Tuesday, March 22, 2011


"जल"
 

कुँवर कुसुमेश 

विषमय होता जा रहा , सरिताओं का नीर.
लेकिन सुनता है नहीं,कोई इनकी पीर.

नदियाँ पर्वत की बहें,हर पल सिल्ट समेत.
यहाँ सिल्ट का अर्थ है,पत्थर, बजरी, रेत .

यही सिल्ट मैदान में,बाधित करे बहाव.
दूषित जल का मुख्य है,कारण जल ठहराव.

दूषित जल से यदि मरे,नित्य समुद्री जीव.
पूरे पर्यावरण की,हिल जायेगी नीव.

जलाभाव से मच रहा,चंहु दिशि हाहाकार.
लगातार धटने लगा,भू का जल भण्डार.

कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़. 
****

71 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत दोहों के माध्यम से बहुत ही अच्छा सन्देश दिया है आपने, आशा है अधिकाधिक लोग इस पढ़कर जागरूक होंगे और प्रकृति के संगरक्षण में अपना योगदान देंगे

    ReplyDelete
  3. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    Jaante sabhee hain....swarth wash khilwaad kiye bina baaz nahee aate!
    Sundar rachana!

    ReplyDelete
  4. प्रकृति के प्रति आपके समर्पित भावों को सलाम करता हूं।

    सार्थक चिंता!! साधुवाद

    ReplyDelete
  5. विषमय होता जा रहा , सरिताओं का नीर.
    लेकिन सुनता है नहीं,कोई इनकी पीर.

    बहुत ही अच्छा सन्देश दिया है आपने अपनी इस रचना द्वारा, प्रकृति के संरक्षण में ही हमारा भी हित निहित है....

    ReplyDelete
  6. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    iske liye hai sirf manav zimmedaar

    ReplyDelete
  7. पर्यावरण को बिगाडनेमे मनुष्य ही जिम्मेवार है!
    बहुत सुंदर रचना ........

    ReplyDelete
  8. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    प्राकृतिक आपदाओं के पीछे व्यक्ति की संकीर्ण सोच और अंधाधंध विकास की होड़ का हाथ है ..लेकिन इंसान इस बात को नहीं समझ पाया है ...आपने बहुत विचारणीय विषय पर अपनी सार्थक लेखनी चलाई है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  9. प्रकृति के साथ खिलवाड का अंजाम तो खरतनाक होगा ही।
    आपने बहुत सुन्दर शब्दो मे इस बात को प्रस्तुत किया है
    सुन्दर एवं सार्थक रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़. ...

    पर्यावरण पर बहुत सुन्दर, चिन्तापरक दोहे...
    इतने सारगर्भित दोहों के लिए हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  11. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    सार्थक पोस्ट पर्यावरण बचाने की एक मुहीम , जानकारी से भरी स्वागत योग्य

    ReplyDelete
  12. बिलकुल सही..चिंता का बिषय

    ReplyDelete
  13. जल दिवस पर बेहतरीन प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  14. प्रकृति और पर्यावरण की रक्षा के लिये जागृत करती रचना

    ReplyDelete
  15. पर्यावरण पर बहुत सुन्दर प्रस्तुति अच्छी लगी. मेरा पसंदीदा विषय है.कभी समय निकाल कर मेरी पुँरानी कविता "वर्षा जल संचयन" भी देखिएगा.आभार

    ReplyDelete
  16. आदरणीय कुसुमेश जी
    सादर नमस्कार !

    आज जल दिवस पर अच्छी रचना दी आपने -

    जलाभाव से मच रहा, चहुं दिशि हाहाकार ।
    लगातार घटने लगा, भू का जल भण्डार ॥

    कहीं पड़ा सूखा कभी, कहीं आ गई बाढ़ ।
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों, करती ये खिलवाड़ ?!


    जल संरक्षण के प्रति जागरुक होने की प्रेरणा देते बहुत अच्छे दोहे हैं … बधाई !

