Tuesday, June 14, 2011


 नीम 

(दोहे)

कुँवर कुसुमेश 

रेशा-रेशा नीम का,आता सबके काम.
टहनी,पत्ती,फूल,फल,मिल जाते बिन दाम.

नीमों पर आते दिखे,गर्मी में फल-फूल.
गर्मी का मौसम अतः,है इनके अनुकूल.

करें नीम की कोपलें,साफ़ निरंतर खून.
दातों की रक्षा करे,बिन पैसे दातून.

आसपास की वायु को,करे प्रदूषण मुक्त.
स्वच्छ वायु के वास्ते,अतः नीम उपयुक्त.

हरे निबौली नीम की,भांति भांति के रोग.
अतः अनेको व्याधि में,हो इसका उपयोग.

बिन पैसे औषधि मिली,ये क़ुदरत का खेल.
दाद,खाज,कृमि की दवा,मित्र ! नीम का तेल.

जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम. 
*****

80 comments:

  1. neem is full of profits. I wonder if there is any part of that tree we can't use :)

    Nice couplets !!!
    Enjoyed it.

    ReplyDelete
  2. आपने नीम की तारीफ़ की और यह हक़ीक़त है।
    आपकी रचना वाक़ई उम्दा है।
    नीम जैसी कड़वी हक़ीक़त यहां भी देखी जा सकती है
    हिंदी ब्लॉगिंग का स्तर गिरा रही है हमारी वाणी ,

    ReplyDelete
  3. नीम का पेड़ औषधियों का भण्डार है.
    बहुत सही बात कही आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  4. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.

    बिल्कुल सच है....
    बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  5. 'आँगन तुलसी,द्वारे नीम ;फिर क्यों आये वैद्य-हकीम'को सार्थक करते अनुकरणीय दोहे नितांत जनोपयोगी हैं.
    बाराबंकी में आपके एवं रवीन्द्र जी के सम्मान प्राप्ति हेतु हार्दिक मुबारकवाद.

    ReplyDelete
  6. neem ke bahut se gun aapne bata diye kavita ke madhyam se

    ReplyDelete
  7. नीम पर केंद्रित दोहे....पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ने वाला...बहुत खूब...

    -----देवेंद्र गौतम

    ReplyDelete
  8. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    BAHUT ACHCHHA

    ReplyDelete
  9. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    Sach hee kaha aapne!

    ReplyDelete
  10. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    नीम तो सुबह से हाथ में आ जाता है अच्छे दोहे ,बधाई

    ReplyDelete
  11. नीम तो हर रूप में औषधि का भंडार है , चाहे उसकी शाखा , पत्ती या जड़ हो . कविता के रूप में इसके औषधीय गुण को बताने के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर और शिक्षाप्रद है सभी दोहे!

    ReplyDelete
  13. आसपास की वायु को,करे प्रदूषण मुक्त.
    स्वच्छ वायु के वास्ते,अतः नीम उपयुक्त.
    नीम पर इतने दोहे,इतने अच्छे दोहे,अब भला कडुवाहट किसे याद रहेगी.

    ReplyDelete
  14. sabhi panktiya achhi lagi .........

    ReplyDelete
  15. नीम का पेड़ वाकई में बहुत ही आरोग्यवर्धक होता है ! आपकी रचना के हर बंद में उसके गुणों का बड़ी कुशलता के साथ बखान किया गया है ! सबके पढ़ने योग्य बहुत ही ज्ञानवर्धक एक बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  16. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.

    बिलकुल सही कहा आपने! उम्दा दोहे.....

    ReplyDelete
  17. नीम की इतनी सारी विशेषताएँ बता दीं आपने दोहों के माध्यम से ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. वाह, नीम के बारे में बहुत शानदार तरीके से बताया आपने,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. प्राकृतिक चिकित्सा को पढ़ाने का इससे बेहतर और क्या तरीका हो सकता है. सरल दोहे और माँ के अनुभूत प्रयोग.

