Thursday, November 25, 2010

पेड़ों पे भरोसा रख

कुँवर कुसुमेश

ख़ुद पर न सही लेकिन पेड़ों पे भरोसा रख,
नायाब ज़मीं पर ये अल्लाह का तोहफा रख.

माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.

ओज़ोन की छतरी का लिल्लाह दरक जाना,
कहता है नहीं माना तो झेल ये ख़तरा रख..

क्या खाक बनाया है इन्सां को मेरे मौला ,
थोड़ी तो समझ सर के अन्दर मेरे मौला रख.

मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई ,
दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख.

मालिक से ' कुँवर ' कोई भी बात नहीं छुपती,
इन्सान से रखना है तो शान से पर्दा रख.


42 comments:

  1. कुंवर साहब आपने एक बेहतरीन मुद्दे पे अपने कलाम पेश किये, आप का बहुत बहुत शुक्रिया . आप के कलाम की क्या तारीफ करूं,अल्फाजों की कमी हो जाती हैं. आपके यह अलफ़ाज़ दिल को छु गए.

    माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.

    क्या बात कहीं कुंवर साहब दिल खुश हो गया

    मालिक से ' कुँवर ' कोई भी बात नहीं छुपती,
    इन्सान से रखना है तो शान से पर्दा रख

    ReplyDelete
  2. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख

    वाह बहुत खूबसूरत गज़ल कही है ....सीख देती हुई ..

    ReplyDelete
  3. मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई ,
    दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख.
    आप की इस ग़ज़ल में विचार, अभिव्यक्ति शैली-शिल्प और संप्रेषण के अनेक नूतन क्षितिज उद्घाटित हो रहे हैं। हमारी जीवन से जुड़ी समस्यायों पर विचार केन्द्रीत कर लिखी गई अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  4. आम आदमी की चिंता का एक खूबसूरत चित्रण .....बहुत बढिया

    माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.

    .... लाजवाब पन्तियाँ

    ReplyDelete
  5. बहुत जरूरी विषय पर लिखा है आपने बधाई
    किसी एक शेर की तारीफ कैसे करू जबकि
    एक एक शब्द बेहतरीन है

    ReplyDelete
  6. आदरणीय कुंवर जी
    नमस्कार !
    सोचा की बेहतरीन पंक्तियाँ चुन के तारीफ करून ... मगर पूरी नज़्म ही शानदार है ...आपने लफ्ज़ दिए है अपने एहसास को ... दिल छु लेने वाली रचना ...

    बहुत अच्छी लिखी है ग़ज़ल .... शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  7. शब्दों में छुपे आज के ज्वलंत मुद्दे का गहन चिंतन दीख रहा है.
    being an environmental engineer, i could feel the dire need of awareness towards our environment.

    ReplyDelete
  8. क्या खाक बनाया है इन्सां को मेरे मौला ,
    थोड़ी तो समझ सर के अन्दर मेरे मौला रख.

    मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई ,
    दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख.
    महत्वपूर्ण मुद्दे को इस शायरी के माध्यम से खूबसूरती से उठाया है। बधाई।

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन रचना ! इंसान को थोडा अकल भी दिया होता जो इतना रूप रंग दिए ... सच है ...

    ReplyDelete
  10. बिल्कुल अलग अन्दाज़ की बेजोड रचना दिल को छू गयी हर शेर बेहतरीन्।

    ReplyDelete
  11. कुसुमेश जी ,
    वैसे तो हर शेर लाजवाब है मगर जिसने मेरे दिल को बड़ी गहराई से छुआ ,वो है -

    माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    बहुत खूब !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  12. ... behatreen gajal ... badhaai !!!

    ReplyDelete
  13. मालिक से ' कुँवर ' कोई भी बात नहीं छुपती,
    इन्सान से रखना है तो शान से पर्दा रख.

    क्या बात कही है ... बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल है ... सच है ऊपर वाले से कोई क्या पर्दा रख सकता है ...
    बहुत मासूमियत से अपने बात को रक्खा है ....

    ReplyDelete
  14. kya kahu aapke andaz-e-bayan ke baare me
    hote to sile hai magar shabd bol rahe hai.

    ReplyDelete
  15. मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई ,
    दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख.

    गहन चिंतन और अनूठे भावों से सजी, दिेल को गहराई से छूने वाली, गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  16. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    bhagwaan ki kripa to saath hogi

    ReplyDelete
  17. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    हमारी जिम्मेदारियों के प्रति सचेत कराती सुन्दर कविता.
    प्रत्येक पंक्ति सारगर्भित,
    आपका हार्दिक धन्यवाद.