    सलिल वारि अंभ नीर जल पानी अमृत नाम !
    जल जीवनदाता ; इसे शत-शत करो प्रणाम !!

    है सीमित , जल शुद्ध ; कर बुद्धि से उपभोग !
    वर्षा-जल एकत्र कर ! मणि-कांचन संयोग !!



    भारत भारती वैभवं
    पर आपका स्वागत है , पधारिएगा

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  17. कहीं पड़ा सूखा कभी, कहीं आ गई बाढ़ ।
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों, करती ये खिलवाड़ ?!
    बहुत सुंदर सवाल किया आप ने... सभी जबाब जान कर भी अनजान हे जी

    ReplyDelete
  18. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    .
    अच्छा अंदाज़ और सही मुद्दा

    ReplyDelete
  19. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.

    प्रकृति और पर्यावरण की रक्षा प्रति जागृत और सार्थक आव्हान करती रचना ......

    ReplyDelete
  20. बहुत सही, सार्थक और सामयिक प्रस्तुति।
    विश्व जल दिवस पर संदेश देती यह रचना बहुत ही अच्छी लगी।
    काफी समय से इस बात को लेकर चर्चा भी है कि अगला विश्वयुद्ध पानी को लेकर ही होगा।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर रोचक सार्थक शिक्षाप्रद प्र्स्तुति ।

    ReplyDelete
  22. sir.. hamne aaj aphli bar apka blog pada bhut hi accha likha hai apne..apke liye koi comments karu is kabil main khud nhi samjhtti.. kyu ki apki rachnaao ke samne main abhi kuch nhi hu.. apko bhut-bhut dhanyvaad ki apne meri kavita ki sarahna ki... apki har rachna khud me bhut samete hue hai...

    ReplyDelete
  23. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    समय के क्षितिज पर वही साहित्य सूरज की तरह चमकता है जिसमें समाज को देने के लिए कुछ होता है ,आपका साहित्य- सृजन मानवीय संवेदनाओं की पीड़ा को रखांकित ही नहीं करता बल्कि उसे जीता भी है , समाज को सचेत करता है ,उसे झकझोर कर जगाता है !
    कुसुमेश जी,आप जो भी लिखते हैं एक मकसद के साथ लिखते हैं ! आपकी भावनाओं में शब्द ढल कर धन्य हो जाते हैं !
    मेरी शुभकामनाएँ स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  24. आपने बहुत सार्थक सन्देश दिया है ,परन्तु संभवतः धनिकों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा उनकी कारें,मोटर साईकिलें धड्दले से पानी की बर्बादी करते हुए धुलती रहेंगी.एक और गरीब बस्ती के लोग प्यासे भटकते रहेंगे और अमीर सड़कों पर पानी बहाते रहेंगे.लोगों की समष्टि वादी सोच जब तक न बने तब तक सुधार नहीं होगा.

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्‍दर एवं सार्थक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  26. इस सार्थक रचना के लिए आपकी जितनी प्रशंशा की जाय कम है...पर्यावरण की ज्वलंत समस्या पर बहुत ख़ूबसूरती से टिपण्णी की है आपने...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छी रचना ...वाकई मे अभी से कुछ किया न गया तो बहुत खराब हालात होने वाले हैं......
    शुभकामनाये
    मंजुला

    ReplyDelete
  28. pata sabhi ko hai par kuch hi log kar rahe hain.. ab dekhna yah hai ki hum aur aap kya kar rahe hain.. sirf likh rahe hain ya waakai mein kuch saarthak bhi kar rahe hain..

    achchhi soch aur achchhe kaarya ka milan ho.. yahi kaamna hai..

    aabhaar

    ReplyDelete
  29. सोते को जगाया जा सकता है लेकिन जागते को कौन जगाये ? सब-कुछ जानते बूझते हुए भी मनुष्य , प्रकृति के साथ के साथ खिलवाड़ कर रहा है ।

    ReplyDelete
  30. जल संचय अगर आज नहीं किया तो महाप्रलय की परिस्थितियों के लिए मनुष्य स्वयं जिम्मेदार होगा

    ReplyDelete
  31. प्रकृति के प्रति आपके प्रेम को दर्शाती यह कविता हमें जागने को कह रही है... सुन्दर रचना ! जल दिवस की शुभकामना !