    ReplyDelete
  20. अत्यंत प्रभावित--
    नीम के बारे में बहुत शानदार तरीके से
    बताया इतनी सारी विशेषताएँ ||

    http://neemnimbouri.blogspot.com/

    नीम-निम्बौरी
    अर्पित पर-हित नश्वर देह, कैसे भला छुपाये पीर |
    होय खोखली अन्दर से या बाहर को बह जाये नीर ||

    ReplyDelete
  21. आसपास की वायु को,करे प्रदूषण मुक्त.
    स्वच्छ वायु के वास्ते,अतः नीम उपयुक्त.
    हरे निबौली नीम की,भांति भांति के रोग.
    अतः अनेको व्याधि में,हो इसका उपयोग...
    बहुत बढ़िया और सटीक पंक्तियाँ! नीम बहुत ही उपयोगी है और उसकी विशेषता को आपने बड़े ही सुन्दरता से वर्णन किया है! शानदार प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  22. आसपास की वायु को,करे प्रदूषण मुक्त.
    स्वच्छ वायु के वास्ते,अतः नीम उपयुक्त.
    हरे निबौली नीम की,भांति भांति के रोग.
    अतः अनेको व्याधि में,हो इसका उपयोग...

    बहुत बढ़िया ....नीम के वृक्ष के सभी गुण समेट लिए रचना में......

    ReplyDelete
  23. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    वाह ! क्या कहने आपके दोहे के !
    नीम की उपयोगिता पर बेहतरीन दोहे मन को मुग्ध कर गए !
    आभार! कुसुमेश जी !

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर रचना और उसके माध्यम से बहुत अछ्छी जानकारी दी है आपने.

    ReplyDelete
  25. आसपास की वायु को,करे प्रदूषण मुक्त.
    स्वच्छ वायु के वास्ते,अतः नीम उपयुक्त.


    bahut hi badia ...

    ReplyDelete
  26. कमाल की रचनाएँ होती हैं आपकी कुंवर जी प्रेरक भी और ज्ञानवर्धक भी...इन रचनाओं के माध्यम से बहुत उपयोगी काम कर रहे हैं आप...आप की रचना को हमने कोलोनी के सभी नीम के पेड़ों पर चिपकाने का कार्यक्रम बनाया है हमने ताकि बच्चे युवा बूढ़े इसे पढ़ कर ज्ञान प्राप्त कर सकें...बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    ReplyDelete
  27. बढिया स्वास्थ्यवर्धक कविता :)

    ReplyDelete
  28. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम,
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम।

    नीम का महत्व दर्शाते सुंदर दोहे।
    आजकल ऐसे नीम-हकीम हो गए हैं जो नीम को हकीम नहीं मानते।
    प्रकृति के सान्निध्य में जीवन जीने की प्रेरणा दे रहे हैं ये दोहे।

    ReplyDelete
  29. बहुत उपयोगी जानकारी देती सुन्दर प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete
  30. बहुत खूबसूरत गज़ल,

    ReplyDelete
  31. neem main wakai chupi hui kai aushdiyan hain bahut hi achchi gajal likhi aapne aek naye vishay ke saath badhaai aapko.aabhaar.



    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete
  32. वाह ... बहुत खूब कहा है नीम की खूबियों के साथ बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  33. जिसके घर के सामने खडा हुआ है नीम ,
    उसके घर मौजूद है सबसे बड़ा हकीम ।
    गुण- कारी नीम का गुणगान करिए ,राम प्रभु की भद्रता का ध्यान धरिये ।
    वाह क्या बात है ,दोहे का पेटेंट करिए ,

    ReplyDelete
  34. वाह बहुत सुन्दर गज़ल नीम के औषधिय गुणो से लबरेज़ गज़ल पढवाने के लिये आभार्।

    ReplyDelete
  35. कुंवर साहब ,वास्तव में व्यक्ति विभिन्न आयामों को समेटे हुए होता है
    दीदार यों होता जाता है ,जैसे की आयुर्वेद की मूल्यवान प्रतिभूति का सरलता से परिचय करा देना . इस विशिष्टता का सादर साधुवाद .

    ReplyDelete
  36. bahut achha, koshish karen hum bhi ek hakeem ghar me hi ugaa len!!!

    ReplyDelete
  37. आपकी पोस्ट पढ कर तो नीम भी मीठी लगने लगी है। बेहतरीन, लाजवाब।

    ReplyDelete
  38. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम...

    नीम की उपयोगिता और उसकी विशेषता का आपने बड़ी ही सुन्दरता से वर्णन किया है! सुन्दर ज्ञानवर्धक, स्वास्थ्यवर्धक प्रस्तुती........