    ReplyDelete
  18. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ बहुत अच्छा लगा हर शेर लाजवाब

    ReplyDelete
  19. जड़ पादपो के प्रति आस्था को दर्शाता भाव...
    ये तो किसी और कि भली कि भी बात नहीं है...ये तो अपने जीवन कि रक्षा के लिए जरूरी है...वृक्षारोपण .....
    किसी ने कहा है:
    "हरे सजर नहीं तो घास रहने दे, जमीं के जिस्म पर कोई लिबास रहने दे.."
    बहुत सुन्दर बात.
    http://www.swarnakshar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. .

    मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई ,
    दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख.

    प्रेरणादायी ग़ज़ल

    .

    ReplyDelete
  21. कुँवर जी की बातों का मकसद समझ
    या तो इसे रख ले या फिर बस रख
    पहली बार आई हूँ और इन्तेहाई ख़ुशी हुई है आपको पढ़ कर..
    आपका शुक्रिया...

    ReplyDelete
  22. "mana ki gareebi me mushkil hai bagvani
    gamle me magar chhota tulsi ka hi paudha rakh"
    bahut umda sher..
    sunder gazal...

    ReplyDelete
  23. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.

    बहुत प्रेरणादायी ग़ज़ल कुंवर जी .. धन्यवाद आपका

    ReplyDelete
  24. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल !!!

    ReplyDelete
  25. bahut hi shandar rachana rachi h aapne kusumesh ji...bahut bahut bhadhai..

    ReplyDelete
  26. पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रेरित करती सुंदर रचना . बधाई .

    ReplyDelete
  27. क्या खाक बनाया है इन्सां को मेरे मौला ,
    थोड़ी तो समझ सर के अन्दर मेरे मौला रख.
    बहुत प्रेरणादायक काश हम समझ पाते प्रकृति को ...बहुत खूब
    चलते- चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  28. बढ़िया सन्देश दिया आपने काश लोग समझ सकें !

    ReplyDelete
  29. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    वाह!

    ReplyDelete
  30. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.
    ... KUWAR SAHEB GAMLE ME TULSI KA PAUDHA RAKHNA.. KYA KHOOBSURAT EHSAAS HAI.. SUNDAR GAZAL..

    ReplyDelete
  31. wah wah kya kahane...ati sumdar

    ReplyDelete
  32. मत काटना पेड़ों को खुशियों के तमन्नाई
    दुनिया के लिए कुछ तो खुशियों की तमन्ना रख

    सार्थक संदेश देती सुंदर ग़ज़ल।
    इस उत्तम ग़ज़ल के लिए बधाई, कुसुमेश जी।

    ReplyDelete
  33. वाह सर जी वाह... क्या खूब लिखा है... काश ऐसे पोस्ट वो गधे लोग पढ़ते जो हमारी धरती को विनाश की ओर धकलते हुए ले जा रहे हैं...

    ReplyDelete
  34. माना कि ग़रीबी में मुश्किल है बाग़बानी,
    गमले में मगर छोटा तुलसी का ही पौधा रख.

    समसामयिक विषय पर बहुत उत्कृष्ट गज़ल..आभार

    ReplyDelete
  35. ख़ुद पर न सही लेकिन पेड़ों पे भरोसा रख,
    नायाब ज़मीं पर ये अल्लाह का तोहफा रख.

    Bahut khoob....sher ek saarthak apeel ban pada hai....

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना! दिल को छू गयी हर एक पंक्तियाँ! बधाई!

    ReplyDelete
  37. सही है सर किसी बात को आदमी से छुपाया जासकता है किन्तु मालिक से नहीं वह तो अन्तर्यामी है । इन्सान में थेाडी समझ ही रखदी होती तो क्या बात थी ।जमीन पर पेडों का तोहफा नहीं रखने का ही कुफल ओजोन । तुलसी का गमला रख इसमें कोई ज्यादा खर्च नहीं होने वाला हो सके तो शाम को दीपक भी

    ReplyDelete
  38. jitnee bhee tareef kare kum hee hogee.........
    lajawab......nazm
    aabhar

    ReplyDelete
  39. पहली बार आपके ब्लॉग से परिचय हुआ, दिल सुकून से भर गया, आपकी रचनाएँ कितनी साफगोई से कोई न कोई मशवरा दे जाती हैं पर पता भी नहीं चलने देतीं, बहुत अच्छी लगी ये पेड़ों पर भरोसा करने वाली बात, पेडों का वजूद इंसान से पुराना है, वे हैं तो हम हैं !

    ReplyDelete
  40. इन्सान से रखना है तो.........................nice

    ReplyDelete
  41. विषय और विधा का अनूठा संगम.

    ReplyDelete