    ReplyDelete
  32. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.
    Sarthak rachna ke liye badhai sweekar karein........
    aapke ander kahi na kahi desh prem ki jo bhavna chipi hai wo is rachna ke madhayam se bahut hi sasakt tarike se bahar aayi hai ..........badhai

    ReplyDelete
  33. कुसुमेश सर वाकई लाजवाब गजल है.एक नए अर्थ की तलाश करती रचना.

    ReplyDelete
  34. बहुत सार्थक सन्देश दिया है सुन्दर एवं सार्थक रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  35. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़।
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़।

    दोहों के माध्यम से सार्थक संदेश दिया है आपने।
    इन प्रेरक पंक्तियों के लिए धन्यवाद कुसुमेश जी।

    ReplyDelete
  36. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  37. विषमय होता जा रहा , सरिताओं का नीर.
    लेकिन सुनता है नहीं,कोई इनकी पीर.
    sunder dohe

    ReplyDelete
  38. नदियाँ पर्वत की बहें,हर पल सिल्ट समेत.
    यहाँ सिल्ट का अर्थ है,पत्थर, बजरी, रेत .

    सार्थक संदेश देती अच्छी रचना ....

    ReplyDelete
  39. सही कहा आपने...

    धरम-नियम से रहिये, जल न कीजिये व्यर्थ !
    प्रकृति चले है नियम से,मानव भी है समर्थ !!

    सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  40. सच है ये विडम्बना . हम अभी भी चेते नहीं तो बूंद बूंद के लिए तरसेंगे .

    ReplyDelete
  41. आपके दोहे पढकर आनंद आ गया ... विज्ञानं और पर्यावरण के बारे में आप सहज और सुन्दर ढंग से लिखे हैं .. जल जीवन है ... इसे ढंग से इस्तमाल करना हर इंसान का फर्ज है ..

    ReplyDelete
  42. प्रकृति के प्रति गहरे भाव को व्यक्त करती रचना | प्रकृति भी तो सृष्टि की ही रचना है उसमे भी जान है वो जीती है तो भी निस्वार्थ भाव से पर अगर हम उसके प्रति प्यार भाव भूल जायेंगे उसकी भावनाओं को नहीं समझेंगे और उससे ये समझ कर खिलवाड़ करते रहेंगे तो वो अपना ये रूप तो हर बार दिखाएगी और इन्सान को सतर्क करती ही रहेगी अब तो संभल जाओ दोस्तों की प्रकृति से ज्यादा छेड़ - छाड़ घातक हो सकती है |
    आप बहुत खुबसूरत लिखते हो दोस्त |
    बहुत खुबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  43. आपके प्रयास को शत शत नमन। बेहतरीन रचना। आभार।

    ReplyDelete
  44. वाह वाह के कहे आपके शब्दों के बारे में जीतन कहे उतन कम ही है | अति सुन्दर
    बहुत बहुत धन्यवाद् आपको असी पोस्ट करने के लिए
    कभी फुरसत मिले तो मेरे बलों पे आये
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  45. paryawaran ke prati aapki chinta is kavita me chhalak rahi hai.. sahitya kee sarthakta bhi is se spasht ho rahi hai.. aaj ke samay me yah swar mook hai hindi kavita me...

    ReplyDelete
  46. प्रकृत के प्रति अगाध प्रेम को दर्शाती यह कविता जागरूकता कि प्रेरक है
    बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  47. जलाभाव से मच रहा,चंहु दिशि हाहाकार.
    लगातार धटने लगा,भू का जल भण्डार.

    कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.



    "जल ही जीवन है" या "पानी बचाएं खुशहाली लायें" जैसे स्लोगनों से काम नहीं चलेगा. वास्तव में हमें सचेत होना पड़ेगा.

