Wednesday, March 30, 2011


फिर सलीबों पे मसीहा होगा


कुँवर कुसुमेश 

क्या हक़ीक़त में करिश्मा होगा.
वक़्त कल आज से अच्छा होगा.

लोग कहते हैं कि ऐसा होगा,
जबकि लगता है कि उल्टा होगा.

साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
और बाँबी में सपेरा होगा.

वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

आदमीयत से जिसको मतलब है,
देख लेना वो अकेला होगा.

है 'कुँवर' सोच ये आशावादी,
रात जायेगी,सवेरा होगा.
 ********
 सलीब-सूली 

67 comments:

  1. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा....


    सच की तस्वीर दिखाती धारदार ग़ज़ल के लिए
    आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  2. आशा का संचार करती बढ़िया गजल!

    ReplyDelete
  3. है 'कुँवर' सोच ये आशावादी,
    रात जायेगी,सवेरा होगा.

    इस सवेरे का बेसब्री से इंतज़ार है.

    सादर

    ReplyDelete
  4. होगा होगा... सवेरा होगा...
    और ये उम्मीद नहीं छोडनी चाहिए... बाकी वक्त के चरखे में सभी घूम रहें हैं...

    ReplyDelete
  5. ग़ज़ल तो बहुत उम्दा लिखी है । आपकी काव्य रचना बेमिसाल है । लेकिन हम तो वर्तमान में जीते हैं , कल किसने देखा है । जैसा भी होगा देखा जाएगा ।

    ReplyDelete
  6. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.


    खूब कहा आपने.... बेहतरीन भाव...

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया आशावादी सोच है !
    अच्छी गजल है ....

    ReplyDelete
  8. अलंकारों से सज्जित बहुत सुन्दर....बाम्बे में सपेरा होगा....इसे विरोधाभाष अलंकार कहेंगे ना?

    ReplyDelete
  9. Aashavadi rachana......savera jarur hoga...

    ReplyDelete
  10. Raat jayegee,saveraa hoga....aameen!

    ReplyDelete
  11. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा
    .

    बहुत सुंदर ,आज तो दिल खुश हो गया.

    ReplyDelete
  12. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    सच्चाई को कहती अच्छी गज़ल ...अंत में थोड़ी तो आशा बंधाई है

    ReplyDelete
  13. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    sahi kaha hai aapne...........dil ko choo gaye sab sher

    ReplyDelete
  14. उम्मीद नहीं छोडनी चाहिए.
    बहुत खूब प्यारी गजल इस के लिए शुभकामनाये

    मेरे ब्लॉग पे आकर मेरा होसला बढ़ने के लिए आप का शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....

    ReplyDelete
  16. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    बेहतरीन ग़ज़ल ! ये दो पंक्तियाँ तो लाजवाब बन पड़े हैं !

    ReplyDelete
  17. " रात जायेगी,सवेरा होगा."

    सचमुच,' वो सुबह कभी तो आएगी ' !
    बहुत सुन्दर भावो की कल्पना रची है आपने ?

    ReplyDelete
  18. है 'कुँवर' सोच ये आशावादी,
    रात जायेगी,सवेरा होगा.
    उम्मीद पर तो दुनिया कायम है..
    शानदार, बेमिसाल पंक्तियाँ... भावपूर्ण काव्य रचना...

    ReplyDelete
  19. है 'कुँवर' सोच ये आशावादी,
    रात जायेगी,सवेरा होगा.
    हम न जाने आगे का समय कैसा होगा |
    पर लगता है आगे भी सब अच्छा ही होगा |
    आने वाले वक़्त की चिंता को ब्यान करती रचना |
    अंदाज़ फिर से खुबसूरत |

    ReplyDelete
  20. कुंवर साहब क्या कहूँ? एक एक शेर हीरे सी चमक लिए हुए है...छोटी बहर ने कहर बरपा दिया है...सुभान अल्लाह...इस बेजोड़ ग़ज़ल के लिए दिली दाद कबूल फरमाएं...

    नीरज

    ReplyDelete
  21. waah sir....what a positve thinking...

    ReplyDelete
  22. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    जीवन की वास्तविकता यही है ..

    ReplyDelete
  23. waah sir....what a positve thinking...

