Thursday, March 10, 2011


अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ 


कुँवर कुसुमेश

क़ाबिले-ग़ौर है हर बात शगूफ़ा न समझ,
दौरे-हाज़िर को मेरे यार तमाशा न समझ.

जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.

आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.

ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.

हमसफ़र और भी हैं साथ निभाने वाले,
तू 'कुँवर'ख़ुद को लड़ाई में अकेला न समझ.

******
क़ाबिले-ग़ौर =ध्यान देने लायक, दौरे-हाज़िर=वर्तमान समय 

78 comments:

  1. ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ....
    बहुत बढ़िया ....पश्चिमी जादू का असर धीरे धीरे हम पे बढाता जा रहा है ....

    ReplyDelete
  2. ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.

    बहुत बढ़िया सर!

    ReplyDelete
  3. बिलकुल सही बात कह दी है आपने ................... अपने आसपास ही बच्चों की हरकतें देखकर दंग रह जाता हूँ कि क्या वास्तव में यह बच्चे ही है !!!!! ..................... आखिर दोष किसका है ??? शायद हमारा खुद का. क्या घंटा आध घंटा बैठकर अपने संस्कारों कि शिक्षा देतें है हम कभी ???? जो सीखता है टीवी से ही सीखता है तो फिर बच्चे का क्या दोष .....................

    ReplyDelete
  4. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.
    ab jo daur hai her taraf
    khud ko bhi shak ki nigaahon se dekh

    ReplyDelete
  5. आद. कुसुमेश जी,
    हर शेर दौरे हाज़िर की मुक्कमल तस्वीर है !
    इस शेर की बारीकियां तो दिल को छू गयीं !
    आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.

    एक बार फिर इस बात को दोहराना चाहूँगा ,आप जो भी लिखते है बहुत अच्छा लिखते हैं !शब्दों को मोती बनाने की कला आपको बखूबी आती है !
    ढेर सारे दाद के साथ मेरी शुभकामनाएँ भी स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  6. "आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ."
    ... बदलते समय पर एक ससक्त टिप्पणी कर रही है आपकी ग़ज़ल.. बेहतरीन हर बार की तरह !

    ReplyDelete
  7. आज के समय की नब्ज़ पकड़ी है इस ग़ज़ल के माध्यम से... बेहतरीन ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  8. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी देने के लिए! दरअसल मैं ज़रूरी काम में व्यस्त थी इसलिए पिछले कुछ महीनों से ब्लॉग पर नियमित रूप से नहीं आ सकी! आपने बहुत सुन्दर पंक्तियाँ लिख कर दिया है जो मुझे बेहद पसंद आया!
    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  9. हमारा भी यही कहना है………

    हमसफ़र और भी हैं साथ निभाने वाले,
    तू 'कुँवर'ख़ुद को लड़ाई में अकेला न समझ.

    ReplyDelete
  10. ..आप की सोंच और जुगाड़ का जबाब नहीं ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  11. हमेशा की तरह बहुत ही अच्छी ग़ज़ल है बाऊजी...

    ReplyDelete
  12. अमित भाई से सहमत हूं …

    बच्चा जो सीखता है टीवी से ही सीखता है तो फिर बच्चे का क्या दोष .....................
    लेकिन आप-हम जैसों के यहां संस्कार कायम हैं !

    बहरहाल अच्छी ग़ज़ल कही आपने

    स्वर्णकार हूं , तो यह शे'र ख़ास पसंद आना ही था … :)

    ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ


    बहुत ख़ूब !

    बधाई !

    ReplyDelete
  13. कुसमेश सर,नमस्कार.आपने तो क्लीन-बोल्ड कर दिया.
    जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.
    आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.
    जानता तो पहले था ऐसा होता है.
    आपकी गजल पढ़ी तो लगा ऐसा ही होता है.
    कहने को शब्द नहीं हैं,सर.

    ReplyDelete
  14. आज इन्सान के चहरे पे कई चहरे है,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ
    वाकई बहुत बढ़िया गजल !

    ReplyDelete
  15. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.


    ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ

    मौजूदा परिवेश की हकीकत बयां करती पंक्तियाँ रची हैं ..... बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन ग़ज़ल है ... हर शेर लाजवाब है ... किसे छोड़ किसका तारीफ़ करूं ...
    जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    ReplyDelete
  17. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.
    ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.

    आपकी हर गज़ल , हर शेर निशब्द कर देता है इस तरह आईना दिखाते हैं…………शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  18. माफ़ कीजियेगा अति व्यस्तता के चलते बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर आई हूँ .बहुत अच्छी ग़ज़ल ..आज के हालात का बहुत सही चित्रण ..आपकी बाकि सभी रचना भी मौका मिलते ही पढ़ लूगी .
    शुभकामनाये
    मंजुला

    ReplyDelete
  19. कुसुमेश जी ,

    बहुत अच्छी ग़ज़ल , हर शेर खुद अपने आप को बयां कर रहा है |

    ReplyDelete
  20. ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.


