Saturday, January 14, 2012

ज़हरीली गैसें (दोहे)




कुँवर कुसुमेश 

ज़हरीली गैसें करें,निर्मित हॉउस-ग्रीन.
उदृत होता जा रहा,ये भी तथ्य नवीन.

निकले वाहन धुएं से,सल्फर,लेड,बेंज़ीन.
रोग कैंसर के प्रमुख,कारक हैं ये तीन.

सी ओ टू के स्रोत हैं,बड़े-बड़े उद्योग.
मानव में पैदा करें,स्वांस नली के रोग.

खनिज स्रोत से निकलती,एस ओ टू, मीथेन.
तेजाबी बरसात है,इन दोनों की देन.

उगल रहे काला धुवाँ,पेट्रोलियम पदार्थ.
सब कुछ स्वाहा उक्ति को,करें न ये चरितार्थ.

*****
बेंज़ीन.-C6H6,सी ओ टू -CO2
एस ओ टू-SO2,मीथेन-CH4

52 comments:

  1. बढिया "रसायन शास्त्रीय" कविता है कुंवर जी.

    ReplyDelete
  2. विज्ञान का ज्ञान- कविता के माध्यम से, वाह!!!

    ReplyDelete
  3. पर्यावरण के प्रति जागरूक करती हुई सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  4. पर्यावरण के प्रति जागरूक करते सार्थक दोहे

    ReplyDelete
  5. गैसों में गुन हैं मगर, अवगुन अपरम्पार,
    दोहे देते सीख हैं, स्वीकारें आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Amol sandesh aur jaankaaree,donohee!

      Delete
  6. उगल रहे काला धुवाँ,पेट्रोलियम पदार्थ.
    सब कुछ स्वाहा उक्ति को,करें न ये चरितार्थ.
    वाह पर्यावरण पर सार्थक दोहे .......

    ReplyDelete
  7. सभी दोहों में ज्ञान और विज्ञान का अद्भुत सम्मिश्रण बरबस मन को आकृष्ट करता है । चूंकि दोहे पर्यावरण संरक्षण पर आधारित हैं, इसलिए इसमें अद्भुत ताजगी है ।

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा वैज्ञानिक दोहे ,विशेष तौर पर ये

    उगल रहे काला धुवाँ,पेट्रोलियम पदार्थ.
    सब कुछ स्वाहा उक्ति को,करें न ये चरितार्थ.

    ReplyDelete
  9. bahut sunder jaankari aur sandesh deti rachna...........

    ReplyDelete
  10. बेहद उम्दा और यतार्थ के करीब सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  11. कविता में विज्ञान ..
    अच्‍छी प्रस्‍तुति !!

    ReplyDelete
  12. दोहों में विज्ञान की खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. कविता के माध्यम से विज्ञान की बातें रोचक लगी..सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  14. दोहों के माध्यम से विज्ञानिक जानकारी देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. बड़े ही वैज्ञानिक दोहे हैं...

    ReplyDelete
  16. प्रणाम करता हूं आपके पर्यावरण काव्य प्रेम को

    ReplyDelete
  17. जागरूक रचना ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. खनिज स्रोत से निकलती,एस ओ टू, मीथेन.
    तेजाबी बरसात है,इन दोनों की देन.
    gyanvardhak ....sunder science aur hindi ka mishran ....

    ReplyDelete
  19. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 16-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  20. bahut uttam jaagrati dene vaale dohe.bahut vicharniye.bahut pasand aaye.

    ReplyDelete
  21. phrasing ...
    with scientific approach

    commendable !!

    ReplyDelete
  22. इस रासायिनिक कविता के द्वारा प्रदूषण का विष्लेषण बहुत सुंदर है. आप हर बार कुछ नया प्रयोग करते हैं. बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  23. दोहों में विज्ञान की खूबसूरत प्रस्तुति*. बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  24. विज्ञान और साहित्य का अनूठे संगम के साथ लिखी यथार्थ को बताती हुई अनूठी पोस्ट .बहुत बधाई आपको ./मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है.जरुर पधारें /आभार /

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर दोहे| मकर संक्रांति की शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  26. सी ओ टू के स्रोत हैं,बड़े-बड़े उद्योग.
    मानव में पैदा करें,स्वांस नली के रोग...

    मकर संक्रांति के दिन मौसम से सम्बंधित लाजवाब दोहे ... बहुत बहुत बधाई कुंवर जी ...

    ReplyDelete
  27. वाह बहुत खूब ..मकर संक्राति की हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  28. bahut khoob...agar bachchon ko isi tarh se padhaya jaye to science ke sath unki bhasha bhi viksit hogi....badiya prayas.

    ReplyDelete
  29. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ..आभार ।

    ReplyDelete
  30. रसायन परक दोहों ने जानकारी भी बढ़ाई और आनंद भी दिया,वाह !!!

    ReplyDelete
  31. vaigyanik drishti ke sath ak rochak aur mahtvpoorn prastuti lagi ....abhar kushmesh ji .

    ReplyDelete
  32. रसायनशास्त्रमयी दोहे बहुत ज्ञानवर्धक हैं...

    ReplyDelete
  33. बहुत ही बढ़िया । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  34. ज्ञानवर्धक आनुप्रयासिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  35. :-)
    कॉलेजे के दिन याद करा दिये..
    अनोखे दोहे..मज़ा आया पढ़ कर.
    सादर.

    ReplyDelete
  36. दोहे और गजलों के कुँवर आपकी लेखनी को नमन..

    ReplyDelete
  37. सुन्दर दोहे.. विज्ञान और साहित्य का सुन्दर समन्वय

    ReplyDelete
  38. चेतावनियाँ गंभीर हैं. बहुत सहज तरीके से वैज्ञानिक शब्दों से लदे दोहे कहने का आपका अंदाज़ अलग रंग रखता है.

    ReplyDelete
  39. waah! kya baat hai...aisi kavita pahli baar padhi hai....bdhaai sweekaren...

    ReplyDelete
  40. उगल रहे काला धुवाँ,पेट्रोलियम पदार्थ.
    सब कुछ स्वाहा उक्ति को,करें न ये चरितार्थ.

    बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  41. वैज्ञानिक तथ्यों को बहुत ही सहज और सुन्दर तरीके से चित्रित किया है...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  42. Kushumesh ji.........

    Very nice & meaningful Dohe! Thanks!

    WISH U HAPPY REPUBLIC DAY!

    ReplyDelete
  43. सुन्दर दोहे लगे हैं, श्रीमान कुसुमेश।
    मेरे ब्लॉग पर भी पढ़े, दोहे लिखे दिनेश।।
    कृपया इसे भी पढ़े-
    क्या यही गणतंत्र है

    ReplyDelete
  44. बहुत सुंदर रसायन गाथा ,भावपूर्ण अच्छी रचना,..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  45. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 28/1/2012 को। कृपया पधारें और अपने अनमोल विचार ज़रूर दें।

    ReplyDelete
  46. पर्यावरण के प्रति सचेत करते दोहे |

    ReplyDelete