    ReplyDelete
  48. बहुत सार्थक लिखा है ।

    ReplyDelete
  49. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.

    aapki rachnaayon mein aap ka prakriti prem mukhrit hota hai.
    sandeshparak sundar rachna ke liye aabhaar.

    ReplyDelete
  50. aadarniy sir
    itna kuchh hone ke bavjuud abhi bhi ham paani ki ahmiyat ko nahi samajh rahen hain
    gar paani jo na mile to machta hahakar
    mil jaata hai jab paani to bahayen beshumaar .
    bahue hi prabhavpurn avamsarthak sandesh deti prastuti.
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  51. Kusumesh jee, apki rachana hame prerit karti hai, jagati hai bsharte ham jaage to na ..... bahut satik rachana...aabhar

    ReplyDelete
  52. एक बढ़िया सामयिक एवं आवश्यक रचना के लिए बधाई आपको !

    ReplyDelete
  53. जल है तो जान है !
    इंसान क्यों करता गुमान है !

    बेहद सुन्दर और सटीक मार्मिक कविता !

    ReplyDelete
  54. कहीं पड़ा सूखा कभी,कहीं आ गई बाढ़.
    ज़रा सोचिये प्रकृति क्यों,करती ये खिलवाड़.

    एक बढ़िया रचना के लिए बधाई आपको !

    ReplyDelete
  55. बेहद सुन्दर और सटीक मार्मिक कविता| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  56. जागरूक करती आपकी ये रचना बेहद प्रभावशाली है.
    सच्चाई से ओतप्रोत इस रचना के लिए आपको बधाई.

    ReplyDelete
  57. बहुत ही बढ़िया दोहे... जागरूक सोच...
    ये पढ़कर तो अकाल आ ही जानी चाहिए इंसान को... यदि वो इंसान हुआ तो...

    ReplyDelete
  58. aapki kavitayen prakruti ke kitane kareeb hoti hai.....bahut achchha lagta hai padh kar....

    ReplyDelete
  59. bahut saarthak rachna.......

    jal bin sab soon........

    ReplyDelete
  60. nissandeh, prakriti hame itna deti hai aur badle hum prakriti ka dohan karte rahte hain.....

    aao sab mil kar waada karen, prakriti ko pradushan mukt banaaye taaki aane wali peedhiyan hame kosen nahi...........

    ReplyDelete
  61. बहुत सुन्दर दोहे ... और एक बहुत उपयोगी सीख के साथ ...जल की महत्ता को बताती हुवी आपकी रचना बहुत पसंद आई...

    तथा
    अमृतरस ब्लॉग

    भी देखिएगा | सादर

    ReplyDelete
  62. दूषित जल से यदि मरे,नित्य समुद्री जीव.
    पूरे पर्यावरण की,हिल जायेगी नीव....
    दोहों के माध्यम से लाजवाब संदेश दिया है आपने ... पर लोग जागें तभी न ... कहीं देर न हो जाए ...

    ReplyDelete
  63. कुसुमेश जी ,

    आपने सुन्दर दोहों के माध्यम से जो सार्थक , जीवनोपयोगी सन्देश दिया है , अति प्रशंसनीय और लीक से हटकर है |

    ReplyDelete
  64. पर्यावरणी दोहों के लिए आपको आपके फ़िक्र को सलाम ।
    महानगर ने फैंक दी मौसम की संदूक ,
    पेड़ परिंदों से हुआ कितना बुरा सुलूक ।
    ये तेजाबी बारिशें ,बिजली घर की राख ,
    एक दिन होगा भू -पटल वार्णा-वर्त की लाख ।
    महानगर के हाथ पे गुल होतें हैं पेड़ ,
    सुषमा तीनों लोक की कुल होतें हैं पेड़ ।
    पेड़ पांडवों पर हुआ जब जब अत्याचार ,
    ढांप लिए वट वृक्ष ने तब तब दृग के द्वार .

    ReplyDelete