    ReplyDelete
  24. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.
    अच्छी पन्तिया ... सच बयां करती एक अच्छी गजल ....
    शुभकामनाये
    मंजुला

    ReplyDelete
  25. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  26. साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.
    यह शे’र पढ़कर पुराने ज़माने का एक गाना याद आ गया। सोचा पहले उसे ही शेयर कर लूं।
    ‘हे राम चंद कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा
    हंस चूगेगा दाना दुनका कौआ मोती खाएगा।’
    आपने जो इस कलयुग की तस्वीर खींची है, वह इस शे’र में बयां होता है,
    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    ReplyDelete
  27. इस ग़ज़ल के ज़रिए आपने आसन्‍न संकटों की भयावहता से हमें परिचित कराया है आपकी वैचारिक की मौलिकता नई दिशा में सोचने को विवश करती है ।
    • इस ग़ज़ल में बाज़ारवाद और वैश्वीकरण के इस दौर में अधुनिकता और प्रगतिशीलता की नकल और चकाचौंध में किस तरह हमारी ज़िन्दगी घुट रही है प्रभावित हो रही है, उसे आपने दक्षता के साथ रेखांकित किया है। बिल्कुल नए सोच और नए सवालों के साथ समाज की मौज़ूदा जटिलता को उजागर कर आपने सोचने पर विवश कर दिया है।
    फिर भी शायर उदासीन नहीं है, निराश नहीं है, यह इस ग़ज़ल की विशेषता है।
    एक शेर याद आ गया, उसे भी शेयर कर लूं।
    • पहले ज़मीन बांटी थी, फिर घर भी बट गया,
    इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।

    ReplyDelete
  28. बहुत बढ़िया है !
    अच्छी गजल ....

    ReplyDelete
  29. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    बहुत बढ़िया ........

    ReplyDelete
  30. ""साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.""..... बहुत उम्दा ग़ज़ल... हर शेर लाजवाब... आज के समय और हालात को कटघरे में खड़ा करता...

    ReplyDelete
  31. 'सांप सड़कों पे नज़र आयेंगे

    और बांबी में सपेरा होगा '

    ************************

    बेहतरीन ग़ज़ल ...हर शेर उम्दा

    ReplyDelete
  32. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.
    जैसे कोई बहती नदी की लहरों पर बैठ कर अनुभूति की उर्मियों को साँसों के साथ गूँथ कर पेश कर देता हो, वैसी होती हैं आपकी अभिव्यक्ति !
    कुंवर जी,हर शेर चटाचट टूटती मानवीय मूल्यों की कसक से भरा है !
    जितना भी दाद दूँ ,कम है !

    ReplyDelete
  33. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा।

    वाह,कुसुमेश जी
    जमाने की हक़ीकत को ख़ूबसूरती के साथ ग़ज़ल की शक्ल दी है आपने।
    मुबारकबाद कबूल फर्माएं।।

    ReplyDelete
  34. वाह कुँवर साहब क्या खूब लिखा है

    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  35. हाय!
    क्या हो रहा है मैं अपना पुराना बलोग बदल गया है?
    आप नीचे मेरी नई टिप्पणी है

    और Plz मुझे एक नई टिप्पणी दे आपकी याद आती है.

    मेरा नया बलोग है ... ..
    .
    .
    .
    .
    .
    .http://smshindi-smshindi.blogspot.कॉम

    "आगे "

    दम हैं नई टिप्पणी दे


    मिस करने के लिए...............आपका सोनू

    ReplyDelete
  36. I like every sher of your this nice gazal.


    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.


    wonderful imagination.


    Great work sir. Congrats.

    ReplyDelete
  37. धारदार चिंतन और असरदार ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  38. साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.
    bahut khoob
    sabhi she'r lazavab
    kavita-kaarn

    ReplyDelete
  39. आशा का संचार करती बढ़िया गजल| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  40. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    ReplyDelete
  41. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    bahut hi khoobsurat panktiyan lagin ye..

    ReplyDelete
  42. क्या हक़ीक़त में करिश्मा होगा.
    वक़्त कल आज से अच्छा होगा.

    लोग कहते हैं कि ऐसा होगा,
    जबकि लगता है कि उल्टा होगा.

    साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.

    वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    है 'कुँवर' सोच ये आशावादी,
    रात जायेगी,सवेरा होगा.
    poori rachna itni khoobsurat hai ki kisi ek ko khas kahna jama nahi ,bahut bahut badhai ho is adbhut rachna ke liye .dil khush ho gaya .

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर सर बहुत अच्छा लिखा है आप ने

    साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.
    ये लाइन तो बिल्कुल आने वाले समाज को प्रतिविम्बित करती है |
    बहुत सुन्दर सर

    ReplyDelete
  44. साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.
    yahi parivartan hai

    ReplyDelete
  45. वस्तुनिष्ठ चित्रण……… सटिक अभिव्यक्ति

    वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    ReplyDelete
  46. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा....
    आज के हालात का सटीक चित्रण्।

    ReplyDelete
  47. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    बेहतरीन ग़ज़ल...
    एक-एक शे’र लाजवाब।

    ReplyDelete
  48. आदरणीय कुस्मेश सर,सादर प्रणाम.
    "क्या हक़ीक़त में करिश्मा होगा.
    वक़्त कल आज से अच्छा होगा."
    आपकी इस गुनगुनाती गजल ने अनायास ही W.B.Yeats की रचना "The second coming "की याद दिला दी.सामान निराशा और आशा के ताने-बने से बनी,अविश्वश्नीय आशा का संचार करती रचना.