    बहुत सुंदर शेर हैं -
    बधाई

    ReplyDelete
  21. ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.
    ekdam sachchayee ko kholkar bari sundarta ke saath rakh di aapne. wah.

    ReplyDelete
  22. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.
    हर पंक्ति लाजवाब ...बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  23. माता पिता को सचेत करती बढ़िया रचना ।

    ReplyDelete
  24. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,

    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    सुभान अल्लाह...वाह...क्या ग़ज़ल कही है आपने...वाह....हर शेर आज के बदलते हालात और गिरते उसूलों की नुमाइंदगी कर रहा है...इस बेहतरीन ग़ज़ल के लिए दिली दाद कबूल करें...

    नीरज

    ReplyDelete
  25. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    वाह..बहुत अच्छी ग़ज़ल ..आज के हालात का बिलकुल सही चित्रण... हर शेर अपने आप में बेमिसाल...

    ReplyDelete
  26. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    सदैव की तरह एक लाजवाब गज़ल..हरेक शेर बहुत सार्थक और सटीक सोच लिये..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  27. आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.
    आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ......

    बहुत सही चित्रण...हर शेर लाजवाब है ....
    बहुत-बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  28. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.

    गज़ल में कितनी सही बात कह दी है ...सुन्दर गज़ल

    ReplyDelete
  29. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.
    बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल....हर शेर पर वाह-वाह निकले...
    आज के हालात पर एकदम सटीक...
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  30. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.
    क्या बात है सर आधुनिकता को पूरा - पूरा
    सामने रख दिया आप ने अगर अब समझ में ना आये तो फिर ........

    ReplyDelete
  31. कुसुमेश जी,
    नमस्कार

    जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ।

    वाह, हक़ीकत को आईना दिखाया है आपने।
    बदलते वक़्त की तस्वीर की रेखाएं और रंग हर शेर में झलक रहे हैं।

    इस बेहतरीन ग़ज़ल के लिए बधाई स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  32. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ
    ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ

    dono sher
    is naayaab gzl ki shaan haiN
    bahut steek alfaaz mei
    napi-tuli baateiN kehte hue
    bahut shaandaar gazal kahi hai aapne
    mubarambaad qubool farmaaeiN .

    ReplyDelete
  33. पश्चिम का रंग तो चढ़ना ही था हमने उनकी विकास नीति का आयात जो किया .

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब ग़ज़ल.
    हर शेर खरा सोना है.
    सलाम.

    ReplyDelete
  35. • बहुत खूब! इस ग़ज़ल के द्वारा आपने आसन्‍न संकटों की भयावहता से हमें परिचित कराया है आपकी वैचारिक की मौलिकता नई दिशा में सोचने को विवश करती है ।

    ReplyDelete
  36. बिलकुल कुंवर साहब....
    हर एक पंक्ति सौ ताका सही है.....
    किसे क्या समझें और किसे क्या नहीं...सोचना पड़ता है...

    ReplyDelete
  37. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ
    .
    बेहतरीन अंदाज़ और अलफ़ाज़

    ReplyDelete
  38. आपके शेर यथार्थ के धरातल पर होते हैं...
    और यही आपकी खासियत है...
    बहुत अच्छा लिखते हैं आप...
    शुक्रिया..

    ReplyDelete
  39. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.

    क्या बात कही.......सच एकदम सच....
    सभी शेर एक से बढ़कर एक.....
    आभार इस सुन्दर ग़ज़ल के लिए....

    ReplyDelete
  40. सही है ....शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  41. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.
    बहुत सुंदर गजल जी, ओर सहमत हे जी आप की बातो से भी

    ReplyDelete
  42. जो लपक कर गले मिलता है , ज़रूरी नहीं वो आदमी भी अच्छा हो ..
    मारक सच्चाई है !
    शानदार !

    ReplyDelete
  43. क़ाबिले-ग़ौर है हर बात शगूफ़ा न समझ,
    दौरे-हाज़िर को मेरे यार तमाशा न समझ.

    khoobsoorat matle aur umdaa maqte ke sath zindagi ki sachchaaiyan bayan karti aur khud ko padhwati huee ghazal ,
    bahut khoob !

    ReplyDelete
  44. हमसफ़र और भी हैं साथ निभाने वाले,
    तू 'कुँवर'ख़ुद को लड़ाई में अकेला न समझ.

    हर शेर सच्चाई की झलक दिखाता हुआ । बेहतरीन...

    उन्नति के मार्ग में बाधक महारोग - क्या कहेंगे लोग ?

    ReplyDelete
  45. समाज को सावधान करते सार्थक सन्देश के साथ हकीकत का बयान है यह रचना .

    ReplyDelete
  46. आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.


    आदरणीय Kunwar Kusumesh जी
    सादर प्रणाम
    इस गजल को बार- बार पढ़ा हर बार नया अर्थ सामने आया , क्या कहूँ अब इसके बारे में ....बस पढता रहूँगा बार - बार ....

