Sunday, January 29, 2012

सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है.......


कुँवर कुसुमेश 

ऐसा नहीं कि रस्मे-मुहब्बत नहीं रही.
दुनिया में सिर्फ आज शराफ़त नहीं रही.

तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.

सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.

देखा न एक बार पलट करके भी 'कुँवर'
गोया ख़ुदा को वाक़ई फुरसत नहीं रही.
*****
शब्दार्थ:-
 रस्मे-मुहब्बत =मुहब्बत की रस्म,
हर्फ़े-वफ़ा=वफ़ा शब्द 

59 comments:

  1. तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.-----वाह क्या कहने

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब..क्या बात है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
      ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

      बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
      हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.
      Bahut,bahut sundar!

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 30-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. जिंदगी के कई पहलुओं का समावेश इन पंक्तियों में..

    ReplyDelete
  5. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

    आज के परिवेश पर सार्थक प्रस्तुति ..बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब....
    गहन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  7. Nice .

    Ved Quran: वेद क़ुरआन में ईश्वर का स्वरूप God in Ved & Quran
    हम परमेश्वर के मार्गदर्शन में चलें जो कि वास्तव में ही ज्ञान का देने वाला है। उसका परिचय वेद और क़ुरआन में इस तरह आया है-
    ...
    1. हुवल अव्वलु वल आखि़रु वज़्-ज़ाहिरु वल्-बातिनु, व हु-व बिकुल्लि शैइन अलीम.
    वही आदि है और अन्त है, और वही भीतर है और वही बाहर है, और वह हर चीज़ का ज्ञान रखता है.
    (पवित्र क़ुरआन, 57,3)

    त्वमग्ने प्रथमो अंगिरस्तमः ...
    अर्थात हे परमेश्वर ! तू सबसे पहला है और सबसे अधिक जानने वाला है.
    (ऋग्वेद, 1,31,2)

    2. ...लै-इ-स कमिस्लिहि शैउन ...
    अर्थात उसके जैसी कोई चीज़ नहीं है.
    (पवित्र क़ुरआन, 42,11)

    न तस्य प्रतिमा अस्ति ...
    उस परमेश्वर की कोई मूर्ति नहीं बन सकती.
    (यजुर्वेद, 32,3)

    क़ुरआन में ईश्वर के स्वरूप का वर्णन देखकर जाना जा सकता है कि वह उसी ईश्वर की उपासना की शिक्षा देता है जिसकी उपासना सनातन काल से होती आ रही है। सनातन धर्म यही है। सनातन सत्य को सब मिलकर थामें तो बहुत सी दूरियां ख़ुद ब ख़ुद ही ख़त्म हो जाएंगी।
    जो चीज़ लोगों को बांटती है वह धर्म नहीं होती।
    जो चीज़ लोगों को ज्ञान के मार्ग से हटा दे, वह भी धर्म नहीं होती।

    सत्य को जानेंगे तो हम सब एक बनेंगे।
    एकता में शक्ति होती है।

    3. क़द तबय्यनर्रूश्दु मिनल ग़य्यि, फ़मयं-यकफ़ुर बित्ताग़ूति व-युअमिम्-बिल्लाहि फ़-क़दिस्-तम-सका बिल् उर्वतिल वुस्क़ा...
    सही बात नासमझी की बात से अलग होकर बिल्कुल सामने आ गई है, अब जो ताग़ूत (दानव) को ठुकरा दे और अल्लाह पर ईमान ले आए उस ने एक बड़ा सहारा थाम लिया.
    (पवित्र क़ुरआन, 2,256)

    दृष्ट्वारूपेव्याकरोत् सत्यानृते प्रजापतिः अश्रद्धांमनृते दधाच् छृद्धां सत्ये प्रजापतिः
    अर्थात परमेश्वर ने सत्य और असत्य के तथ्य को समझकर सत्य को असत्य से अलग कर दिया. उसकी आज्ञा है कि (हे लोगो) सत्य में श्रद्धा करो, असत्य में अश्रद्धा करो.
    (यजुर्वेद, 19,77)

    ईश्वर के कल्याणकारी सत्य स्वरूप का ज्ञान केवल ईश्वर की वाणी के माध्यम से ही पाया जा सकता है।
    ईश्वर का सत्य स्वरूप और उसका आदेश आप सबके सामने है, अब जो मानना चाहे वह मान ले।
    http://vedquran.blogspot.com/2012/01/god-in-ved-quran.html

    ReplyDelete
  8. बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
    हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.

    kya bar hai !!!