    ReplyDelete
  49. वक्त को तो अच्छा होना हो पड़ेगा... जब सकारात्मक उर्जा प्रवाह होगा, जब हिर्दय मानव प्रेम से आत-प्रोत होगा, हमें अपने दायित्वों का आबास होगा, प्रकृति प्रेम होगा, और... वक्त अच्छा ज़रूर होगा!

    अच्छी आशवादी सोच के लिए बधाई|

    ReplyDelete
  50. "आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.'-क्या बात है !सोचने पर बेबस !

    ReplyDelete
  51. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    बहुत दमदार ग़ज़ल.यह शेर तो बहुत ही खूब लगा.
    सलाम.

    ReplyDelete
  52. "आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा. "

    आज के संक्रमण काल में, संवेदनशील कवि के मन की आशंका को, उजागर करती यह रचना कालजयी होगी कुंवर साहब ....हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  53. रात को बीतते समय से थोडा समय खुद के लिए चुराकर आपकी यह ग़ज़ल पढ़ी थी. ऑफिस के अकेले सन्नाटे में आपकी यह जानदार रचना कई घंटे तक बार बार गूंजती रही ..................... कमेन्ट अब कर रहा हूँ हाल आप ही समझ लीजिये. गज़ब के शब्द चयन किये हैं आपने अद्भुत भावों व्यक्त करने में .

    ReplyDelete
  54. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    khoobsurat sher hai

    ReplyDelete
  55. आप की बात पसंद आई. शब्दों का बेहद उम्दा प्रयोग किया है. भाव सुंदर और सार्थक हैं. कुल-मिलाकर रचना न केवल पढने लायक़ है बल्कि दूसरों को सुनाने लायक़ भी है. आपके ब्लॉग पर आना सफल हुआ. इस रचना के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.

    ReplyDelete
  56. फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    ये अकेला मिसरा काफ़ी कुछ कह रहा है
    बहुत खूब !


    साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.
    वाह !

    ReplyDelete
  57. क्या हक़ीक़त में करिश्मा होगा.
    वक़्त कल आज से अच्छा होगा.

    लोग कहते हैं कि ऐसा होगा,
    जबकि लगता है कि उल्टा होगा.

    साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.

    वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.

    उफ़ क्या सच्चाई बयां की है. भाव बहुत सुंदर भी है और सार्थक भी. एक एक शेर बार बार पढ़ने को दिल करे. इस प्रस्तुति के लिए आपको हार्दिक बधाइयाँ.

    वर्ल्ड कप की विजय पर आपको भी बहुत शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  58. आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.
    wah.....kya sundar baat kahi hai.

    ReplyDelete
  59. नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  60. बहुत बढ़िया आशावादी सोच है !
    अच्छी गजल है ....

    ReplyDelete
  61. वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.


    आदमीयत से जिसको मतलब है,
    देख लेना वो अकेला होगा.

    Simply beautiful!

    ReplyDelete
  62. कुँवर कुसुमेश जी ,
    मेरा ब्लॉग पंजाबी में है, आप ने कुछ दिन पहले मेरे ब्लॉग पर अपना एक शेर लिखा था वहीँ से आप के ब्लॉग का पता लगा । आप का ब्लाग खूबसूरत है ।

    ReplyDelete
  63. साँप सड़कों पे नज़र आयेंगे,
    और बाँबी में सपेरा होगा.

    वक़्त दोहरा रहा है अपने को,
    फिर सलीबों पे मसीहा होगा.
    ..
    ..
    कुंवर जी अचानक ही आया आपके ब्लॉग पर ....आपको पढना सुखद है ...अब तो सिल्सिल चलता ही रहेगा !

    ReplyDelete
  64. "aadmeeyat se jisko matlab hai ,dekh lenaa vo akelaa hogaa ,"
    "kal jo sapnaa thaa ,dekh lenaa kal hakeekat hogaa "
    "Hai kunvar soch ye aashaavaadi, dekh lenaa fir saveraa hogaa ..."
    bahut dhaardaar ,painaa likhten hain ,jaise kaiktasa hi kaiktas hain har simt.
    badhaai kunvar kusumeshji
    veerubhai

    ReplyDelete
  65. बहुत खूबसूरत बात कही है कुँवर जी...बधाई...।
    प्रियंका

    ReplyDelete