Friday, December 31, 2010

आदमी फिर नये सफ़र पर है
कुँवर कुसुमेश

लो नया आफ़ताब सर पर है,
आदमी फिर नये सफ़र पर है.

तुमको कितने क़रीब से देखे,
ये नये साल की  नज़र पर है.

लोग निकले  बधाइयाँ देने ,
बात ठहरी अगर-मगर पर है.

कितनी ऊंची उड़ान ले लेगा ,
ये परिंदों के बालोपर पर है.

लोग पत्थर लिए नज़र आये,
कोई फल-फूल क्या शजर पर है?

सोच इन्सान की बदल देना,
एक फ़नकार के हुनर पर है.

भूल जाये भले ही ये दुनिया,
पर भरोसा हमें 'कुँवर' पर है.
*******
बालोपर-सामर्थ्य, शजर-पेड़ 

59 comments:

  1. नये साल के उपलक्ष्य मे बेहतरीन रचना
    आपको नव वर्ष की हृार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. आशा का संचार करती सुन्दर पोस्ट!
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. सोच इन्सान की बदल देना,
    एक फ़नकार के हुनर पर है.
    और सच तो यह है की यह हुनर किसी - किसी में होता है , इंसान की सोच को परिवर्तित करना एक कलाकार के वश में होता है ..बहुत सुंदर गजल है यह प्रत्येक पंक्ति अर्थपूर्ण ...नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    सदाचार - मंगलकामना!

    ReplyDelete
  5. इसी तरह कायम रहे यह भरोसा.

    ReplyDelete
  6. भूल जाये भले ही ये दुनिया,
    पर भरोसा हमें 'कुँवर' पर है.

    गज़ब लिखते हैं कुंवर जी .....
    हम भी यही भरोसा करते हैं ......

    ReplyDelete
  7. आप को परिवार समेत नये वर्ष की शुभकामनाये.
    नये साल का उपहार
    http://blogparivaar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. अच्छी रचना नूतन वर्ष के स्वागत के लिये,

    हमें भी लगता है……

    भूल जाये भले ही ये दुनिया,
    पर भरोसा हमें 'कुँवर' पर है.

    ReplyDelete
  9. फूल और पत्‍थर
    साथ में इतनी
    खूब सारी फर फर
    एक हिन्‍दी ब्‍लॉगर पसंद है

    ReplyDelete
  10. आशा का उजास फ़ैलाती खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  11. नया साल शुभा-शुभ हो, खुशियों से लबा-लब हो
    न हो तेरा, न हो मेरा, जो हो वो हम सबका हो !!

    ReplyDelete
  12. सुंदर प्रस्तुति..नये वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  13. लो नया आफ़ताब सर पर है,
    आदमी फिर नये सफ़र पर है

    नववर्ष के आग़ाज़ पर खूबसूरत शेर...........उम्दा ग़ज़ल
    नववर्ष की बधाई!

    ReplyDelete
  14. आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  15. क्या बात है.. नए साल के लिए खूबसूरत पंक्तियाँ..
    नववर्ष की शुभकामनाएं..

    आभार

    ReplyDelete
  16. बहुत सुनदर अभिव्यक्ति , बधाई व आपको व आपके ब्लाग के सभी साथियों को नववर्ष की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  17. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…

    ReplyDelete
  18. सुन्दर रचना, भरोसा कायम रहेगा...

    साधुवाद.

    ReplyDelete
  19. नववर्ष आपको मंगलमय हो!
    --
    झट से यहाँ पोस्ट लाने के लिए फट से क्लिक कोड अपने ब्लॉग पर लगाएं! http://blogsmanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर - आशुतोष मिश्र

    ReplyDelete
  21. लोग पत्थर लिए नज़र आये,
    कोई फल-फूल क्या शजर पर है?

    क्या बात है साहब.बहुत उम्दा बात.

    नए साल की बधाई.