    ReplyDelete
  9. एक बहुत ही गंभीर और मन को प्रभावित करने वाली ग़ज़ल! इसमें सामाजिक-पारिवारिक स्थितियों से उपजती विडंबनाओं को ढोती ज़िंदगी की बेबसी और असहायता के साथ-साथ मानवीय दुर्बलताओं को भी रेखांकित किया गया है।

    ReplyDelete
  10. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    Bahut Gahari Baat...

    ReplyDelete
  11. वाह!! जनाब लगता है मेरे अन्तरमन को जबान दे दी…………

    तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.

    सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    ReplyDelete
  12. तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.
    ............................
    बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
    हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.

    सारे शेर ही खूबसूरत ही....
    एक मुकम्मल गज़ल....

    ReplyDelete
  13. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    सभी शेर बहुत अच्छे लगे...खूबसूरत गज़ल|

    ReplyDelete
  14. बधाई ||
    खूबसूरत प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  15. दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही...bahut sunder ...

    ReplyDelete
  16. यही है आर्थिक सुधार की सौगात भाई साहब .
    मनमोहन जी ,आहलुवालिया साहब भी पढ़ें और मंद बुद्धि कोंग्रेसी राजकुमार भी जो कलावती की रोटियाँ तोड़ रहें हैं .

    दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

    ReplyDelete
  17. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    वाह कुंवर जी हकीकत से रु-ब-रु कराते बेहद शानदार गज़ल्………हर शेर दाद के काबिल्।

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छे हैं सभी शेर...बहुत खूबसूरत |

    ReplyDelete
  19. बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
    हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.
    बहुत खूब कुसुमेश जी. ग़ज़ल के सभी शे'र सुंदर बन पड़े हैं.

    ReplyDelete
  20. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.
    वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  21. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.
    वाह!

    ReplyDelete
  22. waah! bahut khub... kaee din baad kuch itna umda padha.... FB par sab ke sath saanjha kar rhi hun...

    naye blog par aap saadr aamntrit hai

    गौ वंश रक्षा मंच gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. वाह बहुत ही उम्दा ....आपके शेर पढ़ कर हर बार अच्छा लगता हैं .....आभार

    ReplyDelete
  24. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  25. वाह ....बहुत ही उम्दा

    ReplyDelete
  26. वाह... बहुत सुन्दर प्रस्तुति! बधाई ||

    ReplyDelete
  27. सज्दा खुदा के सामने करना फुजूल है,
    मन में तुम्हारे साफ जो नीयत नहीं रही.

    बहुत गहरी बात है इस शेर में।
    मन में यदि निर्मलता नहीं है तो ईश्वर की आराधना व्यर्थ है।

    संदेश देती हुई बढि़या ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  28. सीधे सादे शब्दों में गंभीर बात कह जाना आप की विशेषता है.

    देखा न एक बार पलट करके भी 'कुँवर'
    गोया ख़ुदा को वाक़ई फुरसत नहीं रही.

    यह शेर तो जहन में उतर गया. सचमें खुदा को भी अब पुर्सत नहीं है.

    बधाई.

    ReplyDelete
  29. Behtareen sir.. kamaal..
    bahut bahut bahut khoob ghazal :):)

    kabhi waq mile to mere blog par bhi aaiyega.. ummed karta hun aapko pasand aayega.. :)
    http://palchhin-aditya.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

    सही कहा है आपने बहुत मुश्किल है गरीब के लिए रोटियां जुटाना...
    हर शेर कुछ कह रहा है... आभार आपका

    ReplyDelete
  31. बहुत गहरे भाव लिए रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  32. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    .....बेहतरीन गज़ल...हरेक शेर गहन और सार्थक भाव संजोये...आभार

    ReplyDelete
  33. गहरे भाव की सुंदर रचना,बेहतरीन प्रस्तुति,वाह,...उम्दा पोस्ट,...
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  34. हर शेर पर दिली दाद कुबूल करें, बेहतरीन गज़ल, वाह !!!!!!!!

