियन डालर खर्च करने पड़ते जो ये पेड़ हमें मुफ्त में देते हैं !
    प्रकृति के महत्व को रखांकित करता यह दोहा मन को छू गया !
    तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान
    आभार !.

    ReplyDelete
  6. सुंदर और सार्थक दोहे

    ReplyDelete
  7. हमारी प्रकृति सम्पदा की महिमा बखानते बहुत ही सुन्दर दोहे ! सच में नासमझी में ही हम इस दौलत की अवहेलना कर रहे हैं और इनके संरक्षण के प्रति उदासीन हैं !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक दोहे...

    ReplyDelete
  9. वाह ...बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक दोहे..आभार..

    ReplyDelete
  11. जड़ी-बूटियों की कथा, कहते कवि कुसुमेश,
    इसमें जो संदेश है, फैले देश-विदेश।

    ReplyDelete
  12. bahut achcha sandesh deti hui rachna ped lagao paryavaran bachao.yeh ittefaaq hai isi vishya par aaj maine bhi kuch likha hai kal dekhiyega.kal post karungi.

    ReplyDelete
  13. बढ़िया प्रकृति वंदना है ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक दोहे| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  15. बहुत ही लाजवाब लगे आपके दोहे. ये बात अगर सब लोग समझ जाएँ तो ये नौबत ही न आये के पेड़ पौधों को ढूँढना पड़े.जिस प्रकृति से इतना कुछ पाया जा सकता है उसका सम्मान भी करना हमें आना चाहिए
    आभार

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ! हमारे लिए पौधे बहुत ही उपयोगी है !
    मेरे ब्लॉग का पता बदल गया है ! अपने दिस बोर्ड पर अपडेट होने के लिए फिर से फोल्लो करें !-www.gorakhnathomsai.blogspot.com
    www.gorakhnathbalaji.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया सर जी ......

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    छठपूजा की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  19. तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.
    Is baat kee nihayat zaroorat hai!

    ReplyDelete
  20. शिक्षाप्रद दोहे. सादर.

    ReplyDelete
  21. sundar dohe ...aoushdhiy paodhon ka poorn vivran..

    ReplyDelete
  22. सार्थक रचना....

    ReplyDelete
  23. अब जब घर के लोग ही इन सब चीज़ों को नहीं समझ रहे और पेड़ उजाड़ने पर तुले हुए हैं तो बाहर के लोगों से तो कोई अपेक्षा ही नहीं है..

    ReplyDelete
  24. औषधिय गुणो से भरपूर सुन्दर और सार्थक दोहे।

    ReplyDelete
  25. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

    कमाल के दोहे।
    इसे हर पर्यावरणविद को पढ़ना चाहिए।
    ... और यह संदेश तो लाजवाब और बेहद आवश्यक है ..
    तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.

    ReplyDelete
  26. आयुर्वेद की पूरी रुपरेखा खींच डाली...आपने...अपने इस बहुमूल्य ज्ञान को संरक्षित करने में ये दोहे अपनी भूमिका निभायेंगे...

    ReplyDelete
  27. bahut badhiya...
    waise mai Papa se hamesha kisi na kisi medicinal plant ke bare mei ya project k bare mei sunti hi rahti hu... aaj laga jaise unke hi project ka promotional post ho...

    ReplyDelete
  28. प्रकृति से जुड़े रहने में ही लाभ है.

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर लिखा है आपने...सार्थक रचना....

    ReplyDelete
  30. जड़ी-बूटियों में निहित,अद्भुत रोग निदान.
    पुष्टि बराबर कर रहे,नियमित अनुसंधान.laabhkari dohe

    ReplyDelete
  31. तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.
    बेहतरीन पर्यावरणी दोहे .
    महाकाल के हाथ पर गुल होतें हैं पेड़ ,
    सुषमा तीनों लोक की कुल होतें हैं पेड़ .
    यहाँ गुल का एक अर्थ गायब /विलुप्त /गुम होना है और दूसरा गुल यानी फूल (गुलबदन ).