    ReplyDelete
  47. क़ाबिले-ग़ौर है हर बात शगूफ़ा न समझ,
    दौरे-हाज़िर को मेरे यार तमाशा न समझ.
    --
    इस मखमली ग़जल का तो जवाब नहीं है!
    मतला तो बहुत ही खूबसूरत है!

    ReplyDelete
  48. ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ.

    सभी शेर एक से बढ़कर एक.....
    वाह! क्या खूबसूरत गजल कही है आपने !. ..........
    एक अच्छी ग़ज़ल प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  49. बिलकुल सही बात कही आपने ...

    ये कहावत है पुरानी-सी मगर सच्ची है,
    तू चमकती हुई हर चीज़ को सोना न समझ ...
    जिससे सारी बात ही सार्थक हो गई |
    अब मैं खुद से ये कहूँगी ...अब तो तू सिर्फ अपने बच्चों की तरफ देख |
    बहुत खुबसुरत रचना |

    ReplyDelete
  50. kya baat hai kunwar ji maza aa gaya. bahut hi acchi gazal hai.

    ReplyDelete
  51. सुंदर गज़ल है भाई कुशमेश जी बधाई |

    ReplyDelete
  52. सुन्दर कविता ! जिसे भी देखना दस बीस बार देखना, क्योंकि हर एक आदमी में होते हैं दस बीस आदमी !

    ReplyDelete
  53. बहुत ही प्यारी और खूबसूरत गजल है । आपने नये दौर को अच्छी तरह से समझाया है । अब बच्चोँ पर नया दौर काफी फर्क पैदा कर रहा है । अब बच्चे बहुत जल्दी बड़े हो जाते हैँ । आभार बावू जी ।

    ReplyDelete
  54. आज इन्सान के चेहरे पे कई चेहरे हैं,
    मुस्कुराहट को मुहब्बत का इशारा न समझ.
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  55. सरल शब्दों में बड़ी गंभीर बात षसही कहा हर चीज़ को सोना ना समझ
    क्या पता चलता है बाहर से पूरा साबूत दिखने वाले संतरें में अंदर फाड़ियां होती हैं और खरबूजा जो कि बाहर से फांक फांक दिखता है अंदर से साबुत होता है ।सच है जो दिखता है वो होता नहीं

    ReplyDelete
  56. thanks for writng on such a topic.
    it gives a great message to us.

    ReplyDelete
  57. अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ. क्या बात कही है है शायद बच्चों का बचपन भी अब आने से पहले ही चला जाता है. यथार्थ के धरातल पर बहुत ही प्यारी और खूबसूरत गजल. आभार इस हकीकत बयानी के लिए.

    ReplyDelete
  58. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.
    bilkul sahi ,bachche bade ho gaye hai ,gazal ki har baat sachchi hai .

    ReplyDelete
  59. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ badi gahari bat kahi hai aapne kaiyon ki to jindagi beet jati hai ye samjhte samajhte....

    ReplyDelete
  60. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ...

    वाह ... क्या शेर मारे हैं जनाब ... हर शेर पर वाह वाह ... सुभान अल्ला निकल रहा है मुँह से ... कुछ न कुछ दर्शन सिमेट रखा है हर शेर में ...

    ReplyDelete
  61. चाहे चुनौतियां हों, आपकी समझ अकेली नहीं पड़ सकती.

    ReplyDelete
  62. आदरणीय कुसुमेश जी ,
    क्या बात कही.......सच एकदम सच
    सभी शेर एक से बढ़कर एक.....

    ReplyDelete
  63. शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  64. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  65. बहुत ही सही बात कही है आपने जी ! हवे अ गुड डे
    मेरे ब्लॉग पर आए !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  66. लाज़वाब गज़ल। वाह क्या बात है ! आनंद आ गया।

    ReplyDelete
  67. बहुत सुन्दर ग़ज़ल आनंद आ गया

    ReplyDelete
  68. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ...

    बहुत सुन्दर आनंद आ गया...

    ReplyDelete
  69. सही बात कही है सर.. और गलती सबसे ज्यादा माँ-बाप की है जो अपने बच्चों के लिए वक़्त निकालने में नाकाम हैं..

    ReplyDelete
  70. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे,
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ.
    ..........................
    गले लगाने वाले ही गला काटते हैं..
    बच्चे तो आज कल पैदा ही बड़े हो रहें है...मैकाले की गुलामी में यही अनर्थ होगा...
    बहुत सुन्दर रचना.....

    जय हिंद

    ReplyDelete
  71. हमसफ़र और भी हैं साथ निभाने वाले,
    तू 'कुँवर'ख़ुद को लड़ाई में अकेला न समझ.----sundar...

    ReplyDelete
  72. Bahut badiya.... or ye lines to khaskar bahut aachi haa

    आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.

    overall ek sunder rachna haa

    ReplyDelete
  73. आज के बच्चों पे है पश्चिमी जादू का असर,
    अब तो दस साल के बच्चे को भी बच्चा न समझ.

    sahi kaha......lekin globalisation ke daur me bhi agar jawani me jawan hue to kya hue??????

    advanced hona hi padta hai.....

    ReplyDelete