Friday, December 24, 2010

Merry Christmas

कहाँ हो ईसा-ओ-मरियम तलाश करता हूँ

 कुँवर कुसुमेश 

ख़िजाँ  में खुशनुमां मौसम तलाश करता हूँ,
पनपते ज़ख्म का मरहम तलाश करता हूँ.

बदलता वक़्त तुम्हें दे रहा है आवाज़ें,
कहाँ हो ईसा-ओ-मरियम तलाश करता हूँ.

किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम, 
गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.

ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.

  ************

ख़िजाँ=पतझड़ ,  ईसा-ओ-मरियम=ईसा और मरियम,
अम्नो-प्यार=शांति और प्यार, परचम=ध्वज/झंडा  
 

51 comments:

  1. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

    बहुत खूबसूरत गज़ल ....हर शेर जैसे दिल से निकला हो ..

    ReplyDelete
  2. ख़िजाँ में खुशनुमां मौसम तलाश करता हूँ,
    पनपते ज़ख्म का मरहम तलाश करता हूँ.

    मरहम तो सभी के पास होता है कोई लगाना ही नहीं चाहता है .....

    बदलता वक़्त तुम्हें दे रहा है आवाज़ें,
    कहाँ हो ईसा-ओ-मरियम तलाश करता हूँ.

    इन आवाजों में हमारी भी आवाज़ शामिल है कुसुमेश जी ....

    ReplyDelete
  3. संगम तो पवित्र होता ही है, इसकी तलाश भी कम पाक नहीं.

    ReplyDelete
  4. तलाश जारी है तो मंजिल भला दूर कैसे रह सकती है।
    उम्दा ग़ज़ल ।

    ReplyDelete
  5. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.
    ... bahut sundar ... laajawaab !!!

    ReplyDelete
  6. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.
    बहुत सुन्दर विचार लिए उम्दा ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  7. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.
    --
    गजल के सभी शेर बहुत सुन्दर सन्देश दे रहे हैं!

    ReplyDelete
  8. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.
    इस तलाश में मै भी आपके साथ हूँ सुंदर सन्देश देती रचना बधाई

    ReplyDelete
  9. तमाम धर्म का संगम

    वाह वाह कुँवर जी, बहुत खूब|
    यहाँ भी पधारिएगा
    http://samasyapoorti.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत अभिव्यक्ति......... शानदार गजल जिसका प्रत्येक शेर लाजबाव और बढ़िया काफिया का निर्वाह। आभार बावू जी !

    ReplyDelete
  11. ख़िजाँ में खुशनुमां मौसम तलाश करता हूँ,
    पनपते ज़ख्म का मरहम तलाश करता हूँ।

    सद्भावनाओं की वाहिनी बन कर यह ग़ज़ल अपनी ख़ासियत ख़ुद बयान कर रही है।
    इस बहुत अच्छी ग़ज़ल के लिए बधाई, कुसुमेश जी।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर ओर अच्छी गजल जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.

    सच में ,
    ग़ज़ल का ये शेर ,
    ग़ज़ल की अज़मत में इजाफा कर गया
    ... !!
    आपकी दुआओं में
    हम सब शामिल हैं..... आमीन .

    ReplyDelete
  14. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

    बहुत सुन्दर गज़ल..हरेक शेर दिल को छूलेता है..आभार

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन ग़ज़ल... धर्म के मर्म को छोटी हुई... क्रिसमस की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  16. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

    शानदार है अमन का पैगाम और क्रिसमस की शाम!! इस तरह होता है निश्छल पैगाम!!
    तस्वीर भी संदेश दे रही है, जब बच्चे और भैडे से समान प्रेम होता है तब वह बनती है असल में शान्ति!!

    ReplyDelete
  17. भगवन इसा के जन्मदिन पर इससे बढ़िया सन्देश नहीं हो सकता है...

    आपकी तलाश के हम सब साथी हैं........बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  18. खूबसूरत प्रेम और एकता का सन्देश . मुझे भी अपने साथ मानिये . सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  19. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.
    xxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी
    सादर प्रणाम
    वैसे तो सभी धर्मों का एक ही मंतव्य है ..इंसानियत का पाठ पढाना...पर भूल बश हम उस लक्ष्य से कोसों दूर चले गए और हालत इस कदर हैं कि अब हमें अलग- अलग धर्म एक दुसरे के विरोधाभासी लगते हैं ...आपने बहुत संजीदा ढंग से इस गजल में अपनी बात को सामने रखा है ....आप बधाई के पात्र है ...धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. रौशन हुई रात वो आसमान से उतर के ज़मीन पे आया
    रौशन हुई रात मरियम का बेटा मुहब्बत के सन्देश लाया ....

    ReplyDelete
  21. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.

    वाह क्या बात है !

    ReplyDelete
  22. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.

    kyaa baat hai sir.hameshaa kee tarah laajawaab prastuti.

    ReplyDelete
  23. बदलता वक़्त तुम्हें दे रहा है आवाज़ें,
    कहाँ हो ईसा-ओ-मरियम तलाश करता हूँ.