    ReplyDelete
  22. नए साल का स्वागत और गए साल की विदाई...
    सभी को नए साल की बहुत बहुत शुभकामना....

    ReplyDelete
  23. Each age has deemed the new born year
    The fittest time for festal cheer..
    HAPPY NEW YEAR WISH YOU & YOUR FAMILY, ENJOY, PEACE & PROSPEROUS EVERY MOMENT SUCCESSFUL IN YOUR LIFE.

    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  24. लो नया आफ़ताब सर पर है,
    आदमी फिर नये सफ़र पर है.


    तुमको कितने क़रीब से देखे,
    ये नये साल की नज़र पर है.

    लोग निकले बधाइयाँ देने ,
    बात ठहरी अगर-मगर पर है.

    लोग पत्थर लिए नज़र आये,
    कोई फल-फूल क्या शजर पर है?

    bahut bahut shurkiyaa..apni is nyii gazal tk laane ke liye.....waaaaah.....nye saal ki shuraat me hi itnii bdhiyaaa gazal prne ko mil gye...lgta he ye saal bhi khoob shyarnaa jaayegaaa...........
    bahut hi umdaa gazal
    chunindaa sher to bahut hii ache lge
    take care

    ReplyDelete
  25. नए वर्ष पर बहुत प्यारी रचना...
    Happy New Year...

    ReplyDelete
  26. आदमी फिर नये सफ़र पर है.
    बात ठहरी अगर-मगर पर है.
    सोच इन्सान की बदल देना,
    एक फ़नकार के हुनर पर है.

    मान्यवर नमस्कार| बेहतरीन सोच, उम्दा ख़याल और तार्किक बातों को बतियाती ग़ज़ल पेश करने के लिए बहुत बहुत बधाई| आपकी उक्त ग़ज़ल के कुछ मिसरों को ले कर मैने अपना [आपका ही, श्रीमान!] एक मनपसंद शे'र बना लिया है| मुझे ये बहुत ही अच्छा लगा, आप समझ सकते हैं क्यूँ है ये मेरे दिल के इतने करीब|

    ReplyDelete
  27. आशा का संचार करती सुन्दर पोस्ट।

    नए साल की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  28. नए वर्ष पर बहुत प्यारी रचना

    नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये......

    ReplyDelete
  29. Bhaut khoob !!!!!!


    Kunwar Saab ......

    WISH YOU A VERY HAPPY, PROSPEORUS AND SUCCESSFUL NEW YEAR!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!2010.

    ReplyDelete
  30. "सोच इन्सान की बदल देना,
    एक फ़नकार के हुनर पर है."
    समाज को सन्देश एवं दिशा देती एक सकारात्मक रचना.

    ReplyDelete
  31. कुसुमेश जी , इस रचना का अंतर्नाद ...अनुकरणीय है . सन्देश अतिपावन है .आपको बधाई ..इस उत्कृष्ट रचना के लिए .

    ReplyDelete
  32. आदमी फिर नये सफ़र पर है...क्या बात है. बहुत खूब कुसुमेश जी.
    नये वर्ष की अनन्त-असीम शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  33. आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की हार्दिक शुभकामना ! भगवान् से प्रार्थना है कि नया साल आप सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    ........
    नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुख-समृद्धिकारी एवं
    मंगलकारी हो।
    ।।शुभकामनाएं।।

    ReplyDelete
  35. आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  36. कुसुमेश जी,
    लोग निकले बधाइयाँ देने ,
    बात ठहरी अगर-मगर पर है.
    पूरी ग़ज़ल में से सबसे अच्छा शेर छांट पाना बहुत ही मुश्किल है सब एक से बढ़ कर एक हैं!

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  37. मंगलमय नववर्ष और सुख-समृद्धिमय जीवन के लिए आपको और आपके परिवार को अनेक शुभकामनायें !

