Monday, July 28, 2014

ईद है जलवा-ए- हिलाल का दिन..........................


ईद है जलवा-ए- हिलाल का दिन। 

आज का दिन बड़े कमाल का दिन। 

भूल जाओ सभी गिले-शिकवे,

प्यार का दिन नहीं मलाल का दिन। 
*****
जलवा-ए- हिलाल=चाँद का दीदार 

-कुँवर कुसुमेश 

13 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति...ईद मुबारक़...

    ReplyDelete
  2. खुबसूरत अभिव्यक्ति...ईद मुबारक़..

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।
    साया बापू का उठा, *रूप-चन्द ग़मगीन :चर्चा मंच 1690

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. वाह ....बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  6. ईद की मुबारक ...

    ReplyDelete
  7. सुंदर मनोभाव,
    सुंदर पंक्तियां !

    ReplyDelete
  8. ईद मुबारक। जलवा ए हिलाल बढिया।

    ReplyDelete
  9. वाह ....बहुत ही बढिया

    आग्रह है-- हमारे ब्लॉग पर भी पधारे
    शब्दों की मुस्कुराहट पर ...विषम परिस्थितियों में छाप छोड़ता लेखन

    ReplyDelete