    ReplyDelete
  39. वाह क्या बात है
    नीम की खूबियों के साथ
    बहुत उपयोगी जानकारी देती सुन्दर प्रस्तुति.....आभार

    ReplyDelete
  40. नीम के गुणो को बड़ी ही सुन्दरता से वर्णन किया है!
    ..........आपका आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  41. नीम पर केंद्रित दोहे....स्वास्थ्यवर्धक भी प्रेरक भी और ज्ञानवर्धक भी...आभार !

    ReplyDelete
  42. हरे, निबौली नीम की,भांति भांति के रोग |
    अतः अनेको व्याधि में,हो इसका उपयोग || bemisaal kamaal kiya hai aapne. shukriya

    ReplyDelete
  43. बहुत खूब कहा है नीम की खूबियों के साथ बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  44. नीम के गुण धर्म बखूबी बयां किये हैं..बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  45. अच्छे और महत्त्वपूर्ण दोहे

    ReplyDelete
  46. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    .
    आयुर्वेद का ज्ञान भी अच्छा है और कवि तो आप बेहतरीन हैं ही.

    ReplyDelete
  47. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.

    bahut badhia prastuti .

    ReplyDelete
  48. ज्यों सबसे बड़ा है नीम हकीम
    त्यों आपकी लेखनी है बेहतरीन....

    आभार ...आभार ..आभार.....

    ReplyDelete
  49. आपके पर्यावरण प्रकृति प्रेम को नमन!! कुशुमेश जी!!
    आपकी यह नीम स्तुति वृक्षों के मानव उपयोगी अवदान स्वरूप है।
    इसी प्रकार ही हमारी संस्कृति नें औषधीय गुणों से युक्त वृक्षों की सदैव ही पूजा स्तुति की है।
    क्या ही योगानुयोग है कि दो दिन से बुखार था और आपकी यह औषधीय गुण युक्त पोस्ट!!

    ReplyDelete
  50. नीम का पेड सचमुच ही बडा गुणकारी है पर प्रकृति से दूर होकर हम इन प्राकुतिक चीजों के महत्व को नही समक्ष सकते ।

    ReplyDelete
  51. tarif ke liye shabda nahi hai ...shreshtha rachana

    ReplyDelete
  52. प्रकृति और पर्यावरण पर जिस तरह आप कविता कर रहे हैं हिंदी साहित्य में वैसा दूसरा कोई नहीं कर रहा.. बड़ी बात यह है कि कविता के तौर पर भी यह पूरी तरह मुक्कमल होती हैं... प्राचीन विधा, नवीन विषय.. सुन्दर समन्वय... हमारा मंत्रालय नीम परियोजना पर काम कर रहा है.. उनके लिए यह कविता एक प्रेरणा का काम करेगी.. उन्ही यह कविता भिजवा दी है...

    ReplyDelete
  53. bilkul sahi baat hai. sadiyon se ye chali aa rahi hai.

    ReplyDelete
  54. बहुत बढ़िया|

    ReplyDelete
  55. भाई कुंवर कुशमेश जी नमस्ते |बहुत ही उपयोगी वृक्ष पर आपके दोहे लिखे गये हैं बधाई |जर्मनी के एक वैज्ञानिक ने कहा था कि नीम से सिर्फ़ इतना नुकसान है कि कोई पेड़ पर चढ़कर गिरे और उसकी टांग टूट जाये बाकी सब फायदे ही फायदे हैं |

    ReplyDelete
  56. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम. It is nothing but easiest GOD gift.

    ReplyDelete
  57. सुंदर दोहे, सम सामयिक विषय पर| बधाई स्वीकार करें|

    ReplyDelete
  58. वाह क्या बात है रचना के द्वारा नीम के इतने सारे फायदे जानने को मिले हमारे घर के सामने तो बहुत सारे नीम के पेड़ हैं दोस्त , बहुत सुन्दर रचना और इतने सारे फायदों के लिए बहुत बहुत शुक्रिया |
    देर से आने की माफ़ी |

    ReplyDelete
  59. Sir ji ....behad saarthak dohe likhe hain.
    Har dohe ke liye daad kabool kijiye.

    ReplyDelete
  60. .

    जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम। ...

    नीम तो औषधीय गुणों की खान है । कविता के माध्यम से अच्छा बताया है।

    .

    ReplyDelete
  61. Dear Kushumesh ji.....

    You are right. But my point is that in the modern time , it's not very usual to use NEEM daatun. Isn't it?

    ReplyDelete
  62. सर जी ,आपने तो एक तीर से दो निशाने लगा दिए-नीम की महिमा तो बताई ही साथ ही पर्यावरण के लिए पेड़ के महत्व को भी उजागर कर दिया.अत्यंत प्रेरणादायी गजल.