    ReplyDelete
  32. कुंवर जी आपकी रचनाएँ सच में सब से हट कर और प्रेरक होती है. सीधे सादे शब्दों में आप बहुत काम की बातें बता देते हैं...आपका ये प्रयास स्तुत्य है...

    नीरज

    ReplyDelete
  33. सुन्दर और सार्थक दोहे सर,
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  34. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

    प्रेरक हैं सभी दोहे .. आज हम भूलते जा रहे हैं पेड़ों के उपयोग को ...

    ReplyDelete
  35. औषधिय गुणो से भरपूर सुन्दर...शिक्षाप्रद दोहे

    ReplyDelete
  36. तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.
    यह है असली बात हमेशा याद रखने वाली मगर हम है की भूल जाते हैं ....

    ReplyDelete
  37. बहुत ही सुन्दर दोहे बधाई भाई कुशमेश जी

    ReplyDelete
  38. इन सुंदर दोहों से आपने पेड और प्रकृति दोनों के संवर्धन का महत्व बताया है ।

    ReplyDelete
  39. सच में इनके हि सहयोग से हमारे स्वास्थ के हर निदान सम्भव हैं.. ये औषधि बनाने वाली अंग्रेजी कम्पनियां भी इन्ही से औषधियां बनाती हैं.. और हमे मुर्ख भी|

    ReplyDelete
  40. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    ReplyDelete
  41. वास्तव में प्राकृतिक तरीकों से रोग निदान साइड इफेक्ट से बचा कर अन्य परेशानियों से बचाता है बेहतरीन दोहे

    ReplyDelete
  42. बहुत सुंदर रचना हमेशा की तरह !

    ReplyDelete
  43. aadarniy sir
    aap kahan -kahan se vishhy chun kar laate hain .bemisaal---!aaj ke paryavaran ke sandarbh me bahut bahut hi achhi prastuti
    sadar naman
    poonam

    ReplyDelete
  44. तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान
    बहुत सुन्दर रचना....! सामयिक रचना...!

    ReplyDelete
  45. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

    jeevnopyogi dohe...

    ReplyDelete
  46. बहुत सुन्दर दोहे हमेशा की तरह |

    ReplyDelete
  47. प्रकृति से जुड़े रहने का अनुपम सन्देश देते हुए
    बहुत ही लाजवाब और अनुपम दोहे ...
    प्रशंसनीय ,, मननीय .

    ReplyDelete
  48. सुंदर मन की सुंदर प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  49. beautiful post, asking us to save our environment.

    ReplyDelete
  50. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

    बहुत उत्तम दोहे....

    ReplyDelete
  51. दोहों के जरिये पर्यावरण के प्रति जागरूकता का अद्भुत प्रयास! साथ ही काव्य को ज्ञान के भंडार में बदलने का अभियान! बधाई..

    ReplyDelete
  52. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.
    peda podhon ke gun ko batate hue shaandaar dohe.bahut badhaai aapko.
    मुझे ये बताते हुए बड़ी ख़ुशी हो रही है , की आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (१६)के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर स्वागत है /आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए / जरुर पधारें /

    ReplyDelete
  53. मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  54. सार्थक,संदेशपूर्ण व उपयोगी जानकारी देते दोहे,आभार !

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है,कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  55. बहुत सुंदर और ज्ञानवर्धक दोहे...आभार

    ReplyDelete
  56. वनस्पति के औषधीय गुणों की जानकारी के साथ वनस्पति रक्षा का सुंदर संदेश.

    ReplyDelete
  57. तुलसी,हल्दी,नीम को,कहें प्रकृति उपहार.
    इनके सेवन से हुआ,चंगा हर बीमार.

    तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.
    poojya rahen hain hamaare ye purkhe ped .

    ReplyDelete
  58. तन-मन-धन से कीजिये,पेड़ों का सम्मान.
    इनके ही सहयोग से,सम्भव रोग निदान.

    पेड़ों के प्रति चेतना प्रदान करती आपकी अनुपम प्रस्तुति
    के लिए बहुत बहुत आभार जी.

    ReplyDelete
  59. ha sriman ye to atut satya h. ki ped hamare jivan data h,,,,,,,,,,,,,,,,,

    ReplyDelete