    ReplyDelete
  35. gahan soch samajh kee upaj hai ye nayaab gazal .

    ReplyDelete
  36. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.
    बहुत सुंदर हर पंक्ति सार्थक है !

    ReplyDelete
  37. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.
    दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही...
    सटीक पंक्तियाँ! सच्चाई को आपने बखूबी शब्दों में पिरोया है! लाजवाब प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  38. तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.

    कबीर दास का दोहा याद आ गया जो तोके कांटा बुवे ताको बोये तू फूल...बहुत सुंदर गजल, आभार!

    ReplyDelete
  39. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही....

    बहुत खूब कुंवर जी ... गहरी बात आसानी से कह दी इस शेर के माध्यम से ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  40. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.
    एक सच्चा अच्छा शेर...पूरी ग़ज़ल ही बेजोड़ है...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  41. waah...........kushumesh ji lazvab gazal ,gazab ki panktiyan sari.........

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर रचना,सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  43. बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
    हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.
    क्या बात है कुंवर कुसुमेशजी.

    ReplyDelete
  44. तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही...बहुत सुन्दर भावो को बहुत ही खूबसूरती से अभिव्यक्त किया..आभार..

    ReplyDelete
  45. बहुत खूबसूरत गज़ल...

    ReplyDelete
  46. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  47. बेहतरीन अभिव्यक्ति.........
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता, कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर गजल ..बहुत खूब

      Delete
  48. दो वक़्त की नसीब हों बच्चों को रोटियाँ,
    ऐसी किसी ग़रीब की क़िस्मत नहीं रही.

    बेकार हो गया है वफ़ा का वजूद भी,
    हर्फ़े-वफ़ा में अब कोई ताक़त नहीं रही.

    kushmesh ji bilkul sahi likha hai apne .....yatharth sateek rekhankan ke liye hardik badhai.

    ReplyDelete
  49. देखा न एक बार पलट करके भी 'कुँवर'
    गोया ख़ुदा को वाक़ई फुरसत नहीं रही.

    sahi kaha aaj kal aesa hi lagta hai
    sunder gazal
    rachana

    ReplyDelete
  50. सज़्दा ख़ुदा के सामने करना फुज़ूल है,
    मन में तुम्हारे साफ़ जो नीयत नहीं रही.

    बहुत खूब...

    ReplyDelete
  51. तुमने तो बेहिसाब मुझे दी है गालियाँ,
    मैं भी वो गालियाँ दूं ये आदत नहीं रही.

    bahut khoob......

    ReplyDelete
  52. करने के लिए अपने स्वयं के biznys खोलना चाहते हैं?

    जो एक निश्चित मासिक वेतन प्राप्त करना चाहते हैं और कोई पूंजी के साथ, सभी के लिए एक नया अवसर!
    9 / अप्रैल / रात Mvic Anthezw रिकॉर्डिंग समय 2012 का मौका कम करने की संभावना 100% मुक्त है और 100% गारंटी ...
    http://myurl.cz/ternity: पंजीकरण के लिए लिंक


    रजिस्टर में अपने सभी दोस्तों को आमंत्रित करें!
    शुरुआत के लिए, आप अपने ईमेल पते की पुष्टि इससे पहले कि आप अपने खाते का उपयोग कर सकते हैं चाहिए. कृपया, अगर आप 24 घंटे के भीतर आपके इनबॉक्स में एक सत्यापन ईमेल से पुष्टि प्राप्त नहीं है, अपने स्पैम फ़ोल्डर की जाँच करें. यहाँ क्लिक करें: http://myurl.cz/ternity और पुनः पंजीकरण

    ReplyDelete