Thursday, November 10, 2011

मुश्किलों से निजात मुश्किल है




कुँवर कुसुमेश 

मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
खूबसूरत हयात मुश्किल है.

कितनी शोरिश-पसंद है यारब,
वक़्त की काइनात मुश्किल है.

जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
बारहा हादसात मुश्किल है.

मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

रोज़ उठने लगा है गिर गिर कर,
पर्दा-ए-वाक़यात मुश्किल है.

अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.
*****
शोरिश-पसंद=उपद्रव करने वाला. 
बारहा=अक्सर.
पर्दा-ए-वाक़यात=घटनाओं से पर्दा.

83 comments:

  1. is ghazal ki na karen tareef ye baat mushkil hai
    vaah ..vaah behtreen ghazal.

    ReplyDelete
  2. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    dil ko chhuti gazal

    ReplyDelete
  3. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    गजब का शेर , मुबारक हो

    ReplyDelete
  4. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.
    खूबसूरत मतला, सुंदर गजल

    ReplyDelete
  5. रोज़ उठने लगा है गिर गिर कर,
    पर्दा-ए-वाक़यात मुश्किल है.

    umdaa...bahut khub

    ReplyDelete
  6. बढ़िया ग़ज़ल कही है कुसुमेश जी.
    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    यह शे'र बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  7. सुंदर गजल
    सारे ही शेर बेहतरीन है
    हर शेर पर दाद कबूल कीजिये

    ReplyDelete
  8. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    रात हमेशा मुश्किल होती है, जब तक अंधेरी है। पर मुंह चिढ़ाते रात वाला प्रयोग बड़ा नया और उम्दा लगा।
    इस ग़ज़ल में आपने बिल्‍कुल नए सोच और नए सवालों के साथ समाज की मौजूदा जटिलताओं को उजागर किया है ।

    ReplyDelete
  9. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    हमेशा कि तरह एक बेहतरीन गज़ल. आभार

    ReplyDelete
  10. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.
    bilkul sahi bayaan kiya hai. bahut achchhi gazal.

    ReplyDelete
  11. ना अर्श वाला सुनता है...ना फर्श वाला...हालत वाकई मुश्किल हैं...और उसपर भी खूबसूरत शेर...लाज़वाब...

    ReplyDelete
  12. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    बहुत खूबसूरत गज़ल है कुसुमेश जी ! बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. मुस्कुराती सुबह से ताकतवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    गहन चिंतन से उपजी ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  14. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    कितनी शोरिश-पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.
    Behad sundar panktiyan!

    ReplyDelete
  15. सारे ही शेर बेहतरीन है.....बहुत सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  16. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    क्या बात है! बहुत सुन्दर ग़ज़ल है कुसुमेश जी.

    ReplyDelete
  17. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.


    ना अर्श वाला सुनता है...ना फर्श वाला...हालत वाकई मुश्किल हैं...और उसपर भी खूबसूरत शेर...लाज़वाब...

    ReplyDelete
  18. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    ज़िंदगी की सच्चाइयों का निचोड़ है इस अकेले शेर में ,,
    बहुत ख़ूब !!

    ReplyDelete
  19. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 11-11-2011 को शुक्रवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  20. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.

    सौ मुश्किलों की एक मुश्किल और अस्ल मुश्किल तो यही है।
    इंसान को चाहिए कि वह अपने बुरे आमाल से तौबा करे।
    तौबा करने वाले फ़रमांबरदारों की वह रब ज़रूर सुनता है।

    ReplyDelete
  21. पूरी गज़ल ही गज़ब की है ... हर शेर एक से बढ़ कर एक ..

    जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात मुश्किल है.

    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  22. वाह!! बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  23. मुश्किलों से निजात मुश्किल है
    खूबसूरत हयात मुश्किल है

    khoobsurat matle se hoti huee
    gazal apne maqaam ko
    haasil kar gaee hai .
    mubarakbaad .

    ReplyDelete
  24. गज़ल का हर नुक्ता,काबिले-तारीफ़

    ReplyDelete
  25. वाह वाह वाह!!
    बहुत ही उम्दा गज़ल सर,
    आनंद आ गया....
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  26. बहुत ही उम्दा गज़ल सर
    प्यारभरी सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  27. behad khubsurat wa umda gazal

    ReplyDelete
  28. मुस्कुराती सुबह से ताकतवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है

    aasani se kaha kadwa sach

    abhaar

    Naaz

    ReplyDelete
  29. जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात मुश्किल है.
    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है..
    वाह! वाह! क्या बात है! ख़ूबसूरत शेर! शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  30. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  31. लाजवाब ग़ज़ल.... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  32. बेहद शानदार गज़ल!!

    ReplyDelete
  33. उम्दा गजल की तारीफ़ स्वीकार करें..

    ReplyDelete
  34. वाह: बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल....शानदार प्रस्तुति..बधाई..

    ReplyDelete
  35. आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ । पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  36. जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात मुश्किल है

    behtareen sher....umda gazal

    pratiksha hai..

    ReplyDelete
  37. बढ़िया अश्आरों के साथ उम्दा ग़ज़ल प्रस्तुत की है आपने!
    --
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है! सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  38. उर्दू के शब्द बहुत मुश्किल,
    कोई शक नहीं गजल मस्त है :)

    ReplyDelete
  39. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    शानदार प्रस्तुति........!

    ReplyDelete
  40. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    वाह!

    ReplyDelete
  41. सुंदर गजल...
    सारे शेर बेहतरीन है ...