    बेहतरीन ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  38. कितनी ऊंची उड़ान ले लेगा ,
    ये परिंदों के बालोपर पर है.
    बहुत खूब!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  39. बहुत सटीक बातें कह दी हैं गज़ल में ..खूबसूरत गज़ल


    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  40. बेहतरीन गजल। नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  41. Naye saal kee bahut,bahut mubarakbaad!

    ReplyDelete
  42. नव वर्ष आपको शुभ और मंगलमय हो
    आशा

    ReplyDelete
  43. गज़ल के रूप में ये सुन्दर आशावादी रचना बहुत अच्छी लगी.. कुंवर जी !! नए साल पर हार्दिक शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  44. .

    लो नया आफ़ताब सर पर है,
    आदमी फिर नये सफ़र पर है.

    तुमको कितने क़रीब से देखे,
    ये नये साल की नज़र पर है....

    नए साल के उपलक्ष्य में इस सुन्दर रचना की बधाई ।
    नया वर्ष आपके जीवन में सुख समृद्धि लाये।

    .

    ReplyDelete
  45. आशा व विश्वास कि इसी तरह हो, पूरे साल.

    ReplyDelete
  46. बहुत शानदार !

    ReplyDelete
  47. लोग निकले बधाइयाँ देने ,
    बात ठहरी अगर-मगर पर है.

    सोच इन्सान की बदल देना,
    एक फ़नकार के हुनर पर है.

    नए साल के पावन मौके पर
    ऐसी शानदार और कामयाब ग़ज़ल का तोहफा
    दिया आपने अपने चाहने वालों को ....
    ग़ज़ल के हवाले से मन की गहराईयों की जाने कौन-कौन-सी
    बात कह दी है आपने ..... वाह - वा !!

    ReplyDelete
  48. बेहतरीन रचना
    आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  49. "सोच इंसान की बदल देना

    एक फनकार के हुनर पर है"

    और आपने वाकई में हमारी सोच बदल डाली....

    शुक्रिया !!!! नव वर्ष की शुभकामनायें !!!

    ReplyDelete
  50. नए साल के उपलक्ष्य में इस सुन्दर रचना की बधाई ।
    नया वर्ष आपके जीवन में सुख समृद्धि लाये।

    ReplyDelete
  51. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ...नया वर्ष आपके लिये मंगलमय हो ।

    ReplyDelete
  52. लोग पत्थर लिए नज़र आये,
    कोई फल-फूल क्या शजर पर है ...

    बहुत खूब क्या फितरत है आदमी की आज के दौर में ... सार्थक लिखा है ... गज़ब की ग़ज़ल ...
    आपको और आपके समस्त परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो ...

    ReplyDelete
  53. नव वर्ष की सुन्दर प्रस्तुति
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  54. बहुत ही प्‍यारी गजल। बहुत ही शानदार भाव।

    ---------
    मिल गया खुशियों का ठिकाना।

    ReplyDelete
  55. सोच इंसान की बदल देना ,
    एक फ़नकार के हुनर पर है।

    बहतरीन गजल...........शानदार अभिव्यक्ति । आभार वाबू जी !

    आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायेँ ।

    ReplyDelete
  56. बहुत सुन्दर भाव हैं गजल में। आशा भी है प्रेरणा भी है।

    आभार।

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं सहित,

    हरीश

    ReplyDelete
  57. लोग पत्थर लिए नज़र आये,
    कोई फल-फूल क्या शजर पर है?
    बेहतरीन ग़ज़ल...
    नए साल की मुबारकबाद.

    ReplyDelete
  58. सोच इन्सान की बदल देना,
    एक फ़नकार के हुनर पर है.
    आज इसी कि सबसे ज्यादा जरुरत है इंसान की सोच बदलने की
    आपको व आपके परिवार को सार्थक लेखन व नव वर्ष कि मंगल कामनाएं

    ReplyDelete
  59. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ....

    ReplyDelete