    Behtariin gazal kahi hai aapne...meri dili daad kabool karen..

    Neeraj

    ReplyDelete
  24. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

    सद्भावनाओं की वाहिनी बन कर यह ग़ज़ल अपनी ख़ासियत ख़ुद बयान कर रही है

    ReplyDelete
  25. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.

    वाह वाह वाह ………………सुन्दर संदेश से ओत-प्रोत गज़ल का हर शेर लाजवाब है।

    ReplyDelete
  26. अच्छी गज़ल. आभार. क्रिसमस की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया रचना...
    वाकई आज हम सिर्फ तलाश ही तो कर रहे हैं...

    ReplyDelete
  28. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.
    behatareen gazal ka behatareen sher......

    ReplyDelete
  29. किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.

    वाह! बेहतरीन गजल कुसुमेश जी.....सार्थक सन्देश देती हुई रचना.

    ReplyDelete
  30. बहुत ही अच्छा लिखा है!

    ReplyDelete
  31. हमारी ओर से भी क्रिसमस की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  32. बहुत ही सुंदर ओर अच्छी गजल|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  33. आपको एवं आपके परिवार को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल!

    ReplyDelete
  34. Nice lines to welcome the christmas.

    ReplyDelete
  35. क्या कहुॅ आप तो बेमिसाल हैं और उतनी ही बेमिसाल होती है आपकी रचनाएॅं। आपकी रचना पढ़कर आत्मिक शांति मिलती है। आपको और तमाम ब्लागरों को मेरी तरफ से भी शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  36. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete
  37. आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  38. बेहतरीन ग़ज़ल............कुंवर कुसुमेश जी

    ReplyDelete
  39. Bahut khoob ....Padhkar mazaa aaya. sarthak paigaam deti is rachna ke liye apka aabhar.
    Apko Christmas ki shubhkamnaayen.......

    ReplyDelete
  40. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.

    वाह! बहुत उम्दा ख्याल हैं...बेहतरीन ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  41. "तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ."
    बेहतरीन पंक्तियाँ और सुन्दर ग़ज़ल..

    आभार

    "एक लम्हां" पढने ज़रूर आएं ब्लॉग पर..

    ReplyDelete
  42. बहुत ही सुंदर...

    ReplyDelete
  43. "किसी ग़रीब के आँसू ही पोछ लें दामन,
    नज़र में क़तरा-ए-शबनम तलाश कारता हूँ.
    ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ."
    आदरणीय कुशमेस सर,सादर प्रणाम. आपकी गजलों के विषय बहुत ही गंभीर और सामाजिक सरोकारों को लिए होते हैं. यह गहरे तक मन को छू जाती हैं. मन करता है इसे बार-बार पढूं .इसके माध्यम से आपने जो पैगाम दिया है उसको नमन करता हूँ.आज दिशाहीन समाज में इसी तरह के पथ प्रदर्शन की जरूरत है.मेरी समझ में इस महती भूमिका को निभाने में ,अन्यों के साथ-साथ , आप जैसे रचनाकार की अनदेखी एक भूल के सिवा कुछ नहीं होगी.

    ReplyDelete
  44. कुंअर जी, बहुत ही प्‍यारी गजल। आपकी यह तलाश पूरी हो, यही कामना है।

    ---------
    अंधविश्‍वासी तथा मूर्ख में फर्क।
    मासिक धर्म : एक कुदरती प्रक्रिया।

    ReplyDelete
  45. कुसुमेश जी,
    आपकी ग़ज़ल की रवानगी पढ़ने वालों के साँसों में खुशबू बन कर बस जाती है !
    हर शेर तारीफ़ के क़ाबिल है
    ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.
    कलम को चूम लेने का दिल करता है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  46. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.

    वाह साहब ,ये परचम ढून्धने का बीड़ा आप उठाएं हैं तो हमें साथ आने में खुशी है.

    ReplyDelete
  47. 'kisi gareeb ke aansu hi ponchh le daman
    nazar me katra-e-shabnam talash karta hoon'
    umda gazal..har sher umda.
    bahut-bahut dhanyvad kusumeshji!

    ReplyDelete
  48. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ.

    बहुत उम्दा ग़ज़ल है ,ये शेर तो शायर के जज़्ब ए इंसानियत से लबरेज़ होने का परचम लहराता हुआ सा है
    बहुत ख़ूब !

    ReplyDelete
  49. ग़ज़ल ग़ज़ल में 'कुँवर' एकता की बात लिए,
    तमाम धर्म का संगम तलाश करता हूँ.
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  50. प्रभावी ,सार्थक सन्देश देती गजल ....आपको शुभकामना

    ReplyDelete
  51. ज़माने भर को जो दे अम्नो-प्यार का पैग़ाम,
    गगन में फिर वही परचम तलाश करता हूँ....


    निःशब्द हूँ ... मुकम्मल ग़ज़ल है ... बहुत ही लाजवाब ...

    ReplyDelete