    ReplyDelete
  42. Very true! Each 'SHER' is very impressive!

    ReplyDelete
  43. Kunwar ji! Congratulations on writing such a nice Ghazal!

    ReplyDelete
  44. प्यारी रचना....
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  45. Kunwar Ji !!! Heart Touching... Poetry
    मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है. on Every Line

    ReplyDelete
  46. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है...
    बहुत ही लाजवाब, शानदार ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  47. बहुत खूब! ग़ज़ल का मतला जीवन की तल्ख़ हकीकत को बयां करता है.पूरी ग़ज़ल लाजवाब है. बधाई!

    ReplyDelete
  48. बहुत उम्दा अशार,बेहतरीन ग़ज़ल !
    मक्ता बहुत ही अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  49. "मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है."

    बेहतरीन! मुश्किलों से निज़ात कहाँ कुँवर साहब ये तो हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा हैं ! जो जूझा नहीं वो क्या जिया?

    ReplyDelete
  50. aadarniy sir
    badi pasho -pesh me hun kis ki tarrif karun.sabhi lajwab ek se badh kar ek.
    WAH-WAH
    sadar naman
    han! ye panktiyan bahut bahut hi achhi lagi----

    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    punah naman ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  51. बहुत सुंदर
    कम ही ऐसी रचनाएं पढने को मिलती हैं

    ReplyDelete
  52. हर शेर आज के हालात का चस्मदीद गवाह है !
    इस शेर का तो जवाब नहीं
    मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.
    मुबारक हो कुसुमेश जी !

    ReplyDelete
  53. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    bahut sunder or sahi likhe haen ye she'r..waah !

    ReplyDelete
  54. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है...

    वाह क्या लाजवाब शेर है ... ऊपर वाला भी न सुने तो मुश्किल तो होनी ही है ...

    ReplyDelete
  55. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    Vah!


    आपकी पोस्ट बेहद पसंद आई! इसलिए आपको बधाई और शुभकामनाएं!
    " मुद्दों पर आधारित स्वस्थ बहस के लिए हमारे ब्लॉग
    http://tv100news4u.blogspot.com/
    पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  56. इस उमर में तो हुनर मालूम होना चाहिए
    चुटकियों में कैसे होते,काम जो मुश्किल हैं!

    ReplyDelete
  57. समय मिले तो मेरे एक नए ब्लाग "रोजनामचा" को देखें। कोशिश है कि रोज की एक बड़ी खबर जो कहीं अछूती रह जाती है, उससे आपको अवगत कराया जा सके।

    http://dailyreportsonline.blogspot.com

    ReplyDelete
  58. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है.

    शानदार प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  59. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    इन दो लाइनों में जिंदगी का पूरा फलसफा आ गया.

    ReplyDelete
  60. मेरे नए पोस्ट भोजपुरी भाषा का शेक्शपीयर- भिखारी ठाकुर पर आपका इंतजार करूंगा । धन्यवाद

    ReplyDelete
  61. जिस तरफ भी नज़र उठी देखा,
    बारहा हादसात मुश्किल है.
    bahut khoob zanaab .

    ReplyDelete
  62. very nice..
    some words I cudnt understand But over all I wht I felt was very close to reality... hurdles in life are actually part of thrill...
    but "Mushkilon ko asaan karna hi ek sabse badi mushki hai"

    ReplyDelete
  63. आपकी पोस्ट बेहद पसंद आई बेहतरीन गजल,...
    मेरे नए पोस्ट पर स्वागत है.....

    ReplyDelete
  64. simply beautiful..
    its going straight to my fb wall !!

    ReplyDelete
  65. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है

    BEHTAREEN SHER....UMDA GAZAL.

    ReplyDelete
  66. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,|
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है|| bahut hi theek likha hai aapne. wah.wah

    ReplyDelete
  67. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    बढ़िया गज़ल

    ReplyDelete
  68. कल 26/11/2011को आपकी किसी पोस्टकी हलचल नयी पुरानी हलचल पर हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  69. गजब की प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर मन प्रसन्न हो गया है.

    समय मिले तो मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  70. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  71. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.
    खुबशुरत गजल ,आईना है आपके विचारों का ...../

    ReplyDelete
  72. बहुत खूब......अब तक जितना पढ़ा..पसंद आया.
    nice blog sir.
    and thanks for liking my poem.

    ReplyDelete
  73. मुस्कुराती सुबह से ताक़तवर,
    मुँह चिढ़ाती ये रात मुश्किल है
    सच कहा है । सुबह हो सत्य हो या सरल हो; रात , झूट और टेढा पन मुंह ही चिढा रहे है ।

    ReplyDelete
  74. अर्श वाला भी अब नहीं सुनता,
    ये 'कुँवर' एक बात मुश्किल है.

    bahut kuchh mushkil hai sir...

    lekin aapke liye kisi bhi topic par likhna mushkil nahi hai....:)

    ReplyDelete
  75. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    कितनी शोरिश-पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.
    bahut khas Gazal .. vakai apne maksad me kamyab... abhar .Ap mere blog tk ayye eske liye koti koti abhar .

    ReplyDelete
  76. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.

    कितनी शोरिश-पसंद है यारब,
    वक़्त की काइनात मुश्किल है.

    sach hee to kaha hai aap ne - Life is not easy !! Beautiful thoughts enclosing the bitter realities of life..

    ReplyDelete
  77. मुश्किलों से निजात मुश्किल है.
    खूबसूरत हयात मुश्किल है.
    वाह...बहुत खूब ।

    ReplyDelete