    ReplyDelete
  63. वाह कुसुमेश जी ,
    अपने सुन्दर दोहों के माध्यम से नीम के औषधीय गुणों को बहुत सुन्दर और सहज ढंग से बताया आपने |
    ये हुआ न 'आम के आम गुठलियों के दाम '
    .................बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  64. जिस तरह से आपने नीम जैसे मेडिसिनल प्लाण्ट के गुणों को काव्यात्मक अभिव्यक्ति दी है, इस तरह की आपकी रचनाओं को स्कूल के पाठ्यपुस्तकों में स्थान मिलना चाहिए ताकि विद्यार्थी एक सहज सरल गेय भाषा में सीख सकें।

    ReplyDelete
  65. hamesha ki tarah bahut sundar aur laabhkaari...

    ReplyDelete
  66. अच्छी लगी रचना ....... वैसे ये ’नीम’मुझे एक वॄक्ष कम मानवीय प्रकॄति अधिक लगी ...... जिसके वचन हमें कड़वे लगते हैं वही सबसे बड़े हितैषी होते हैं :)
    सादर !

    ReplyDelete
  67. नीम के पौधे को लेकर
    बहुत ही खूबसूरत दोहे कहे हैं
    हर बात
    किसी न किसी रूप में
    किसी न किसी के ज़रूर काम आएगी
    आभार .

    ReplyDelete
  68. कुसुमेश जी सबसे पहले तो क्षमा प्रार्थी हूँ देर से आपके ब्लॉग पर आने के लिए आपकी कवितायेँ हमेशा ही बहुत प्रेरणादाई और मधुर होती हैं.ये भी उनमे से एक है प्रकृति का बेहद सुन्दर उपहार है नीम ऊपर से अपने तो चार चाँद और लगा दिए हैं मैं आपको अपनी एक पुरानी नीम पर लिखी कविता पढवा रही हूँ
    सादर


    "आसरा

    दूर से निहारती हूँ तुम्हें.
    सुना है,
    गुणों का अकूत भंडार हो तुम.
    वैसे, हूँ तो मैं भी.
    तुम में भी एक दोष है,
    और मुझ में भी.
    तुम्हारा असह्य कड़वापन,
    जो शायद तुम्हारे लिए राम बाण हो
    और मेरा, दुर्बल शरीर.
    मुझे चाहिए,
    एक सहारा सिर्फ रोशनी पाने के लिए.
    सोचती हूँ फिर क्यों न तुम्हारा ही लूँ.
    अवगुण कम न कर सकूँ तो क्या,
    गुण बढ़ा तो लूँ.
    आओ हम दोनों मिलकर
    कुछ नया करें.
    किसी असाध्य रोग की दवा बनें.
    दूर से निहारती हूँ तुम्हें,
    जानती हूँ, मैं अच्छी हूँ,
    पर बहुत अच्छी बनना चाहती हूँ.
    कहते हैं,
    नीम पर चढ़ी हुई गुर्च बहुत अच्छी होती है.
    बोलो! क्या दोगे मुझे आसरा,
    अपने चौड़े विशाल छतनार वक्षस्थल पर? "

    ReplyDelete
  69. नीम पर आपके दोहे पढ़कर घाघ कवि की कहावतें याद आ गईं। व्‍यावहारिक ज्ञान देने वाले अच्‍छे दोहे।

    ReplyDelete
  70. नीम हकीम खतरनाक हो सकता है , मगर नीम तो खुद हकीम ही है ...
    सुन्दर दोहे !

    ReplyDelete
  71. जिसके घर के सामने,खड़ा हुआ है नीम.
    उसके घर मौजूद है,सबसे बड़ा हकीम.
    नीम है ही ऐसा गुणी । बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  72. बहुत सुन्दर रचना,
    बहुत अछ्छी जानकारी

    ReplyDelete
  73. बड़े दिन बाद आपका आशीर्वाद लेने आ पाया ...
    यहाँ तो बहुत अच्छा नज़ारा है दादा !
    नीम से हम लोगों के यहाँ ८०% बीमारियों का इलाज़ हो जाता था घर में मगर अब क्या कहूं ना वो घर है ना वो नीम !

    ReplyDelete
  74. bahut hi sunder ankari di aapne neem ki ...........

    ReplyDelete